Umbrella Making Business Information In Hindi.

Umbrella Making Business Information In Hindi.

India में Umbrella Making business सामान्य तौर पर असंगठित क्षेत्रों द्वारा किया जाता है, भारत जैसे देश में आने वाले वर्ष 2017 तक इसकी मांग 4634 tones projected है, जो लगभग 2317000 छातों की इकाई के बराबर है | Umbrella का Use जहाँ बरसात से बचने के लिए बरसात के मौसम में अधिक होता है, वहीँ गर्मियों में तेज धूप से बचने के लिए भी इसका उपयोग किया जाता है | Umbrella अर्थात छाता पूरे विश्व में धूप और बरसात से बचने हेतु बहुत बड़े पैमाने पर उपयोग में लायी जाने वाली एक साधारण सी वस्तु है | Umbrella Making business start करने में कुछ Hand Tools, Sewing Machine इत्यादि की आवश्यकता होती है इसलिए इस बिज़नेस को Low Investment यानिकी बहुत कम पूंजी निवेश करके Start किया जा सकता है | खैर इस बिज़नेस में आने वाले खर्चे और कमाई की बात हम अपनी प्रोजेक्ट रिपोर्ट नामक श्रेणी में भविष्य में करेंगे |

Umbrella-Making-business

Umbrella Making Business Kya hai:

Umbrella की यदि हम बात करें तो यह एक छोटा सा पोर्टेबल अर्थात अपने साथ ले जाने योग्य वस्तु है | इसकी Canopy यानिकी शामियाना एक फ्रेम जिसमे अगल बगल से पतली Ribs एवं बीच में एक पोल होता है जो गोलाकार Convex आकृति में होता है से जकड़ा हुआ होता है | इसे आसानी से खोला एवं बंद किया जा सकता है, जो मौसम में होने वाले परिवर्तनों जैसे बरसात एवं धूप से बचाता है | छाता या तो हाथ से खोलने वाला हो सकता है या फिर आटोमेटिक खुलने वाला, यद्यपि मार्किट में विभिन्न प्रकार के छाते उपलब्ध हैं इनमे मुख्य रूप से एक प्रकार के छाते वो होते हैं जिन्हें समुद्र के किनारे अर्थात Beaches में उपयोग में लाया जाता है, ये अन्य छातों के मुकाबले आकार में बड़े होते हैं, दूसरी श्रेणी में ऐसे छाते आते हैं जिनका उपयोग किसी होटल, रिसोर्ट, ढाबा या Bars के बाहर किया जाता है | तीसरी श्रेणी में वह छाते आते हैं जो व्यक्तियों द्वारा चलते समय बरसात या धूप से बचने के उपयोग में लाये जाते हैं | Umbrella Making Business से हमारा तात्पर्य उपर्युक्त प्रकार के छातों को बनाकर उन्हें मार्किट में बेचकर अपनी कमाई करने से है |

Market Potential In Umbrella Making :

Umbrella अर्थात छाता उपयोग में लायी जाने वाली कोई ऐसी वस्तु नहीं है जिसका उपयोग किसी विशिष्ट क्षेत्र में होता है अपितु यह एक ऐसी वस्तु है जिसका उपयोग सर्वत्र नगरों, महानगरों, ग्रामीण इलाकों में निवासित सभी लोगों द्वारा किया जाता है | यही कारण है की इसकी मांग की भरपाई भी दोनों तरीको Domestic Production और बाहरी देशों से आयात करके भी की जाती है | छातों का अधिकतम आयात चीन से किया जाता रहा है, एक आंकड़े के मुताबिक इंडिया में सन 2006 में 2213702 tones छाते आयात किये गए, इनमे 90% तक छाते सिर्फ चीन से आयात किये गए | उपर्युक्त दिए गए आंकड़ों से स्पष्ट है की हमारे देश में Umbrella Making Business में अपार संभावनाएं है, यह आयात इसलिए नहीं हुआ की चीन भारत में सस्ते छाते बेच रहा था बल्कि यह आयात इसलिए हुआ है क्योकि भारत में छातों की मांग के अनुरूप इनका उत्पादन नहीं हो रहा था | इसलिए कहा जा सकता है की सिर्फ अपने देश की छातों सम्बन्धी मांग को पूरा करने हेतु Umbrella Making Business के लिए Market का रुख सकारात्मक है |

Required Machinery and Raw Materials:

यद्यपि छोटे पैमाने पर Umbrella Making business करने के लिए अर्थात छोटे छाते जिनका उपयोग लोग इधर उधर जाने के लिए करते हैं को बनाने के लिए कुछ मशीनों एवं Hand tools की आवश्यकता होती है, | जिनकी लिस्ट कुछ इस प्रकार से है | इसमें लगभग छाता बनाने का बना बनाया सामान कच्चे माल के रूप में मार्किट से खरीदा जा सकता है |
·         Sewing Machine (सिलाई मशीन)
·         Scissors (कैंची)
·         Chisel (छेनी)
·         Hammer (हथौड़ी)
·         stamping block
·         punches, measuring tape (tailors) इत्यादि
·         Racks, cutting table इत्यादि |
इसके अलावा बड़े पैमाने पर अर्थात छाते बनाने संबंधी सभी प्रकार के Process In House करने के लिए अर्थात छातों का निर्माण करने के लिए विभिन्न प्रकार की Machinery की आवश्यकता हो सकती है जिनकी लिस्ट निम्नवत है |

·         Rib making machine (रिब बनाने की मशीन)

·         Power press (पॉवर प्रेस)

·         Wire cutting machine (तार काटने की मशीन)

·         Blower (ब्लोअर)

·         Eyelet press (सुराख़ करने की प्रेस)

·         Electroplating plant

·         Shearing machine(कतरने की मशीन)

·         Rolling machine (रोलिंग मशीन)

·         Welding machine (वेल्डिंग करने की मशीन)

·         Buffing machine  (घिसाई पोलिश करने की मशीन)

·         Grinder.

·         Tube cutter

·         Tube settles

·         Tube straightening machine (ट्यूब सीधे करने की मशीन)

·         Beach drilling machine (समुद्र तट पर ड्रिल करने वाली मशीन)

·         Tube points

·         Hook making unit (हुक बनाने की इकाई)

·         Color mixer  (रंग मिश्रण मशीन)

·         Scrap grinds

·         Injection mould machine

·         Electric oven

·         ABS electro plating plant

·         Spring making machine (स्प्रिंग बनाने की मशीन)

·         Sewing machine (सिलाई मशीन)

·         Cloth cutting frame (कपड़ा काटने की मशीन)

Market से बने बनाये Raw Material को उपयोग में लाकर बनाये जाने वाले छातों में लगने वाले Raw Materials की लिस्ट कुछ इस प्रकार से है |
·         Steel Ribs
·         Plastic handles – various designs (विभिन्न प्रकार के प्लास्टिक के हैंडल)
·         Steel tubes (chrome plated) (स्टील की ट्यूब)
·         Ferrule caps
·          Notches
·         Runners
·         Spring ball cups
·         Water proof cloth
·         Testing equipments (टेस्ट करने के उपकरण)
जबकि सम्पूर्ण प्रक्रियाएं In House करने में लगने वाले सभी प्रकार के छातों के निर्माण में उपयोग में आने वाले Raw Materials की List  कुछ इस तरह से है |
·         Mild steel sheets and strips Spring steel (स्टील शीट)
·         wire Semi-hard steel  (स्टील मिश्रित तार)
·         strip Mild steel wires (हलके स्टील के तार की पट्टी)
·         Nylon cloth  (नायलॉन का कपडा)
·         Plastic granules (प्लास्टिक के दाने)
·         Eyelets Sewing thread (सिलाई धागा)
·         Electro-plating chemical (केमिकल)
·         Corrugated paper box (गत्ते के बॉक्स)

Manufacturing Process of Umbrella Making:

सबसे पहले Wire straightening and cutting machine की मदद से तार को आवश्यक लम्बाई के आधार पर काट दिया जाता है | यह मशीन दो क्रियाएं तार को काटने और सीधे करने का काम  एक साथ कर रही होती है | तार के कट और सीधे हो जाने के बाद तार के सिरों को “horizontal head former Machine की मदद से चपटा कर लिया जाता है, उसके बाद चपटे तार के सिरों को पंच करके काज प्रकार के छेद कर लिए जाते हैं  | उसके बाद बड़ी तार के मध्य भाग को भी ठीक उसी प्रकार चपटा करके छेद कर लिया जाता है ताकि छोटी तार को उसमे आसानी से फिट कराया जा सके | अब इन कब्जों अर्थात काज जिनको जॉइंट पर तैयार किया गया है को अन्य काज के साथ फिट कराया जाता है | इन काजों में मुड़े हुए या गोलाकार आकृति के Circlips लगाये जाते हैं | इन पतले पतले तारों को संकलित कर लेने के बाद इनमे पोलिशिंग या पेंटिंग की जाती है | उद्यमी चाहे तो छाता बनाने वाले अन्य उद्यमियों को इन्हें इसी अवस्था में भी बेच सकता है, या फिर खुद ही पूर्ण रूप से छाता बना सकता है | Umbrella Manufacturing process में यह प्रक्रिया पूर्ण हो जाने के बाद उद्यमी को चाहिए की वह छाते के तारों के जाल को किसी पाइप के साथ संकलित करे, और उसके बाद Waterproof Cloth की आवश्यकतानुसार Cutting करके उसको तारों के जाल के साथ सिलाई करे, और फिटिंग का निरीक्षण करके छाते पर Handle लगाये | और उसके बाद उसको पैकिंग करके मार्किट में बेचकर अपनी कमाई करे |

Comments

  1. By vijay kumar cholkar

    Reply

  2. By Rupali Borawake

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: