एक्टर या अभिनेता नामक यह शब्द किसी परिचय का मोहताज नहीं है। क्योंकि वर्तमान में किशोरों एवं नौजवानों के जीवन में फिल्मों का बहुत जबरदस्त प्रभाव देखने को मिलता है । इसके अलावा अभिनेता या अभिनेत्रियों को फिल्म करने के बदले मिलने वाली मोटी रकम एवं उनका जीवन जीने की शैली भी किशोरों एवं नौजवानों को एक्टर या एक्ट्रेस बनने की ओर आकर्षित करती हैं। एक्टिंग एक ऐसा कैरियर विकल्प है जिसमें किसी व्यक्ति की सालों की मेहनत केवल एक दिन या रात में भी जलवा दिखा सकती है।

और व्यक्ति एक ही रात में सीधे फर्श से अर्श तक का सफ़र तय कर सकता है। कहने का अभिप्राय यह है की केवल एक फिल्म या भूमिका की सफलता ही व्यक्ति को रातों रात अभिनेता या अभिनेत्री बना सकती है। लेकिन भारत जैसे जनाधिक्य वाले राष्ट्र में अभिनेता या अभिनेत्री बनना आसान काम बिलकुल भी नहीं है क्योंकि यहाँ कदम कदम पर इतनी प्रतिस्पर्धा है की एक्टर बनने का इच्छुक व्यक्ति कभी भी लड़खड़ाकर गिर सकता है।

इसलिए अभिनेता या अभिनेत्री बनने के लिए भी व्यक्ति को कड़ी मेहनत, लगन एवं जूनून की आवश्यकता होती है। क्योंकि किसी भी व्यक्ति के लिए किसी फिल्म या नाटक में भूमिका पाना बड़ा कठिन होता है और उससे भी कठिन होता है उस निभाई गई भूमिका के माध्यम से लोगों के दिलों में जगह बनाना।

एक्टिंग में कैरियर बन जाने के बाद व्यक्ति को दौलत, शौहरत, इज्जत किसी की भी कमी नहीं रहती। यही कारण है की भारत में लाखों करोड़ों युवा अपने मन में एक्टर बनने का सपना संजोए उस ओर प्रयासरत भी रहते हैं। इसलिए आज हम हमारे इस लेख के माध्यम से अभिनेता या अभिनेत्री बनने की जानकारी देने वे हैं। ताकि एक्टिंग क्षेत्र में कैरियर बनाने के इच्छुक किशोर एवं युवा इसका लाभ ले सकें।

एक्टर  कैसे बनें

एक्टर बनने से पहले जानने योग्य बातें

भारतीय सिनेमा की बात करें तो इसमें सिर्फ बॉलीवुड नहीं है क्योंकि भारतवर्ष में प्रत्येक वर्ष लगभग 40 से अधिक भाषाओँ में 2000 से अधिक फिल्मों का निर्माण होता है। सरकारी सेंट्रल बोर्ड ऑफ़ फिल्म सर्टिफिकेशन के मुताबिक 2018 में मुंबई से 350 फिल्मे रिलीज़ हुई थी। इसके अलावा भारत में बली जानी अन्य भाषाओँ जैसे तेलुगु, तमिल, कन्नड़ इत्यादि में भी हर साल बड़ी मात्रा में फिल्में रिलीज़ होती हैं। इन सबके बावजूद बॉलीवुड को भारतीय सिनेमा का चेहरा माना जाता है वह इसलिए क्योंकि बॉलीवुड में हिंदी भाषा में फिल्मों का निर्माण होता है और भारत में हिंदी भाषा न सिर्फ राष्ट्र भाषा है।

बल्कि यह जन जन तक पहुँच रखने वाली भाषा भी है यही कारण है की एक्टर या एक्ट्रेस बनने के इच्छुक हर व्यक्ति का सपना बॉलीवुड में काम करने का होता है। कहने का अभिप्राय यह है की एक हिंदी फिल्म भारत के हर कोने तक पहुँचती है जिससे उसमें काम करने वाले अभिनेता या अभिनेत्री की एक्टिंग भी भारत के हर जनमानस तक पहुँचती है। यही कारण है की बॉलीवुड से जुड़े अनेकों अभिनेता राष्ट्रीय आइकॉन बन जाते हैं लेकिन क्षेत्रीय फिल्मों से जुड़े अभिनेता या अभिनेत्रियों को उस क्षेत्र विशेष के बाहर बेहद कम लोग ही जान पाते हैं।

बॉलीवुड में समय समय पर अनेकों टैलेंटेड अभिनेता एवं अभिनेत्रियों ने अपना योगदान इसके उत्थान में दिया है यही कारण है की यह आज भी भारत में फिल्म निर्माण का केंद्र बना हुआ है। इसलिए जब भी भारत में एक्टर या एक्ट्रेस बनने की बात होती है तो बॉलीवुड का जिक्र होना स्वभाविक है। इसलिए अभिनेता या अभिनेत्री बनने के इच्छुक व्यक्ति का यह जानना बेहद जरुरी है की वर्तमान में भारतीय सिनेमा का भी परिदृश्य बदल रहा है।

एक्टर कैसे बनें?

यद्यपि अभिनेता या अभिनेत्री बनने के लिए किसी प्रकार की शैक्षणिक योग्यता की आवश्यकता नहीं होती है यानिकी यदि व्यक्ति अनपढ़ या अशिक्षित भी हो तब भी वह एक्टर या Actress बन सकते हैं। यद्यपि ऐसे लोग जिनके भारतीय फिल्म इंडस्ट्री में सगे सम्बन्धी या गॉडफादर मौजूद हैं। उनको फिल्म इंडस्ट्री में काम मिलना तो आसान होता है लेकिन वे अभिनेता या अभिनेत्री बनेंगे या नहीं यह दर्शक डीसाइड करते हैं। इसलिए आम लोगों के लिए भी भारतीय सिनेमा में कैरियर बनाने के सारे द्वार खुले हुए हैं। तो आइये जानते हैं की कैसे भारत में कोई अभिनेता या अभिनेत्री बन सकते हैं।

1. एक्टर बनने के लिए प्रशिक्षण प्राप्त करें

जैसा की हम सबको विदित है की एक्टर बनने के लिए किसी डिग्री की आवश्यकता नहीं होती है बल्कि जिसके पास अभिनय करने की प्रतिभा है वह आसानी से अभिनेता या अभिनेत्री बन सकता है। लेकिन इसके बावजूद वर्तमान में एक्टिंग में कैरियर बनाने के लिए भी बहुत सारे डिग्री, डिप्लोमा एवं सर्टिफिकेट  पाठ्यक्रम मौजूद हैं। इनमें आर्ट एवं ड्रामा से बी. ए., डिप्लोमा और सर्टिफिकेशन कोर्स शामिल हैं। इस तरह के ये कोर्स व्यक्ति को एक्टिंग की कुछ आवश्यक जानकारी देने में मदद करेंगे।

इस तरह के ये पाठ्यक्रम व्यक्ति को दिमाग एवं शरीर को फ्री रखना, अवरोधों को दूर करना, दर्शकों का सामना करना इत्यादि सिखाते हैं। इसके अलावा व्यक्ति बॉडी लैंग्वेज, वॉयस मॉड्यूलेशन, कैमरा फेसिंग, मिमिंग, इमोशन और तौर-तरीके, सिनेमैस्कोप एवं अन्य विषयों के बारे में गहराई से जान पायेगा।

ताकि व्यक्ति प्रोफेशनल तरीके से एक्टर बनने के लिए खुद को स्थापित कर सके। कुछ मौजूदा सेलिब्रिटीज यानिकी अभिनेता उन लोगों को प्रशिक्षण भी ऑफर करते हैं जो भविष्य में अभिनेता या अभिनेत्री बनना चाहते हों। इसके अलावा कुछ स्कूल भी बच्चों को एड फिल्म एवं टेलिविज़न सीरियल के लिए तैयार करते हैं।

2. एक्टिंग को कैरियर के तौर पर गंभीरता से लें

एक्टर या एक्ट्रेस बनने के इच्छुक व्यक्ति को एक बात ध्यानपूर्वक समझ लेनी चाहिए की भले ही उसे अभिनय करने में कितना ही आनंद क्यों न आता हो लेकिन इसे टाइम पास इत्यादि के लिए न करें। बल्कि इसे गंभीरता से लें और इसमें कैरियर बनाने को लेकर तटस्थ रहें। अभिनय के क्षेत्र में व्यक्ति के सामने अवसरों की भरमार रहती है। लेकिन इसमें व्यक्ति को कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ता है और अपनी प्रतिभा को दिखाना पड़ता है।

हालांकि व्यक्ति के लिए किसी टीवी सीरियल या बॉलीवुड फिल्मों में छोटे मोटे रोल से भी अपने कैरियर की शुरुआत करना फायदेमंद हो सकता है। किसी रियलिटी शो, गेम शो या टीवी सीरियल में प्रवेश पाना अन्य की तुलना में आसान हो सकता है। हालांकि एक एक्टर बनने के लिए कोई सही उम्र नहीं होती है अर्थात अभिनय बचपन, किशोरावस्था, यौवन या बुढ़ापे में कभी भी किया जा सकता है।

जहाँ तक भूमिका की बात है व्यक्ति को उसके अनुभव, शारीरिक ढांचा एवं प्रतिभा के आधार पर कोई भी भूमिका मिल सकती है। किसी रियलटी शो या टीवी सीरियल में प्रमुख किरदार निभाने के अलावा कई अन्य किरदार जैसे साइड रोल, सपोर्ट रोल, फ्रेंड्स एवं फॅमिली रोल भी कैरियर की शुरुआत के लिए अच्छे विकल्प हो सकते हैं।

3. एक्टर बनने के लिए खुद का आकलन करें

एक्टर बनने के इच्छुक व्यक्ति का शारीरिक ढांचा आकर्षक होना चाहिए और शारीरिक ढांचे को बरकरार रखने के लिए व्यक्ति को निरंतर प्रयासरत रहना चाहिए। और फेसिअल एक्स्सरसाइज, योगा, आयुर्वेदिक ईलाज के माध्यम से इसे निरंतर बनाये रखने की कोशिश करनी चाहिए। अच्छी आवाज विकसित करें और खुशहाली पूर्ण प्रकृति विकसित करें।

इसके अलावा अभिनेता बनने के इच्छुक व्यक्ति को अधिक बोली जाने वाली भाषा का ज्ञान होना चाहिए हिंदी एवं अंग्रेजी भाषाएँ मदद कर सकती हैं। चूंकि एक अभिनेता को भूमिका के मुताबिक डायलाग बोलने की आवश्यकता होती है। इसलिए एक्टर बनने के इच्छुक व्यक्ति की याद करने की क्षमता अव्व्वल होनी चाहिए।

बहुत सारे ऐसे मौके भी आते हैं जब अभिनेता या अभिनेत्री को उनकी लाइन याद करने के लिए पर्याप्त समय नहीं दिया जाता है ऐसे के जल्दी याद करने की क्षमता बड़ी मददगार साबित होती है। इसलिए एक्टर बनने के इच्छुक व्यक्ति को खुद का आकलन करना चाहिए ताकि जो गुण या प्रतिभा उसमें विद्यमान नहीं हैं वह उन्हें खुद में विकसित कर सके।

4. रिजेक्शन इत्यादि के लिए तैयार रहें

एक्टर बनना कोई आसान बात बिलकुल भी नहीं है इसलिए जरुरी नहीं है की पहले ही मौके या कोशिश में व्यक्ति को काम मिलना शुरू हो जायेगा। बल्कि इसमें व्यक्ति इतनी बार रिजेक्ट हो सकता है की उसका खुद पर से विश्वास डगमगाने लग सकता है। इसलिए एक्टर या एक्ट्रेस बनने के इच्छुक व्यक्ति को खुद को कड़ी प्रतिस्पर्धा एवं रिजेक्शन के लिए तैयार रखना होगा इसके अलावा व्यक्ति के पास वित्तीय बैकअप का होना बहुत जरुरी है जो उसे उसकी लड़ाई लड़ने में मदद करेगा।

यह भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published

error: