यह बात तो आप भी अच्छी तरह जानते होंगे की प्लास्टिक हमारे पर्यावरण को दूषित करता है। लेकिन बीते कुछ दशकों में हमारे जीवन में प्लास्टिक का उपयोग काफी हद तक बढ़ गया है। वह भी खासकर ऐसे प्लास्टिक का जिसका इस्तेमाल हम केवल एक बार करते हैं, और उसके बाद उसे सड़कों पर कचरे की तरह फेंक देते हैं।

यह सड़कों पर कचरे की तरह फेंका हुआ प्लास्टिक हमारे पर्यावरण पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है। क्योंकि यह मिटटी के अन्दर भी कई वर्षों तक ज्यों का त्यों पड़ा रहता है, जिससे भूमि की उपजाऊ क्षमता कम और मृदा प्रदूषण का खतरा बढ़ जाता है।

1 जुलाई 2022 से भारत में सिंगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। यह बाज़ार में उपलब्ध सिंगल यूज प्लास्टिक को विनियमित करने का पहला और बढ़िया प्रयास है। लेकिन यह कहना भी गलत होगा की 1 जुलाई के बाद भारत के बाज़ारों में सिंगल यूज प्लास्टिक दिखेंगे ही नहीं।

बल्कि इसके बाद भी कोल्ड ड्रिंक और पानी की प्लास्टिक की बोतलें बाज़ार में बिकनी जरी रहेंगी। जबकि देखा जाय तो इन बोतलों का इस्तेमाल भी केवल एक बार के लिए ही किया जाता है, इसलिए ये भी Single Use Plastic की श्रेणी में ही आती हैं।

लेकिन भारत सरकार ने अभी सिंगल यूज प्लास्टिक की श्रेणी में से केवल 19 वस्तुओं की पहचान करके उन पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया है। हालांकि सिंगल यूज प्लास्टिक कमोडिटी की लिस्ट बेहद लम्बी है । 1 जुलाई 2022 से जिन प्लास्टिक की वस्तुओं पर प्रतिबंध लगाया गया है, इनमें कई ऐसी वस्तुएँ भी हैं जिनका इस्तेमाल आप अपनी रोजमर्रा की जिन्दगी में करते थे।

ban on single use plastic

अब जब वे वस्तुएँ आपको बाज़ार में नहीं मिलेंगी तो आपको परेशानी हो सकती है। इसलिए आज हम आपको उन वस्तुओं के न मिलने पर उनके वैकल्पिक वस्तुओं के बारे में बताएँगे। लेकिन उससे पहले यह जान लेते हैं की 1 जुलाई 2022 से किन किन प्लास्टिक की वस्तुओं पर प्रतिबंध लग चुका है ।

सिंगल यूज प्लास्टिक कमोडिटी में प्रतिबंधित वस्तुएँ   

  1. कान साफ़ करने वाले इयरबड जिनमें प्लास्टिक की छड़ी यूज हुई हो।
  2. गुब्बारों के लिए इस्तेमाल में लायी जाने वाली प्लास्टिक की छड़ें।
  3. प्लास्टिक के झंडे।
  4. प्लास्टिक से निर्मित कैंडी की छड़ें।
  5. आइस क्रीम छड़ें जो प्लास्टिक से बने हों।
  6. सजावट के इस्तेमाल में लाया जाने वाला थर्माकोल।
  7. प्लास्टिक से निर्मित प्लेट।
  8. प्लास्टिक के कप।
  9. प्लास्टिक से निर्मित गिलास।
  10. फोर्क जिन्हें प्लास्टिक से बनाया गया हो।
  11. प्लास्टिक से निर्मित चम्मच।
  12. केक इत्यादि काटने के लिए प्लास्टिक से निर्मित चाकू।
  13. तरल पीने के लिए प्लास्टिक से निर्मित स्ट्रा।
  14. प्लास्टिक से निर्मित ट्रे।
  15. Stirrers जो प्लास्टिक से बने हों।
  16. प्लास्टिक से निर्मित पैकेजिंग और रैपिंग शीट जिसे मिठाई के डिब्बों में इस्तेमाल में लाया जाता है ।
  17. पैकेजिंग और रैपिंग शीट जिसे निमंत्रण कार्ड में इस्तेमाल में लाया जाता है।
  18. पैकेजिंग और रैपिंग शीट जो सिगरेट के डिब्बे के चारों तरफ होती है।
  19. 100 माइक्रोन मोटाई से कम के प्लास्टिक और पीवीसी बैनर।
  20. 75 माइक्रोन मोटाई से कम के प्लास्टिक के केरी बैग (दिसम्बर 2022 से यह 120 माइक्रोन मोटाई तक बढ़ाया जाएगा) ।
  21. 60 GSM से कम नॉन वोवन प्लास्टिक।

विकल्प के तौर पर क्या उपयोग करें

एक जुलाई से प्रतिबंधित प्लास्टिक आइटम में कई ऐसे आइटम हैं जिनका इस्तेमाल आप नियमित तौर पर करते होंगे। तो आइये जानते हैं उनके प्रतिबंधित होने पर आप उनके बदले क्या इस्तेमाल में ला सकते हैं ।

  • 75 माइक्रोन से कम मोटाई वाले कैरी बैग प्रतिबंधित कर दिए गए हैं । आप इनके बदले कपड़े से निर्मित थैले इस्तेमाल कर सकते हैं। कुछ भी सामान खरीदने के लिए जाने से पहले घर से कपड़े का थैला लेकर चलें। इससे आपका जीवन आसान हो सकता है।
  • प्लास्टिक छड़ी वाले इयर बड भी बैन कर दिए गए हैं, इनके बदले आपको बाज़ार में लकड़ी की छड़ी वाले इयर बड आसानी से मिल जाएँगे।
  • प्लास्टिक से निर्मित झंडे और गुब्बारों की छड़ी को भी प्रतिबंधित कर दिया गया है। गुब्बारों की छड़ें लकड़ी से भी निर्मित हो सकती हैं और प्लास्टिक के झंडे के बदले कपड़े से निर्मित झंडे का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • यदि आप कोई उद्यमी हैं जो कैंडी बनाने और आइसक्रीम बनाने का व्यापार करते हैं। तो आप प्लास्टिक स्टिक के बदले लकड़ी की स्टिक का इस्तेमाल इनमें कर सकते हैं।
  • प्लास्टिक की की प्लेट कटोरी इत्यादि के बदले पत्तों से निर्मित दोना पत्तल का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • चूँकि प्लास्टिक के गिलास और कप को भी प्रतिबंधित कर दिया गया है, इसलिए कागज़ से निर्मित कप और गिलास या फिर मिटटी से निर्मित कुल्हड़ का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • जहाँ तक बात प्लास्टिक से निर्मित चम्मच, फोर्क बर्थ डे नाइफ का है बाज़ार में इनके विकल्प लकड़ी से निर्मित पहले से मौजूद हैं।
  • प्लास्टिक स्ट्रॉ की जगह पेपर स्ट्रॉ का इस्तेमाल किया जा सकता है। और चीनी मिक्स करने वाली प्लास्टिक स्टिक की जगह भी धातु या लकड़ी से निर्मित स्टिक का इस्तेमाल कर सकते हैं।             

उद्योग क्या कहते हैं

जैसा की हम सब जानते हैं की प्लास्टिक की चीजें सिर्फ प्लास्टिक उद्योग से नहीं बल्कि फ़ास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड्स से भी जुड़ी हुई हैं । इसलिए जो भी वस्तुएँ 1 जुलाई 2022 से प्रतिबंधित हैं उनमें सबसे ज्यादा यदि किसी वस्तु को प्रतिबंधित करने का विरोध किया जा रहा है, वह है प्लास्टिक से निर्मित स्ट्रॉ ।

प्लास्टिक उद्योग के अलावा अन्य उद्योग जैसे पारले एग्रो, अमूल, डाबर, पेप्सिको और ऑल इंडिया प्लास्टिक मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन (एआईपीएमए) इत्यादि इनका विकल्प तैयार करने के लिए सरकार से 6 से बारह महीनों का समय और माँग रही है। उनका कहना है की इन चीजों के प्रतिबंध से उनके पैकेजिंग लागत बढ़ जाएगी। वह भी तब जब उन्होंने इसके विकल्प तक के बारे में नहीं सोचा है।

यह भी पढ़ें  

Leave a Reply

Your email address will not be published