Bed Sheet and Pillow cover making business की बात तो हम कर ही रहे हैं लेकिन इससे पहले आपको अपने आपसे कुछ प्रश्न करने पड़ सकते हैं जैसे आपने अपनी जिन्दगी में कितने घर देखे होंगे? या अपने पास पड़ोस में कोई ऐसा देखा है जिसके पास घर नहीं है तो अधिकतर लोगों का जवाब होगा की उन्होंने अपनी जिन्दगी में हजारों लाखों घर देखे हैं |

और उन्होंने अपने आस पास ऐसा कोई व्यक्ति नहीं देखा है जो बिना घर के (इसमें किराये के घर, अपना घर, झुग्गी झोपड़ी इत्यादि सभी सम्मिलित हैं ) अपनी जिन्दगी गुज़र बसर कर रहा हो |

कहने का आशय यह है की भारत दुनिया में जनसँख्या की दृष्टी से दूसरा सबसे बड़ा देश है और यहाँ हर व्यक्ति को रहने के लिए घर की आवश्यकता होती है और किसी भी घर में बेडरूम यानिकी शयनकक्ष एक बहुत महत्वपूर्ण कमरा होता है | इसलिए अक्सर लोगों की यही तमन्ना होती है की उनके बेडरूम में उपयोग में लाये जाने वाला बेड कवर एवं तकिये के कवर उनके बेडरूम के इंटीरियर से मेल खाते हों ताकि वे बेहद अच्छे दिखें |

bed-sheet-and-pillow-cover

Bed Sheet and Pillow cover बनाने का बिजनेस क्या है:

वर्तमान में देश में जितने घरों की संख्या है उसके तिगुने चौगुने बेडरूमों की संख्या होगी और इन बेडरूम को सजाने के लिए आवश्यक बेड कवर एवं तकिये के कवरों की संख्या कई गुना अधिक होगी | बेड शीट एवं तकियों के कवर की आवश्यकता एक ऐसी आवश्यकता है जिसे नज़रंदाज़ नहीं किया जा सकता हाँ यह अलग बात है की कुछ लोग कुछ भी रंग की Bed Sheet and Pillow cover खरीद लेते हैं तो कुछ लोगों द्वारा अपने बेडरूम के इंटीरियर के हिसाब से ही इन्हें ख़रीदा जाता है |

इसके अलावा यह भी सत्य है की कुछ के द्वारा सस्ती  Bed Sheet and Pillow cover को ख़रीदा जाता है तो कुछ के द्वारा महंगी लेकिन सच्चाई यह है की इनकी खरीदारी हर सामाजिक आर्थिक तौर पर बंटे वर्ग द्वारा किया जाता है | इन्हीं सब आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर जब किसी उद्यमी द्वारा व्यवसायिक तौर पर इन्हें बनाने का काम किया जाता है तो उस उद्यमी द्वारा किया जाने वाला यह बिज़नेस Bed Sheet and Pillow cover making business कहलाता है |

बेड शीट और तकिये के कवर की बिक्री संभावना

जहाँ तक Bed Sheet and Pillow cover के उपयोग की बात है मनुष्य इनका उपयोग अपने बेडरूम को एक आकर्षक एवं साफ़ सुथरा लुक देने के लिए करता है यही कारण है की वह इन पर कितने पैसे खर्च होते हैं इस बात से भी कम ही गुरेज करता है |

इसके लावा एक घर में एक नहीं अपितु कई कई बेडरूम होते हैं और एक बेडरूम में हमेशा एक जोड़े ही Bed Sheet and Pillow cover नहीं चल सकते इसलिए एक बेडरूम के लिए ही लोग कम से कम 3-4 जोड़ी Bed Sheet and Pillow cover खरीद के रखते हैं ताकि गन्दी होने पर वे उन्हें आराम से बदल सकें |

बाज़ार में इनकी मांग केवल अपर क्लास द्वारा ही नहीं की जाती है बल्कि मिडिल क्लास द्वारा भी Bed Sheet और तकियों के कवर का बहुतायत तौर पर उपयोग किया जाता है | यद्यपि यह देखने में अवश्य आया है की ग्रामीण इलाकों के मुकाबले में शहरों में इनकी डिमांड अधिक रहती है क्योंकि शहरों में रहने वाले लोग इन्हें जल्दी जल्दी बदलते हैं |

इसलिए बड़े शहरों जैसे दिल्ली, कोलकाता, चेन्नई, मुंबई इत्यादि में इनकी हमेशा डिमांड बनी रहती है इसके अलावा उद्यमी चाहे तो अपने उत्पाद को बाहर देशों की तरफ निर्यात भी कर सकता है | क्योंकि इंडियन बेड शीट की जर्मनी, अमेरिका, कनाडा, इंग्लैंड इत्यादि देशों में भारी डिमांड है |

आवश्यक मशीनरी एवं उपकरण:

Bed Sheet and Pillow cover making business में प्रयुक्त होने वाले मशीनरी एवं उपकरणों की लिस्ट कुछ इस प्रकार से है |

  • सभी उपकरणों के साथ पाँव से चलने वाली सिलाई मशीन
  • मोटर एवं अन्य उपकरणों के साथ डबल नीडल स्टिचिंग मशीन
  • मोटर एवं उपकरणों के साथ फ्लैट लॉक स्टिचिंग मशीन
  • मोटर एवं उपकरणों के साथ Embroidery machine
  • टेस्टिंग उपकरण

Bed Sheet and Pillow cover making business में प्रयुक्त होने वाले मुख्य कच्चे माल की लिस्ट कुछ इस प्रकार से है |

  • विभिन्न डिजाईन ,शेड, रंग का कॉटन इत्यादि का कपडा
  • पैकिंग मटेरियल के साथ साथ एम्ब्रायडरी धागा और अन्य उपकरण

Manufacturing Process of Bed Sheet and Pillow cover :

जैसा की हम सबको विदित है की इस Bed Sheet and Pillow cover making business में प्रयुक्त होने वाला मुख्य कच्चा माल विभिन्न डिजाईन, शेड, रंग इत्यादि का कपडा है जो बाज़ार में कॉटन, टेरीकॉट इत्यादि में उपलब्ध रहता है |

इसलिए इस बिज़नेस में सर्वप्रथम उद्यमी द्वारा स्थानीय मार्किट से कपडा ख़रीदा जाता है और उसके बाद उसका निरिक्षण करके के लिए उसे टेबल पर रखकर जांचा जाता है | जब कपडे में कोई कमी नज़र नहीं आती है तो उसे चादर या तकिये के कवर के अनुसार काट लिया जाता है | उसके बाद उसे डिजाईन के मुताबिक सिल दिया जाता है और उसमे एम्ब्रायडरी इत्यादि करके मार्किट में बेचकर कमाई की जाती है |

यह भी पढ़ें

One Response

  1. Avatar for हरिसिंह हरिसिंह

Leave a Reply

Your email address will not be published