ब्लॉगिंग क्या है खुद का ब्लॉग कैसे शुरू करें। Blogging information in Hindi.

हालांकि Blogging पर हमने अपनी इस वेबसाइट पर संक्षिप्त रूप से ही सही, पहले भी बात की है, लेकिन आज इस लेख के माध्यम से हम इस विषय पर विस्तृत तौर पर वार्तालाप करेंगे । वर्तमान में यदि ऑनलाइन पैसे कमाई करने की बात होती है तो इनमें Blogging के जरिये और यूट्यूब चैनल बनाकर पैसे कमाई करने की बात अवश्य होती है। हालांकि वर्तमान में इन्टरनेट पैक सस्ते होने के कारण कहें, लोगों की रूचि विडियो में अधिक होने के कारण कहें, या फिर गूगल का यूट्यूब को प्रमोट करने के कारण कहें । कारण जो भी हों लेकिन सच्चाई यह है की वर्तमान में गूगल द्वारा लिखने से ज्यादा विडियो को महत्व दिया जाने लगा है । इसलिए ब्लॉगिंग से ज्यादा यूट्यूब ऑनलाइन कमाई करने का एक बेहतर साधन बन गया है । लेकिन आज भी ब्लॉगिंग के माध्यम से लोग न सिर्फ पैसे कमा रहे हैं बल्कि अपने सपनों को भी पूरा कर रहे हैं। और जैसा की हम सब जानते हैं की ऐसा कोई भी वैध साधन जिससे कमाई संभव है का जिक्र हम अपनी इस वेबसाइट पर अवश्य करते हैं। हम यह तो नहीं कहेंगे की ब्लॉगिंग शुरू करने के कुछ दिनों बाद ही व्यक्ति की अच्छी खासी कमाई होने लगेगी लेकिन इतना जरुर है की यदि Blogging करने वाला व्यक्ति अपने ब्लॉग के माध्यम से गुणवत्तायुक्त, अच्छी, सच्ची एवं प्रमाणिक जानकारी दे तो एक न एक दिन वह अपने ब्लॉग से कमाई कर पाने में अवश्य सफल होगा । आज हम हमारे इस लेख के माध्यम से न सिर्फ ब्लॉगिंग क्या है और यह कैसे शुरू की जाती है? पर बात करेंगे। बल्कि कुछ अपने द्वारा महसूस किये गए साक्षात अनुभवों का भी चित्रण करेंगे। यद्यपि हमारे द्वारा लिखा जाने वाला यह लेख हमारे 3-4 सालों के ब्लॉगिंग अनुभव पर ही आधारित है, इसलिए हो सकता है की दी जाने वाली जानकारी में कहीं पर सैद्धांतिक रूप से कुछ कमी हो। लेकिन व्यवहारिक तौर पर दी जाने वाली जानकारी हर स्तर पर खरी उतरेगी।

Blogging-kya-hai kaise shuru kare

ब्लॉगिंग क्या है (What Is Blogging in Hindi):

एक ब्लॉग को वर्ल्ड वाइड वेब (WEB)  पर प्रकाशित कोई चर्चा या सूचना भी कह सकते हैं। सरल शब्दों में कहें तो एक ऐसी वेबसाइट जिसमें नियमित तौर पर कोई चर्चा या सूचना प्रकाशित होती हो को ब्लॉग कह सकते हैं। एक ब्लॉग वर्ल्ड वाइड वेब पर उपलब्ध किसी वेबसाइट पर स्थित एक ऑनलाइन डायरी या एक पत्रिका है। एक ब्लॉग की सामग्री में लगभग वे सभी ऑनलाइन सामग्री शामिल हैं जो वर्तमान में चल रहे हैं इनमें टेक्स्ट, चित्र, विडियो, एनिमेटेड GIF, Scan Documents इत्यादि शामिल हैं। चूँकि एक ब्लॉग किसी भी टॉपिक पर हो सकता है इसलिए ये व्यवसायों को विज्ञापन देने, ग्राहकों को शिक्षित करने, शेयरधारकों को सूचित करने एवं सामुदायिक बातचीत को प्रेरित करने में मदद करते हैं। इसलिए साधारण शब्दों में Blogging का अर्थ वर्ल्ड वाइड वेब के माध्यम से किसी भी विषय पर लोगों को सूचना या जानकारी देने से है । आम तौर पर लोग ब्लॉग अपने ज्ञानवर्धन एवं जानकारी के लिए पढ़ते या देखते हैं ।

ब्लॉगिंग के फायदे (Benefits of Blogging in Hindi):  

Blogging शुरू करके कमाई करने में तो उद्यमी को एक लम्बा समय लग सकता है, या फिर नहीं भी लग सकता है । लेकिन ब्लॉगिंग शुरू करके व्यक्ति को न केवल आर्थिक रूप से फायदा होता है बल्कि और भी कई ऐसे व्यक्तिगत एवं व्यवसायिक फायदे हैं, जो Blogging शुरू करके व्यक्ति को हो सकते हैं।

  • ब्लॉगिंग के माध्यम से कोई भी व्यक्ति अपनी एक ऑनलाइन पहचान बना सकता है और लोगों के बीच विश्वास स्थापित कर सकता है ।
  • ब्लॉगिंग का दूसरा सबसे बड़ा फायदा यह होता है की इसमें व्यक्ति हमेशा नई नई चीजें सीखते रहता है । वह इसलिए क्योंकि अपने ब्लॉग के विषय के अनुरूप कुछ भी लिखने से पहले उसे उस चीज को सबसे पहले स्वयं समझना होता है।
  • जैसा की हम सबको विदित है अभ्यास एकमात्र ऐसा तरीका है जो हमें किसी भी क्षेत्र में परिपक्व बनाता है। और हम जिस चीज को जितना अधिक करेंगे हम उसमें उतने ही माहिर होते जायेंगे। चूँकि Blogging में अधिकांश लिखने का काम होता है इसलिए ब्लॉग्गिंग करने से व्यक्ति का लिखने का कौशल विकसित हो सकता है।
  • जिस भाषा में व्यक्ति ब्लॉगिंग कर रहा होता है उस भाषा पर व्यक्ति की पकड़ मजबूत होती जाती है।
  • चूँकि Blogging शुरू करने के लिए व्यक्ति को अनेकों टूल्स, सिस्टम एवं टेक्निकल मेथड सीखने की आवश्यकता होती है। इसलिए इस दौरान व्यक्ति को टेक्निकल जानकारी प्राप्त हो जाती है।
  • ब्लॉगिंग के माध्यम से आप नए लोगों से जुड़ते हैं ।
  • यदि आपका काम और आपका टॉपिक लोगों द्वारा पसंद कर लिया जाता है तो आप अपने उस क्षेत्र के एक्सपर्ट बन सकते हैं अर्थात औरों की नजर में आप एक्सपर्ट के तौर पर उभर सकते हैं ।
  • जब Blogging में आप अपने टॉपिक या क्षेत्र पर एक्सपर्ट हो जाते हैं तो संभावना यह है की सम्बंधित इंडस्ट्री द्वारा आयोजित आयोजनों में आपको बोलने के लिए बुलाया जाय। आप चाहें तो बोलने के लिए फीस ले सकते हैं।
  • यदि आप और आपका ब्लॉग किसी पब्लिशर की नजर में आता है और उन्हें आपके लिखने की शैली पसंद आती है तो वे आपको अपने टॉपिक पर कोई किताब लिखने को कह सकते हैं । जिससे आप एक व्यवसायिक लेखक बन सकते हैं ।
  • Blogging व्यक्ति को कहीं से भी कभी भी काम करने की आजादी देती है और बॉस मुक्त जीवन जीने का लुत्फ उठाने में सहायक होती है ।

ब्लॉगिंग शुरू करने के लिए आवश्यक कौशल (Skills required to Start Blogging):

यद्यपि Blogging शुरू करने के लिए किसी प्रकार की औपचारिक शिक्षा का होना जरुरी नहीं है लेकिन चूँकि इन्टरनेट पर ज्यादा सामग्री अंग्रेजी में मौजूद है इसलिए ब्लॉगिंग करने वाले व्यक्ति को भले ही अंग्रेजी बोलनी न आये लेकिन पढ़ कर समझनी जरुर आनी चाहिए। और जिस भाषा में व्यक्ति Blogging शुरू करने वाला है उसमें तो उसे महारत हासिल होना चाहिए। अंग्रेजी का थोड़ा बहुत ज्ञान इसलिए जरुरी हो जाता है ताकि कहीं पर अटकने पर व्यक्ति इन्टरनेट पर सर्च करके उस समस्या का हल खुद ही ढूंढ सके । इसके अलावा कुछ अन्य प्रमुख कौशल जो एक ब्लॉगर में होने चाहिए की लिस्ट निम्नवत है ।

  • ब्लॉगिंग शुरू करने वाले व्यक्ति के पास लेखन का कौशल होना अति आवश्यक है क्योंकि ब्लॉगिंग सामन्यतया लेखन के इर्द गिर्द ही घुमती है। और ब्लॉगर को हमेशा ओरिजिनल सामग्री ही प्रोड्यूस करनी पड़ती है।
  • फोटो एडिट करने का कौशल भी अति आवश्यक है। कहने का आशय यह है की व्यक्ति को फोटो क्रॉप, रिसाईज, फॉर्मेट इत्यादि करना आना चाहिए।   
  • यद्यपि वर्तमान में वर्डप्रेस, जूमला इत्यादि कंटेंट मैनेजमेंट वेबसाइट के माध्यम से बेहद अच्छा ब्लॉग आसानी से बनाया जा सकता है। लेकिन इसके बावजूद Blogging शुरू करने वाले व्यक्ति को CSS और HTML की आधारभूत जानकारी का होना नितांत आवश्यक है।
  • एक अच्छे ब्लॉगर को अच्छा लेखक होने अलावा एक अच्छा पाठक अर्थात रीडर भी होना बेहद जरुरी है। क्योंकि किसी भी चीज की व्याख्या देने से पहले एक ब्लॉगर को ऑफलाइन या ऑनलाइन काफी सारी किताबें, लेख, ब्लॉग इत्यादि पढने की आवश्यकता हो सकती है । इसलिए Blogging के लिए रीडिंग स्किल भी बेहद जरुरी है।
  • भले ही आप कितना भी अच्छा लिखते हों, लेकिन यदि वह लेख सर्च इंजन के हिसाब से ऑप्टिमाइज़ नहीं किया होगा तो वह लोगों की पहुँच तक कम ही आ पायेगा। इसलिए एक ब्लॉगर को सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन का ज्ञान होना भी आवश्यक है।
  • हालाँकि इस लाइन में हम जिसके बारे में बात कर रहे हैं वह कोई स्किल नहीं है। लेकिन ब्लॉगिंग के लिए जरुरी है। Blogging शुरू करने के तुरंत बाद ही ब्लॉग पर ट्रैफिक आना शुरू नहीं हो जाता है। इसलिए ब्लॉगर को कुछ समय तक धैर्य बनाये रखने की आवश्यकता होती है।   

खुद का ब्लॉग कैसे शुरू करें? (How to Start Own Blog in Hindi):

वर्तमान में Blogging शुरू करना बेहद आसान काम है यही कारण है की अक्सर लोग बिना अपनी योग्यता एवं कौशल जाने लोगों की देखा देखी इसे शुरू तो कर देते हैं। लेकिन ज्यादा सफल इसलिए नहीं हो पाते हैं क्योंकि उन्होंने यह कार्य खुद का आकलन किये बिना शुरू कर दिया था। जी हाँ दोस्तों Blogging शुरू करने से पहले खुद का इसमें आवश्यक कौशल के आधार पर आकलन करें और यदि आप अपने आपको इस आकलन में कम पाते हैं। तो सबसे पहले अपने में उस कौशल को विकसित करने का प्रयास करें। और ध्यान रहे गंभीर ब्लॉगर Blogging में केवल कमाई करने के लिए नहीं अपितु लोगों को शिक्षित करने को उतरते हैं । इसलिए अपनी प्राथमिकता लोगों को कुछ प्रमाणिक जानकारी एवं सूचना देने का बनायें न की कमाई करने की । क्योंकि जब आप लोगों को सही एवं प्रमाणिक जानकारी देंगे तभी उनका विश्वास आप और आपके ब्लॉग पर बढेगा । खैर इसके बारे में हम एक अलग से लेख ब्लॉग्गिंग में सफल कैसे बनें? के अंतर्गत वार्तालाप करेंगे। लेकिन आइये जानते हैं की कैसे कोई व्यक्ति स्वयं का ब्लॉग शुरू कर सकता है ।

1. सबसे पहले टॉपिक का चुनाव करें (Select Your Blogging Topic):

एक ब्लॉगर को अपने टॉपिक के प्रति जूनून होना चाहिए, इसलिए Blogging शुरू करने वाले व्यक्ति को सर्वप्रथम यही राय दी जाती है की वह सर्वप्रथम इस बात का पता करे की उसकी रूचि का टॉपिक कौन सा है। ताकि वह आने वाले समय में अपनी इस रूचि को जूनून में बदल सके । इसलिए ब्लॉगिंग शुरू करने के लिए सबसे पहला कदम यही होना चाहिए की इच्छुक व्यक्ति ऐसे टॉपिक का चुनाव करे जिसमें उसकी रूचि हो और उसे लगता हो की उस विषय पर वह आसानी से लिख सकता है।

2. फ्री ब्लॉग या खुद के द्वारा होस्ट किया ब्लॉग:

Blogging Business शुरू करने वाले उद्यमी का अगला कदम इस बात का निर्णय लेने का होना चाहिए की वह फ्री का ब्लॉग शुरू करना चाहता है या कुछ पैसे निवेश करके खुद के द्वारा होस्ट किया हुआ ब्लॉग शुरू करना चाहता है । वर्तमान में बहुत सारे ऐसे ऑनलाइन मंच हैं जिनके माध्यम से कोई भी व्यक्ति मुफ्त में अपनी ब्लॉग्गिंग यात्रा शुरू कर सकता है इन मुफ्त मंचों में ब्लॉगर. कॉम, वर्डप्रेस.कॉम, टमब्लर.कॉम इत्यादि मंच उपलब्ध हैं। यदि उद्यमी स्वयं की ब्लॉग्गिंग यात्रा इन मुफ्त मंचों से शुरू करना चाहता है तो उसे इन वेबसाइट पर जाकर Sign Up करके आवश्यक दिशानिर्देश का अनुसरण करना होगा। और उसकी ब्लॉग्गिंग यात्रा यहीं से शुरू हो जाएगी, लेकिन यदि उद्यमी स्वयं द्वारा होस्ट ब्लॉग शुरू करना चाहता है तो उसे अगले कदम की और बढ़ना होगा।

3. टॉपिक के मुताबिक डोमेन नाम लें:  

जहाँ टॉपिक के मुताबिक डोमेन नाम उद्यमी को सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ करने में मदद करता है वहीँ एक अलग सा नाम उद्यमी के बिजनेस को एक अलग ही पहचान दिलाता है। इसलिए Blogging करने के इच्छुक उद्यमी को किसी ऐसे डोमेन नाम का चयन करना चाहिए जो सर्च इंजन के मुताबिक भी हो और यूनिक भी हो । जैसे यदि आप हेल्थ टॉपिक पर ब्लॉग बनाना चाहते हैं तो डोमेन के नाम में हेल्थ रहना सर्च इंजन की दृष्टी से उपयुक्त हो सकता है । लेकिन ब्लॉगिंग की दुनिया में ‘’Content is the king’’ कहा जाता है जो बिलकुल सही भी है। जहाँ तक डोमेन खरीदने की बात है उद्यमी किसी भी डोमेन रजिस्ट्रार जैसे गो डैडी इत्यादि से डोमेन खरीद सकता है। डोमेन नाम जितना यूनिक होगा उसके उतने ही सस्ते में मिलने की संभावना होती है।

4. वेब होस्टिंग खरीदें (Purchase Web Hosting):

डोमेन रजिस्टर करने के बाद स्वयं द्वारा होस्टेड Blogging शुरू करने के लिए वेब होस्टिंग की आवश्यकता होती है। वेब होस्टिंग प्रोवाइडर वेब सामग्री एवं फाइल रखने के लिए अपने सर्वर में उद्यमी को जगह प्रदान करवाते हैं। वेब होस्टिंग के कई प्रकार हो सकते हैं लेकिन शुरूआती दौर में ब्लॉग्गिंग शुरू करने के लिए शेयर होस्टिंग ही उपयुक्त रहती है । यद्यपि बहुत सारे ऐसे भी वेब होस्टिंग प्रोवाइडर है जो सीमित मात्रा में मुफ्त में भी होस्टिंग प्रदान करते हैं। लेकिन इनमें डाउनटाइम इत्यादि का खतरा हो सकता है इसलिए शुरूआती दौर में पेड शेयर्ड होस्टिंग प्लान ठीक रहता है। और जैसे जैसे आपके ब्लॉग पर ट्रैफिक बढ़ता है आप अपने होस्टिंग प्लान को अपग्रेड करा सकते हैं। भारत में भी एक नहीं बल्कि सैकड़ों वेब होस्टिंग प्रोवाइडर हैं उद्यमी थोड़ा रिसर्च करने के बाद यह निर्णय लेने में आसानी से सफल हो पायेगा की उसके लिए कौन सी कंपनी की होस्टिंग उपयुक्त रहेगी ।

5. डोमेन नेम सर्वर एड करें:

वेब होस्टिंग खरीदने के बाद होस्टिंग कंपनी द्वारा Blogging शुरू कर रहे व्यक्ति को ईमेल पर सभी डिटेल्स भेज दी जाती है। इनमें CPanel Login details के अलावा नेम सर्वर डिटेल्स भी रहती है। इसलिए अब जिस डोमेन रजिस्ट्रार से उद्यमी ने डोमेन खरीदा है अपनी Credential के माध्यम से लॉग इन करना होगा। और दी गई नेम सर्वर डिटेल्स वहाँ डालनी होगी । इस प्रक्रिया में Propagation होने में 0-24 घंटों का समय लग सकता है लेकिन नए डोमेन में आम तौर पर 1-2 घंटे या इससे भी कम समय लगता है। इसलिए उद्यमी को इसके बाद थोड़ा इंतजार करना चाहिए।

गो डैडी में नेम सर्वर एड करने की स्टेप बाई स्टेप जानकारी यहाँ दी गई है।

6. Cpanel Login करें और वर्डप्रेस इनस्टॉल करें:

वेब होस्टिंग कंपनी द्वारा जो Credential दिए गए हों उनके माध्यम से Blogging करने का इच्छुक उद्यमी Cpanel में लॉग इन कर सकता है ।  Cpanel में लॉग इन करने के बाद व्यक्ति सॉफ्टवेर सेक्शन से वर्डप्रेस इनस्टॉल कर सकता है । इसी वक्त व्यक्ति को वर्डप्रेस के लिए Credentials जैसे यूजर नाम, पासवर्ड इत्यादि सेट करने होते हैं।  सफलतापूर्वक वर्डप्रेस इनस्टॉल हो जाने के बाद व्यक्ति वर्डप्रेस में लॉग इन करके आसानी से अपने ब्लॉग का निर्माण कर सकता है। और अपना पहला लेख प्रकाशित कर सकता है। यदि उद्यमी को वर्डप्रेस की जानकरी नहीं है तो वह इसकी जानकारी इन्टरनेट के माध्यम से ले सकता है। इस विषय पर इन्टरनेट पर आर्टिकल एवं विडियो सभी कुछ उपलब्ध है।  

ब्लॉगिंग से कैसे होगी कमाई ( Earning From Blogging):

Blogging शुरू करने के लिए जो भी महत्वपूर्ण कदम थे उनका जिक्र हम उपर्युक्त वाक्यों में कर चुके हैं। और इन कदमों का अनुसरण करके कोई भी व्यक्ति खुद का ब्लॉग शुरू कर पाने में सक्षम हो जायेगा। लेकिन अक्सर लोग यह जानना चाहते हैं की वे ब्लॉग बनाकर खुद की कमाई कैसे कर सकते हैं। तो आपको बता देना चाहेंगे की शुरूआती कुछ दिनों या महीनों के लिए कमाई कैसे होगी? इस विषय को भूल ही जाएँ तो अच्छा रहेगा। शुरूआती दिनों या महीनों में उद्यमी का प्रयास सिर्फ अच्छी, प्रमाणिक जानकारी प्रकाशित करने का होना चाहिए। और स्वयं का धैर्य बनाये रखना चाहिए हालांकि सर्च इंजन द्वारा YouTube को ज्यादा महत्व देने एवं डाटा पैक सस्ते होने के कारण Blogging से कमाई करना थोड़ा मुश्किल जरुर हुआ है लेकिन असंभव नहीं। इसलिए धैर्य बनाये रखें और नियमित तौर पर अपने ब्लॉग पर ओरिजिनल यूजफुल सामग्री डालते रहें। ध्यान रहे आपकी सामग्री इन्टरनेट से इधर उधर से कॉपी की हुई नहीं होनी चाहिए। और जब आपके ब्लॉग पर एक दिन में लगभग 1000 Views आने लग जाएँ तो आप गूगल एडसेंस के लिए अप्लाई कर सकते हैं। इससे स्वीकृति मिल जाने के बाद आप इसके विज्ञापन अपने ब्लॉग पर लगा पाने में सफल हो पाएंगे। और यही विज्ञापन आपके ब्लॉग से कमाई करने के प्राथमिक स्रोत बनेंगे। हालांकि Blogging के माध्यम से कमाई करने के अन्य तरीके भी हैं लेकिन सबसे सुरक्षित, आसान एवं प्रभावी तरीका गूगल एडसेंस ही है। यद्यपि ब्लॉगिंग से कमाई करने के अन्य तरीकों के बारे में भी हम एक अलग से लेख के माध्यम से अवश्य बात करेंगे।

यह भी पढ़ें:

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य बिज़नेस, लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, बैंकिंग, कैरियर और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

One thought on “ब्लॉगिंग क्या है खुद का ब्लॉग कैसे शुरू करें। Blogging information in Hindi.

  1. सर् मुझे कीटनासक की दुकान खोलना है इसके लिए लाइसेंस कैसे मिलेगा और क्या क्या फार्मेलिटी रहेंगी इसके बारे में जानकारी देने की कृपा करें धन्यबाद

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *