केस रोल निर्माण व्यवसाय की जानकारी. Case Roll Manufacturing Business.

Case Roll की यदि हम बात करें तो इसका इस्तेमाल लोगों द्वारा विभिन्न प्रकार के भोजन जिसे गर्म रखना जरुरी होता है, के भण्डारण में इस्तेमाल में लाया जाता है । कहने का आशय यह है की यह एक खाद्य भण्डारण उत्पाद है जिसका इस्तेमाल प्रमुख तौर पर खाद्य पदार्थों को गर्म रखने या अपने तापमान को बनाये रखने के लिए किया जाता है। जैसा की हम सब जानते हैं की हमारे खानपान में ऐसे बहुत सारे खाद्य पदार्थ हैं जिन्हें गर्म खाने में स्वाद अधिक आता है और इनके ठंडा होने पर ये बासी एवं स्वादहीन लगने लगते हैं। इसलिए इन खाद्य पदार्थों को थोड़े समय के लिए गरम रखने के लिए Case Roll का इस्तेमाल किया जाता है। यह उपकरण तापमान जल्दी से कम न हो इसके लिए एक इन्सुलेट सामग्री का उपयोग करता है। इसलिए इस उत्पाद का इस्तेमाल भारतीय घरों में तो बड़े पैमाने पर होता ही होता है, बल्कि कई होटल एवं रेस्टोरेंट द्वारा भी इसका इस्तेमाल किया जाने लगा है। जैसा की हम सब अच्छी तरह से जानते हैं की हॉट केस से हमारा तात्पर्य ऐसे उत्पादों से होता है जो भोजन को अधिक समय तक गर्म रखने में सहायक होते हैं। इसलिए आज के व्यस्त जीवन में मनुष्य द्वारा हॉट केस का इस्तेमाल रसोई में तो किया ही जाता है इसके अलावा होटल, माल इत्यादि स्थानों पर भी किया जाता है। इन्ही हॉट केस के उत्पादों में Case Roll भी एक उत्पाद है। वैसे देखा जाय तो आम तौर पर भारतीय रसोई में इस उत्पाद का इस्तेमाल चपाती एवं गेहूं के आटे से बने अन्य खाद्य पदार्थों को और अधिक समय तक गर्म रखने के लिए किया जाता है। लेकिन इनके अलावा इसका इस्तेमाल व्यंजनों एवं खाद्य पदार्थों की एक विस्तृत श्रंखला जिन्हें गर्म करने की आवश्यकता होती है को भी संग्रहित करने के लिए भी किया जा सकता है। इसलिए घरों, होटलों, रेस्तरां में इसके व्यापक उपयोग देखे जा सकते हैं। ऐसे में Case Roll Manufacturing Business शुरू करना किसी भी इच्छुक व्यक्ति के लिए फायदेमंद हो सकता है ।

Case roll manufacturing business hindi

केस रोल की बिक्री संभावना (Market Potential of Case Roll):

जैसा की हम उपर्युक्त वाक्यों में भी स्पष्ट कर चुके हैं की Case Roll का इस्तेमाल घरों में तो व्यापक तौर पर किया जाता ही है साथ में होटल, रेस्तरां एवं अन्य छोटे भोजनालयों द्वारा भी किया जाता है। वर्तमान जीवनशैली की यदि हम बात करें तो संयुक्त परिवारों की जगह एकाकी परिवार हो गए हैं और उन एकाकी परिवार में भी पति एवं पत्नी दोनों जॉब वाले हो गए हैं। ऐसे में जो घर पहले आता है वही खाना बनाने की सोचता है और फिर उस खाने को हॉट केस में रख देता है ताकि बाद में घर के सभी सदस्य एक साथ खाना खा सकें। इसके अलावा कुछ घर ऐसे भी होते हैं जहाँ सभी सदस्य खाने के समय घर नहीं पहुँच पाते हैं ऐसे में जो सदस्य खाने के समय घर नहीं पहुँच पाते हैं उनके लिए खाना Case Roll या हॉट केस में रख दिया जाता है ताकि वह जल्दी से ठंडा न हो। इसलिए यह घरेलु तौर पर इस्तेमाल में लाये जाने वाला एक आम उत्पाद है जिसका इस्तेमाल लगभग प्रत्येक घर में होता है। इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखते हुए कहा जा सकता है की इस उत्पाद के लिए एक बड़ा एवं विस्तृत बाजार मौजूद है इसलिए इसकी बिक्री की संभावनाएं भी अधिक हैं।

आवश्यक कच्चा माल एवं मशीनरी

Case Roll Manufacturing बिजनेस शुरू करने के लिए उद्यमी को अनेकों मशीनरी एवं उपकरणों की आवश्यकता हो सकती है। जिन्हें खरीदने के लिए उद्यमी को लाखों रूपये व्यय करने की आवश्यकता हो सकती है, इसलिए मशीनरी एवं कच्चे माल की खरीदारी करने से पहले उद्यमी को किसी अच्छे सप्लायर का चुनाव करना अति आवश्यक है। अच्छे सप्लायर का चुनाव करने के लिए उद्यमी विभिन्न सप्लायर से कोटेशन मंगाकर उनका तुलनात्मक विश्लेषण कर सकता है और उसके बाद ही किसी सप्लायर का चुनाव कर सकता है। इस व्यवसाय में इस्तेमाल में लायी जाने वाली मशीनरी की लिस्ट इस प्रकार से है।

  • मिक्सर
  • इंजेक्शन मौल्डिंग मशीन
  • फोम मिक्सिंग और फिलिंग मशीन
  • शीट मेटल ब्लैंकिंग मशीन
  • डीप ड्राइंग हाइड्रोलिक प्रेस
  • ओवन
  • पफ एक्सपेंशन और इंजेक्शन मोल्डिंग के लिए विभिन्न मोल्ड
  • अन्य सहायक उपकरण   

Case Roll Manufacturing Business में इस्तेमाल में लायी जाने वाली कच्चे माल की लिस्ट इस प्रकार से है।

  • प्लास्टिक के दाने (पॉलीप्रोपाइलीन)
  • 2 MM की स्टेनलेस स्टील शीट
  • 2 पार्ट पीयूएफ (पॉलीयूरेथेन फोम) तरल   
  • पैकेजिंग सामग्री      

आवश्यक लाइसेंस एवं पंजीकरण

Case Roll manufacturing बिजनेस स्थापित करने के लिए उद्यमी को 800-1200 स्क्वायर फीट जगह की आवश्यकता हो सकती है । जहाँ तक आवश्यक लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन की बात है उनकी लिस्ट कुछ इस प्रकार से है।

  • सबसे पहले उद्यमी को अपने व्यवसाय को एक वैधानिक स्वरूप प्रदान करना होगा इसके लिए उद्यमी अपने व्यवसाय को प्रोप्राइटरशिप या वन पर्सन कंपनी के तौर पर रजिस्टर कर सकता है।
  • बिलिंग इत्यादि करने के लिए टैक्स रजिस्ट्रेशन या जीएसटी रजिस्ट्रेशन करने की भी आवश्यकता होगी।
  • बैंक में चालू खाता और व्यवसाय के नाम से पैन कार्ड इत्यादि की भी आवश्यकता हो सकती है ।
  • स्थानीय प्राधिकरण जैसे नगर निगम, नगर पालिका इत्यादि से ट्रेड लाइसेंस या फैक्ट्री लाइसेंस की भी आवश्यकता होगी।
  • अपने उद्यम को एमएसएमई के तौर पर पहचान दिलाने एवं विभिन्न सरकारी योजनाओं का फायदा लेने के लिए उद्योग आधार रजिस्ट्रेशन और एमएसएमई डाटा बैंक रजिस्ट्रेशन की भी आवश्यकता हो सकती है।
  • फायर डिपार्टमेंट से एनओसी, प्रदूषण विभाग से एनओसी और ब्रांड रजिस्ट्रेशन जैसे ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन इत्यादि की भी आवश्यकता हो सकती है।        

केस रोल निर्माण प्रक्रिया (Case Roll Manufacturing Process):

सबसे पहले उद्यमी द्वारा आवश्यक कच्चा माल खरीद लिया जाता है और इसे स्टोर रूम में स्टोर करने के लिए रख दिया जाता है। उसके बाद उत्पादन मांग के अनुसार स्टोर रूम से समय समय पर कच्चा माल निकाला जाता है। Case Roll Manufacturing Process में स्टील का हिस्सा एवं प्लास्टिक के पुर्जे एक साथ तैयार किये जाते हैं और इन्हें इन प्रोसेस इन्वेंटरी में संग्रहित करने के लिए रखा जाता है। केस रोल में इस्तेमाल में लाये जाने वाले प्लास्टिक के हिस्से जैसे आधार, बाहरी दीवार, ग्रिप हैंडल रिंग, ढक्कन टॉप और ढक्कन इत्यादि पॉलीप्रोपलीन से बनाये जाते हैं। इनका निर्माण के लिए पॉलीप्रोपलीन के दानों के साथ स्टेबलाइजर्स, त्वरक, रंग वर्णक इत्यादि आवश्यक मात्रा में मिक्सर में डाले जाते हैं मिक्सिंग से प्राप्त बैच को इंजेक्शन मौल्डिंग मशीन के हॉपर और फीडर अरेंजमेंट के माध्यम से इस मशीन में डाला जाता है। जहाँ इस मशीन में लगे हीटर इस मिश्रण को एक अर्ध ठोस अवस्था में पिघला देते हैं उसके बाद इस अर्ध ठोस मिश्रण को प्लास्टिक के सांचों में इंजेक्ट किया जाता है। और जिसके बाद इंजेक्शन मोल्डिंग  मशीन अपने चिल्लिंग यूनिट का इस्तेमाल करके इन सांचों को ठंडा करके ठोस आकार में परिवर्तित कर देती है। Case Roll Manufacturing Process में केस रोल के भीतरी तरफ लगने वाले धातु के हिस्से को स्टेनलेस स्टील शीट को आवश्यक माप में काटकर ब्लैंकिंग प्रेस मशीन के माध्यम से बनाया जाता है। सभी हिस्से बन जाने के बाद केस रोल के ढक्कन और नीचे के भाग को अलग अलग बनाया जाता है। नीचे का भाग प्राप्त करने के लिए इसे PUF मोल्ड में रखा जाता है और उस मोल्ड में आवश्यक मात्रा में PUF Liquid मिलाया जाता है उसके बाद उसमें केस रोल के साइड का हिस्सा एवं अन्य सहायक प्लास्टिक के हिस्से रख दिए जाते हैं और मोल्ड को बैंड कर दिया जाता है। उसके बाद इस सांचे को ओवन में रखा जाता है जिसके बाद कुछ समय के लिए ओवन का तापमान 45 से 60 डिग्री सेल्सियस बनाये रखने की आवश्यकता होती है ताकि फोम का उचित विस्तार हो सके। और इस प्रक्रिया के बाद सांचे को खोलकर Case Roll नामक बर्तन बाहर निकाल लिया जाता है। इसी तरह ढक्कन बनाने के लिए भी एक अलग सी PUF Mould का इस्तेमाल किया जाता है इसमें भी उसी प्रक्रिया को अपनाया जाता है जो प्रक्रिया केस रोल का आधार बनाने के लिए अपनाई गई थी।

यह भी पढ़ें

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य बिज़नेस, लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, बैंकिंग, कैरियर और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *