सरकार देश के निचले से निचले तबके तक सरकारी योजनाओं का लाभ पहुँचाना चाहती है। इसके लिए वह समय समय पर कई घोषणाएं और उपयुक्त कदम उठाती रहती है। इसी क्रम में देश के सहकारिता मंत्री अमित शाह में ऐलान किया है की सहकारी बैंकों से जुड़े ग्राहकों तक सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का फायदा देने के लिए उन्हें भी शीघ्र डायरेक्ट बेनिफिट ट्रान्सफर (DBT)  से जोड़ा जाएगा।

cooperative banks customer will get facility of DBT

विडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये कही ये बात

केन्द्रीय सहकारिता मंत्री अमित शाह ने विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से एक कार्यक्रम को संबोंधित करते हुए, सहकारी बैंकों के ग्राहकों को भी डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (DBT) से जोड़ने की बात कही है। उन्होंने एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा की, सरकार के लगभग 52 मंत्रालयों ने देश भर में 300 से अधिक योजनाओं के तहत लाभार्थियों तक डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के माध्यम से लाभ पहुँचाया है।

इसी क्रम में सहकारी बैंक के ग्राहकों को सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ देने के लिए जल्द ही इन्हें भी डायरेक्ट बेनिफिट ट्रान्सफर (DBT) से जोड़ दिया जाएगा। जिससे आने वाले समय में सरकार की सभी योजनाओं का लाभ सहकारी बैंक के ग्राहकों को भिमिल सके।

बैंकिंग क्षेत्र में हो रहे सुधार की सराहना की

देश के गृह मंत्री एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह ने माना की बैंकिंग क्षेत्र में पहले की तुलना में काफी सुधार हो रहा है। जिससे अधिक से अधिक देश के नागरिकों को बैंकिंग सेवाओं का लाभ मिल रहा है। उन्होंने कहा की प्रधान मंत्री जन धन योजना के तहत देश में 45 करोड़ से अधिक लोगों के बैंक खाते खुले। जिन्होंने कभी बैंक का परिसर नहीं देखा उन्होंने इस योजना के तहत अपना बैंक अकाउंट खोला।

और 32 करोड़ से अधिक लोग रुपे कार्ड का लाभ ले रहे हैं। यह सब प्रधानमंत्री के गरीबों के उत्थान के लिए लिया गया दृढ संकल्प का ही परिणाम है। आगे उन्होंने कहा की देश की आर्थिक प्रगति और समृद्धि में सहकारिता का अहम् योगदान रहा है और आगे भी रहेगा। इसके अलावा उन्होंने जन धन योजना की उपलब्धि पर बात करते हुए कहा की इस योजना के तहत खोले गए खातों में लेन देन का आंकड़ा एक ट्रिलियन डॉलर के आंकड़े को भी पार कर चुका है।

इसलिए सहकारिता क्षेत्र को डायरेक्ट बेनिफिट ट्रान्सफर से जोड़ने पर देश के नागरिकों को लाभ मिलेगा और सहकारिता क्षेत्र भी पहले की तुलना में अधिक मजबूत होगा ।

एग्रीकल्चर बैंकों ने लोगों को साहूकारों के चंगुल से बचाया

देश के गृह मंत्री और सहकारिता मंत्री अमित शाह ने गुजरात स्टेट को-आपरेटिव एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट बैंक को उसके 70 वर्ष पूर्ण होने पर बधाई दी। और कहा की देश में एग्रीकल्चर बैंकों का योगदान उल्लेखनीय रहा है।

इन्होने लोगों को साहूकारों के चंगुल के फँसने से बचाया है। आगे उन्होंने एग्रीकल्चर बैंकों की सराहना करते हुए कहा है की नाबार्ड और भारतीय रिज़र्व बैंक ने इनको विनियमित करने के लिए जो भी नियम एवं मापदंड बनाये हैं । इन्होंने उन नियमों एवं मापदंडों की अनदेखी किये बिना बहुत अच्छा काम किया है। इतना ही नहीं उन्होंने आगे कहा की जहाँ पहले 12 से 15 प्रतिशत ब्याज दरों पर लों मिलता था आज यह 10% हो गया है।

यह भी पढ़ें

क्या आप जानते हैं भारत में बिजनेस करने के लिए सबसे अच्छा माहौल किसा राज्य का है.

बैंकों ने फिक्स्ड डिपाजिट पर ब्याज दरें बढाई, जानिए आपका बैंक भी इनमें है या नहीं.

Leave a Reply

Your email address will not be published