फूल बेचने का व्यापार कैसे शुरू करें? How to Start a Flower Business in India.

यद्यपि Flower Business के अनेकों स्वरूप हो सकते हैं लेकिन यहाँ पर हम यह स्पष्ट कर देना चाहते हैं की यहाँ पर हम फूल बेचने के व्यापार से समबन्धित जानकारी देने का प्रयत्न कर रहे हैं। Flower Shop या फूलों की दुकान अर्थात बाजार में उपलब्ध एक ऐसा स्थान जहाँ से फूल खरीदे जा सकते हों, से शायद ही कोई अनभिज्ञ हो । जी हाँ दोस्तो फूलों का मनुष्य जीवन में अब से नहीं बल्कि सदियों से ही महत्वपूर्ण स्थान रहा है । यही कारण है की शायरों की शायरी में, कवियों की कविता में, रचनाकारों की रचना में, लेखकों के लेखन में इनका जिक्र मिलता ही मिलता है। वर्तमान में मानव जीवनशैली में हो रहे परिवर्तनों एवं लोगों की बढती कमाई के कारण लोग फूलों का इस्तेमाल अनेकों छोटे बड़े आयोजनों में करने लगे हैं। इनमें मुख्य तौर पर शादी, सालगिरह, जन्मदिन पार्टी इत्यादि ऐसे आयोजन होते हैं जिनमें सजावट एवं खुशबू के लिए लोग अधिकाधिक फूलों का इस्तेमाल करते हैं। इसके अलावा जन्म से लेकर मृत्यु तक फूलों को अनेकों शुभ एवं अशुभ दोनों अवसरों पर उपयोग में लाया जाता रहा है। पुष्पांजलि, श्रद्धांजलि ऐसे शब्द हैं जिनमें विभिन्न प्रकार के फूलों का इस्तेमाल किया जाता है। इसलिए वर्तमान में Flower Business शुरू करना कमाई की दृष्टि से उपयुक्त हो सकता है। फूल प्यार, स्नेह, एवं श्रृद्धा का प्रतीक रहे हैं यही कारण है की वर्तमान में लोग हर छोटे बड़े मौके पर अपने प्रियजनों को तोहफे के तौर पर फूलों का गुलदस्ता देना पसंद करते हैं। इन्हीं सब कारणों को मद्देनजर रखते हुए यदि आप भी Flower Business से कमाई करने के लिए उत्सुक हो रहे हैं। और जानना चाह रहे हैं की कैसे कोई फूलों की दूकान खोलकर कमाई कर सकता है, तो आपको हमारा यह लेख अंत तक अवश्य पढ़ना होगा।

flower-business-kaise-shuru-kare

फूलों का बिजनेस करने के फायदे (Benefits of Flower Business):

Flower Business का सबसे बड़ा फायदा तो यही है की इसकी माँग बाजार में हमेशा विद्यमान रहती है इसलिए वर्तमान में कमाई की दृष्टि से यह एक लाभकारी बिजनेस हो सकता है। लेकिन इसके अलावा इस तरह का यह बिजनेस करने के अन्य भी फायदे हैं जिनकी लिस्ट निम्नवत है।

  • इस तरह का यह बिजनेस बेहद कम निवेश के साथ शुरू किया जा सकता है। यहाँ तक की शुरूआती दौर में इसे 25-30 हजार रूपये निवेश करके आसानी से शुरू किया जा सकता है। इसलिए यह कम लागत के बिजनेस की लिस्ट में शामिल है।
  • वैसे देखा जाय तो अधिकतर बिजनेस को शुरू करने के लिए कुछ न कुछ तकनिकी ज्ञान, शैक्षणिक योग्यता एवं अनुभव की आवश्यकता हो सकती है। लेकिन Flower Business के लिए किसी प्रकार की औपचारिक शिक्षा एवं तकनिकी ज्ञान की आवश्यकता नहीं होती है। जहाँ तक गुलदस्तों इत्यादि की डिजाईन का सवाल है इसे उद्यमी चाहे तो कार्य करते करते भी सीख सकता है।
  • फूलों के बिजनेस का तीसरा सबसे बड़ा फायदा यह है की इस बिजनेस में सम्पूर्ण आबादी उद्यमी की आंशिक ग्राहक है। क्योंकि फूलों की जरूरत किसी को भी कभी भी पड़ सकती है।
  • चूँकि डाली से टूटे हुए फूल कुछ घंटों या दिनों में मुरझाने लग जाते हैं इसलिए Flower Business कर रहे उद्यमी द्वारा केवल उतने ही फूल सप्लायर से खरीदे जाते हैं जितने वह एक दो दिन में बेच सके। जिससे इस बिजनेस में इन्वेंटरी जोखिम बहुत ही कम हो जाता है।
  • यह एक ऐसा बिजनेस है जिसमें थोड़े बहुत प्रयास करके या फूलों या गुलदस्तों को नया डिजाईन देकर अच्छा खासा लाभ कमाया जा सकता है। उदाहरणार्थ: माना उद्यमी 1500 रूपये के खुले फूल खरीदता है तो वह इन्हीं फूलों को माला इत्यादि बनाकर 2800-3000 रूपये तक बेच सकता है।              

फूलों का बिजनेस कैसे शुरू करें (How to Start a Flower Business in India Hindi):

फूलों का बिजनेस यानिकी Flower Business एक ऐसा व्यवसाय है जिसे बेहद कम निवेश के साथ शुरू किया जा सकता है। लेकिन चूँकि डाली से टूटे हुए फूल दो तीन दिन में ही मुरझा जाते हैं इसलिए चाहते हुए भी लोग इस तरह का व्यवसाय करने से डरते हैं की कहीं उनके फूल बिके नहीं, तो उन्हें तो बहुत अधिक हानि उठानी पड़ेगी। यह डर स्वभाविक है क्योंकि डाली से टूटे हुए फूल कुछ घंटों या कुछ दिनों बाद मुरझा जाते हैं जिन्हें मुरझाने के बाद शायद ही कोई खरीदेगा। यही कारण है की Flower Business निवेश की दृष्टि से हर प्रकार के व्यक्ति की पहुँच तक तो है लेकिन इसे सफलतापूर्वक चलाने के लिए अथक परिश्रम एवं प्रयास के अलावा व्यवहारिक रणनीति की भी आवश्यकता होती है। इसलिए आगे इस लेख में हम यही जानने का प्रयत्न करेंगे की कैसे कोई इच्छुक व्यक्ति बेहद कम निवेश यहाँ तक की 25-30 हजार निवेश के साथ फूलों का बिजनेस कैसे शुरू कर सकता है।

1. सप्लायर का चुनाव करें (Select Supplier for Your Flower Business):

जिस एरिया अर्थात क्षेत्र में आप Flower Business शुरू करना चाहते हैं उस क्षेत्र में आपको फूलों का सप्लायर ढूँढने की आवश्यकता होगी। ध्यान रहे सप्लायर उसी क्षेत्र में होना अत्यंत आवश्यक है ताकि जरुरत पड़ने पर वह नियमित तौर पर फूलों की सप्लाई कर सके। क्योंकि यदि सप्लायर दूर होगा तो हो सकता है की वह नियमित तौर पर उस एरिया में आने में असमर्थ हो तो वह आपको कुछ दिनों के लिए फूल खरीदने को कह सकता है। और कभी कभी ऐसा भी हो सकता है की आपके फूल उस दौरान नहीं बिकें तो वह मुरझा सकते हैं। लेकिन जब सप्लायर नजदीक होगा तो उससे आप कम फूल खरीद सकते हैं या फिर अपनी बिक्री के मुताबिक ताजे फूल खरीद सकते हैं। इसलिए यदि उस क्षेत्र में नजदीक कहीं फूलों की खेती होती हो तो उन किसानों से मिलें जो फूलों की खेती करते हों या फिर किसी ऐसे माली से भी संपर्क कर सकते हैं जो उस क्षेत्र में फूलों की बागबानी करके फूल बेचता हो। एक सफल Flower Business के लिए विश्वसनीय सप्लायर बेहद महत्वपूर्ण होता है अन्यथा आप अपने बने बनाये ग्राहक खो भी सकते हैं। वैसे उद्यमी चाहे तो उस एरिया में लगने वाली फूल मंडी से भी सस्ते दरों पर फूल खरीदकर उन्हें गुलदस्तों एवं माला के तौर पर परिवर्तित करके भी अपनी कमाई कर सकता है ।        

2. बिजनेस लोकेशन का चयन करें:

हालांकि Flower Business शुरू करने के लिए फूलों की दुकान किसी भी स्थानीय बाजार में खोली जा सकती है। लेकिन एक फूलों की दुकान के लिए सबसे उपयुक्त जगह किसी धार्मिक स्थल के बाहर, कोई ऐसी जगह जो फूल बेचने के लिए प्रसिद्ध हो इत्यादि रहती हैं। अक्सर हम देखते हैं की लोग मंदिरों एवं अन्य धार्मिक स्थलों में जाने से पहले फूल इत्यादि खरीदना पसंद करते हैं। ताकि वे इन्हें उन स्थलों पर भेंट स्वरूप चढ़ा सकें। इसके अलावा विभिन्न धार्मिक, सामाजिक, पारिवारिक अनुष्ठानों में भी फूलों का इस्तेमाल होता रहता है। इसलिए उद्यमी चाहे तो किसी भीड़ भाड़ वाले इलाके में भी फूलों की दुकान खोलकर कमाई कर सकता है।          

3. दुकान को फूलों से सजाएँ (Decorate your Flower Shop):

यदि उद्यमी ने Flower Business के लिए लोकेशन का चयन कर लिया हो तो अब उसका अगला कदम चयनित दुकान को फूलों से सजाने का होना चाहिए। दुकान को इस तरह से सजाना चाहिए की दूर से ही लोगों को पता चल सके की वहाँ पर फूलों की दुकान है । दुकान को सजाते वक्त उद्यमी को इस बात का अनुसरण करना होगा की ‘’जो दिखता है, वो बिकता है ‘’ । क्योंकि फूलों की दुकान की सजावट ही ग्राहकों को आपके दुकान की ओर आकर्षित करेगी। हालांकि शुरूआती दौर में उद्यमी का अधिक फूल खरीदना बिजनेस के लिहाज से प्रतिकूल हो सकता है। इसलिए उद्यमी चाहे तो दुकान को सजाने के लिए आर्टिफीसियल फ्लावर का सहारा ले सकता है। आर्टिफीसियल फ्लावर का इस्तेमाल दुकान को सजाने के लिए इसलिए किया जा सकता है क्योंकि न तो इनके खराब होने का डर रहता है और न ही मुरझाने का। इसलिए Flower Business कर रहे उद्यमी द्वारा शुरूआती दौर में दुकान को सजाने के लिए ओरिजिनल फ्लावर के साथ साथ आर्टिफीसियल फ्लावर का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।      

4. गुलदस्तों की डिजाइनिंग सीखें (Learn
bouquet Designing):

उद्यमी के लिए गुलदस्तों की डिजाइनिंग सीखना इसलिए जरुरी हो जाता है क्योंकि बिना इनको सीखे उद्यमी उचित लाभ प्राप्त कर पाने में असमर्थ होगा। यदि कोई ऐसी डिजाईन जिसमें फूल लगते तो कम हों, लेकिन गुलदस्ता दिखता बड़ा आकर्षक हो उद्यमी सीख ले तो वह इस डिजाईन के माध्यम से ही अच्छा लाभ प्राप्त कर सकता है। चूँकि एक गुलदस्ते में केवल एक तरह के फूल एवं तरह तरह के फूल भी हो सकते हैं इसलिए उद्यमी को कौन से फूल के बीच या कौन से फूल के साथ कौन सा फूल अच्छा लगेगा की भी जानकारी होना बेहद आवश्यक है। इसलिए अपने Floral Business से सफलतापूर्वक कमाई करने के लिए उद्यमी को गुलदस्तों की डिजाइनिंग सीखनी ही होगी। इसके लिए उद्यमी को किसी प्रकार के कोर्स पर पैसे व्यय करने की आवश्यकता नहीं है। बल्कि यह सब डिजाईन उद्यमी यूट्यूब विडियो देखकर भी सीख सकता है।      

5. फूलों की पैकेजिंग की कला सीखें:

फूलों की नाजुकता का बखान हम अनेकों कवियों की कविताओं, गीतकारों के गीतों एवं शायरों की शायरी में पहले से ही सुन चुके हैं। कहने का अभिप्राय यह है की फूल बड़े नाज़ुक होते हैं और जरां भी अतिरिक्त दबाव से टूट या मुरझा सकते हैं। इसलिए Flower Business कर रहे उद्यमी को इनकी अच्छे ढंग से पैकेजिंग करना आना बेहद जरुरी है। यदि उद्यमी को पैकेजिंग करनी नहीं आती है तो वह यह भी यूट्यूब में विडियो देखकर सीख सकता है या पहले से इस तरह का बिजनेस कर रहे उद्यमी से संपर्क साध कर यह सीख सकता है।    

6. मार्केटिंग करें और आर्डर प्राप्त करें (Get order for your Flower Business):

जैसा की हम उपर्युक्त वाक्यों में भी बता चुके हैं की फूलों का अधिकतर इस्तेमाल विभिन्न आयोजनों जैसे शादी, मंगनी, सालगिरह, जन्मदिन एवं अन्य मौकों पर होता है। और इन आयोजनों का सफलतापूर्वक प्रबंधन के लिए लोग इवेंट मैनेजमेंट कंपनी, वेडिंग प्लानर इत्यादि का सहारा लेते हैं। इसलिए अपने Flower Business की मार्केटिंग सामान्य श्रोतागणों के बीच तो करे ही करें। लेकिन उस क्षेत्र अर्थात एरिया में मौजूद इवेंट मेनेजर, इवेंट प्लानर इत्यादि से भी संपर्क करें। क्योंकि आये दिनों इन्हें भी फूलों की आवश्यकताएं पड़ती रहती हैं।    

Flower Business में आने वाली लागत एवं कमाई:

Flower Business को कम से कम शुरूआती दौर में 25-30 हजार रूपये में शुरू किया जा सकता है इसमें उद्यमी को एक छोटी सी जगह किराये पर लेनी होती है। जिसका किराया 4-5 हजार रूपये प्रति महीने हो सकता है । इसके अलावा थोड़ा बहुत दुकान की सजावट का काम कराना होता है जिसमें 3-4 हजार रूपये का खर्च हो सकता है। बाकी बचे 15-20 हजार के फूल खरीदने होते हैं लेकिन यह भी एक साथ नहीं अपितु बिक्री के हिसाब से। इस तरह से यह बिजनेस 25-30 हजार में आसानी से शुरू किया जा सकता है। यदि उद्यमी फूलों की दुकान न खोलकर फूलों का शोरूम खोलना चाहता है तो उसे 3-4 लाख रूपये खर्च करने की आवश्यकता हो सकती है क्योंकि शोरूम के लिए दुकान की तुलना में बड़ी जगह की आवश्यकता के साथ साथ फर्नीचर खरीदने एवं इंटीरियर का काम कराने की भी आवश्यकता हो सकती है। जहाँ तक Flower Business से कमाई का सवाल है यह पूरी तरह उद्यमी की बिक्री पर निर्भर करती है। लेकिन यह स्पष्ट है की उद्यमी चाहे तो इस बिजनेस से दुगुना तिगुना लाभ प्राप्त कर सकता है। एक आंकड़े के मुताबिक 1500 रूपये के फूलों को माला बनाकर 3000 रूपये तक में बेचा जा सकता है।

यह भी पढ़ें:

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य बिज़नेस, लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, बैंकिंग, कैरियर और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *