साधारण रजाई गद्दे से तो शायद आप सभी अच्छी तरह अवगत होंगे, लेकिन जब बात Foam Mattress यानिकी फोम से निर्मित गद्दों की हो रही होती है। कुछ लोग इनसे अनभिज्ञ भी हो सकते हैं, क्योंकि ग्रामीण भारत में इस तरह के ये गद्दे कम ही देखने को मिलते हैं। लेकिन इस बात से भी इंकार नहीं किया जा सकता है की जब से शादी- विवाह में दहेज़ के तौर पर फर्नीचर जिसमें की बेड भी शामिल होता है, देने का रिवाज हुआ है लोग ग्रामीण भारत में भी उस बेड के साथ फोम के गद्दे देना पसंद करने लगे हैं । इसलिए Foam Mattress के प्रति ग्रामीण भारत में भी लोगों की जागरूकता बढ़ी है, अन्यथा आज भी हम ग्रामीण भारत में परम्परागत चारपाइयों में रुई इत्यादि से निर्मित गद्दों को ही इस्तेमाल में लाते हुए देख सकते हैं। लेकिन जब बात नए स्टाइल में निर्मित सिंगल एवं डबल बेड की आती है तो इनमें तो लोगों की पहली पसंद फोम के गद्दे ही होते हैं। इसलिए आज हम हमारे इस लेख के माध्यम से फोम के गद्दे बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें? विषय पर वार्तालाप करने वाले हैं।

Foam Mattress Manufacturing hindi

फोम के गद्दे क्या होते हैं (What are the foam Mattress):   

एक गद्दे की यदि हम बात करें तो इसे एक बड़ा पैड भी कहा जा सकता है जिसका इस्तेमाल मनुष्य अपने शरीर को आराम देने या सोने के लिए करता है। जहाँ तक Foam Mattress की बात है इनका निर्माण फोम को कच्चे माल के तौर पर इस्तेमाल में लाकर किया जाता है। और इन्हें बेड एवं नीचे जमीन पर बिछाकर भी इस्तेमाल में लाया जा सकता है। हालांकि इसमें कोई दो राय नहीं की गद्दे बनाने की प्रक्रिया भी रजाई बनाने जैसी ही है और इसे आम तौर पर भारी कपड़े, जानवरों के बालों, रुई, फोम रबर इत्यादि से बनाया जाता है। कहने का आशय यह है की इनके इस्तेमाल के आधार पर इन्हें उसी उपयुक्त कच्चे माल से बनाया जाता है। जैसे कठोर गद्दे बनाने के लिए नारियल की भूसी, थर्माकोल इत्यादि का इस्तेमाल किया जाता है तो वहीँ सोने हेतु मुलायम गद्दे बनाने के लिए रुई या फोम का इस्तेमाल भी किया जाता है। फोम के गद्दों में उछाल इत्यादि पैदा करने के लिए इनमें वातित पदार्थों जैसे स्प्रिंग इत्यादि का इस्तेमाल नहीं किया जाता है, बल्कि इनके अन्दर हवा को फंसा दिया जाता है। आम तौर पर बाजार में Foam Mattress के तीन प्रकार जैसे पॉलीयुरेथेन फोम, मेमोरी फोम और फोम लेटेक्स उपलब्ध होते हैं।

फोम के गद्दों की बिक्री संभावना:

Foam Mattress की यदि हम बात करें तो इनके इस्तेमाल के अनेकों फायदे होते हैं इनमें दबाव बिन्दुओं को कम करना, धूल के कणों को कम करना, गति में व्यवधान को रोकना, विभिन्न नींद की पोजीशन को सपोर्ट करना इत्यादि शामिल हैं। एक विश्वसनीय आंकड़े के मुताबिक भारत में गद्दा बाजार बीते पांच वर्षों में 11% CAGR की दर से बढ़ रहा है। यद्यपि पहले केवल और केवल असंगठित क्षेत्रों का गद्दा बाजार में वर्चस्व व्याप्त था, लेकिन जैसे जैसे लोगों की कमाई बढ़ी और उनकी इसमें जागरूकता बढ़ी वैसे वैसे इस क्षेत्र में भी संगठित उद्योगों के विकास में मदद मिली। चूँकि गद्दे हर आवासीय बिल्डिंग एवं घर में इस्तेमाल में लायी जाने वाली एक आम वस्तु है इसलिए जनसँख्या में हो रही लगातार वृद्धि एवं घरों की संख्या में हो रही वृद्धि के कारण इनकी मांग लगातार बढती जा रही है। इसलिए वर्तमान परिदृश्य को देखते हुए Foam Mattress Manufacturing Business शुरू करना किसी भी इच्छुक उद्यमी के लिए लाभकारी साबित हो सकता है।

फोम के गद्दे बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें (How to Start Foam Mattress Manufacturing Business) :

Foam Mattress बनाने का बिजनेस उद्यमी द्वारा बेहद कम मशीनरी या मैन्युअल तरीके से बनाकर भी शुरू किया जा सकता है। लेकिन हम यहाँ पर कुछ आटोमेटिक मशीन तो कुछ सेमी आटोमेटिक मशीन का इस्तेमाल करके इस तरह का यह बिजनेस शुरू करने की बात कर रहे हैं। इसलिए इस तरह का यह व्यवसाय शुरू करने के लिए भी उद्यमी को वे सभी प्रक्रियाएं पूर्ण करनी होंगी जो किसी अन्य व्यवसाय को शुरू करने के लिए करनी पड़ती हैं। इनमें जमीन के प्रबंध से लेकर, वित्त का प्रबंध, मशीनरी एवं कच्चे माल की खरीदारी, मार्केटिंग इत्यादि सभी कुछ शामिल है। तो आइये जानते हैं कैसे कोई व्यक्ति खुद का फोम के गद्दे बनाने का बिजनेस शुरू कर सकता है।

1. जमीन का प्रबंध करें

हालांकि उद्यमी को Foam Mattress Manufacturing Business करने के लिए कम से कम कितनी जगह की आवश्यकता होगी, वह इस बात पर निर्भर करता है की उद्यमी कितनी कार्यक्षमता का प्लांट स्थापित करना चाहता है। लेकिन चूँकि उद्यमी को औदयोगिक स्थापना के लिए इन्वेंटरी के लिए जगह, विनिर्माण कार्य के लिए जगह, बिजली उपयोगिताओं के लिए जगह, जनरेटर सेटअप इत्यादि के लिए जगह और एक छोटे से ऑफिस स्थापित करने के लिए जगह की आवश्यकता होती है। इसलिए इस प्रकार से कुल मिलाकर उद्यमी को 800-1200 Square Feet जगह की आवश्यकता हो सकती है इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए उद्यमी किसी भी गैर कृषि योग्य भूमि में प्लांट स्थापित कर सकता है। लेकिन उद्यमी को जहाँ पर वह यह प्लांट स्थापित करने की सोच रहा हो बिजली, पानी, सड़क इत्यादि चीजों को अवश्य देखना चाहिए। उद्यमी को इस प्रकार की मशीनरी इत्यादि को संचालित करने के लिए लगभग 20HP बिजली की आवश्यकता हो सकती है जिसकी अनुमति बिजली विभाग से लेनी आवश्यक होती है। और जगह या दुकान किराये पर लेते वक्त लीज या रेंट एग्रीमेंट अवश्य बनवा लें।       

2. वित्त का प्रबंध करें (Fund arrangement for Foam Mattress Manufacturing Business):

वैसे यदि उद्यमी अपने Foam Mattress Manufacturing Business में आने वाली अनुमानित लागत एवं अनुमानित कमाई को जानने के लिए उत्सुक है। तो उसे बिजनेस प्लान या फिर प्रोजेक्ट रिपोर्ट अवश्य तैयार करनी चाहिए क्योंकि इन्हीं दस्तावेजों के माध्यम से वह उस व्यवसाय को शुरू करने में आने वाली लागत को जान पाने में सक्षम होगा। और जब उसे इस बात का पता चल जायेगा की उसके व्यवसाय को शुरू करने में कम से कम कितनी लागत आएगी तो वह उसी के अनुसार ही वित्त का प्रबंध कर पाने में भी सक्षम हो पायेगा। वैसे जिन मशीनरी एवं उपकरणों का जिक्र हम अपने इस लेख में करने वाले हैं उन्हें खरीदने में उद्यमी को 5-6 लाख रूपये खर्च करने की आवश्यकता हो सकती है। इस प्रकार से यदि आप देखे तो उद्यमी को इस तरह का यह व्यवसाय शुरू करने में 8-12 लाख रूपये शुरूआती खर्च करने की आवश्यकता हो सकती है। इसलिए यदि उद्यमी को लगता है की वह इस राशि का प्रबंध अपनी व्यक्तिगत बचत से कर पायेगा तो ठीक है अन्यथा उद्यमी किसी सरकारी योजना के तहत सब्सिडी ऋण या फिर कम ब्याज वाला ऋण भी प्राप्त करने की कोशिश कर सकता है।      

3. आवश्यक लाइसेंस एवं पंजीकरण

वैसे देखा जाय तो छोटे स्तर पर Foam Mattress Manufacturing शुरू करने के लिए टैक्स रजिस्ट्रेशन के अलावा शायद ही किसी अन्य लाइसेंस की अनिवार्यता होगी। लेकिन उद्यमी को एक बार अपने जिला उद्योग केंद्र या स्थानीय प्राधिकरण से इस बारे में अवश्य जानकारी प्राप्त करनी चाहिए की उसे इस तरह का यह व्यवसाय शुरू करने के लिए किन किन लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता हो सकती है। वैसे उद्यमी चाहे तो अपने व्यवसाय को प्रोप्राइटरशिप के तौर पर रजिस्टर कर सकता है और जीएसटी रजिस्ट्रेशन के अलावा उद्योग आधार रजिस्ट्रेशन एवं स्थानीय प्राधिकरण से ट्रेड लाइसेंस भी प्राप्त कर सकता है। यदि उद्यमी अपनी इकाई द्वारा निर्मित गद्दों को अपने ब्रांड नाम के तहत बेचना चाहता है तो फिर उसे ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन करने की भी आवश्यकता हो सकती है।   

4. मशीनरी एवं कच्चा माल खरीदें (Machinery and Raw Material for Foam Mattress Manufacturing):

आम तौर पर Foam Mattress Business शुरू करने के लिए उद्यमी को कच्चा माल भी उसी सप्लायर से मिल जाता है जिससे वह मशीनरी की खरीदारी करता है। इसलिए उद्यमी को सप्लायर का चुनाव बेहद सोच समझकर एवं विश्लेषण करके करना चाहिए। इसके लिए उद्यमी सबसे पहले विभिन्न सप्लायर से कच्चे माल एवं मशीनरी की कोटेशन मंगा सकता है और फिर कीमत पर उनसे नेगोसिएशन करके फाइनल कीमत मंगा सकता है और फाइनल कीमत एवं अन्य शर्तों का तुलनात्मक विश्लेषण करने के पश्चात ही वह किसी उचित सप्लायर का चुनाव कर सकता है। इस व्यवसाय में इस्तेमाल में लायी जाने वाली प्रमुख मशीनरी की लिस्ट इस प्रकार से है।

  • सीटेक लूपर हेड के साथ आटोमेटिक टेप एज मशीन
  • जुकी मशीन
  • हैण्ड फोम कटर
  • क्लॉथ कटर
  • कंप्रेसर

Foam Mattress Manufacturing Business में इस्तेमाल में लाये जाने वाले कच्चे माल की लिस्ट कुछ इस प्रकार से है।

  • रिलैक्स फोम
  • मेमोरी फोम
  • कील्ट फैब्रिक
  • धागा
  • कॉटन फैब्रिक रोल       

5. स्टाफ नियुक्त करें

उपर्युक्त मशीनों से Foam Mattress का निर्माण करने के लिए उद्यमी को कुशल एवं अनुभवी मशीन ऑपरेटर की आवश्यकता होती है। और मानकों के अनुरूप गद्दों का निर्माण सुनिश्चित करने के लिए क्वालिटी इंजिनियर की भी आवश्यकता हो सकती है। इसके अलावा विभिन्न सामग्री को एक वर्क स्टेशन से दुसरे तक लाने ले जाने के लिए हेल्पर्स की भी आवश्यकता होती है। इसके अलावा ऑफिस का कार्यभार सँभालने के लिए भी एक शिक्षित एवं कुशल कर्मचारी को नियुक्त करने की आवश्यकता होती है। इस प्रकार से हम देखें तो उद्यमी को कुल मिलाकर 7-8 कर्मचारियों को नियुक्त करने की आवश्यकता हो सकती है।     

6. निर्माण कार्य शुरू करें (Start Foam Mattress Manufacturing Process)

Foam Mattress का निर्माण करने के लिए उद्यमी को अनेकों कदम उठाने की आवश्यकता हो सकती है प्रक्रिया को प्रारम्भ करने से पहले कच्चे माल विक्रेता से कच्चा माल खरीद लिया जाता है। उसके बाद ग्राहकों की मांग के अनुसार फोम को उसी माप में काट लिया जाता है। फोम की कटिंग के बाद मेमोरी फोम की परत को रिलैक्स फोम पर गोंद इत्यादि का इस्तेमाल करके चिपका दिया जाता है। उसके बाद गद्दे के साइज़ के मुताबिक किल्ट के कपड़े को काट लिया जाता है ताकि किल्ट का निर्माण किया जा सके। उसके बाद सिलाई मशीन की मदद से गद्दे के किल्ट को सिल दिया जाता है। और जब यह काम पूरा हो जाता है तो Foam Mattress Manufacturing Process में गद्दे की क्वालिटी चेक की जाती है और गुणवत्ता मानकों पर खरा उतरने के बाद इसकी पैकिंग करके बाजार में बेचने के लिए भेज दिया जाता है।

यह भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published

error: