Honey Processing नामक यह बिज़नेस मधुमक्खी पालन से जुड़ा हुआ व्यवसाय है | और बी कीपिंग नामक यह गतिविधि सहायक व्यवसाय के रूप में अपनाई जा सकती है जो किसी को भी उसकी कमाई का अवसर प्रदान करती है | मधुमक्खी पालन ऐसे क्षेत्रों में आसानी से किया जा सकता है जहाँ कम से कम छह महीनों के लिए मधुमक्खी वनस्पति (Bee Flora) उपलब्ध रहती हो | भारतीय मधुमक्खियों द्वारा उत्पादित शहद को आधुनिक शहद निकालने वाले उपकरण द्वारा निकाला जाता है | इस निकाले गए एवं एकत्र किये गए शहद में हेमोफिलिक यीस्ट होता है जो फर्मेंटेशन का कारण बनता है और यह शहद की गुणवत्ता को नष्ट कर देता है | इसलिए शहद के गुणात्मक एवं मात्रात्मक मूल्य को बनाये रखने के लिए शहद का आधुनिक शहद प्रसंकरण संयत्र में Honey Processing बेहद जरुरी हो जाती है | कहने का आशय यह है की शहद की गुणवत्ता एवं मात्रा को बनाये रखने के लिए इसका प्रसंस्करण आवश्यक हो जाता है | इसलिए आज हम हमारे इस लेख के माध्यम से Honey processing Business के बारे में विस्तृत तौर पर जानने की कोशिश करेंगे |

honey-processing business

उत्पाद एवं इसके अनुप्रयोग:

शहद नामक इस उत्पाद की बात करें तो शताब्दियों से इसका प्रयोग एक प्राकृतिक मिठाई के एजेंट के तौर पर और कन्फेक्शनरी की तैयारी में उपयोग किया जाता रहा है । शहद के दवा उद्योग में बहुत सारे अनुप्रयोग देखने को मिलते हैं इसके अलावा इसे आयुर्वेदिक दवा के तौर पर भी इस्तेमाल में लाया जाता रहा है | शहद मुख्य रूप से खांसी के घरेलू उपचार के तौर पर इस्तेमाल में लाया जाता है यही कारण है की खांसी का सिरप बनाने वाली लोकप्रिय ब्रांडों द्वारा भी इसका इस्तेमाल किया जाता है | यह डाइटिंग करने वाले लोगों के लिए एक पसंदीदा उपभोग की वस्तु है | शहद का उपयोग लोजेंज बनाने के लिए भी किया जाता है | हालांकि इसे ज्यादातर तौर पर कांच के जार में रखकर शुद्ध शहद के रूप में बेचा जाता है लेकिन बोतलबंद शहद में आम तौर पर शहद की नमी में कमी हो जाती है | अंतरराष्ट्रीय बाजार में अच्छी गुणवत्ता वाले शहद की बहुत ज्यादा मांग है इसलिए इसमें देश के लिए पर्याप्त विदेशी मुद्रा उत्पन्न करने की क्षमता है ।

शहद के लिए संभावित बाजार:

शहद के लिए संभावित बाजार की बात करें तो Honey Processing Business कर रहे उद्यमी आयुर्वेदिक इंडस्ट्री, खाद्य प्रसंस्करण इंडस्ट्री, निर्यात एवं घरेलू फूटकर मार्केट को ध्यान में रखकर इस बिज़नेस को शुरू कर सकता है | शहद को अंतराष्ट्रीय बाज़ारों में बेचने के लिए इसकी गुणवत्ता एवं मानकीकरण बेहद आवश्यक है | यूरोपीय संघ (ईयू) और कुछ अन्य देशों को निर्यात के लिए, तैयार उत्पाद में कीटनाशकों और कीटनाशक अवशेषों के स्तर को नियंत्रित करना भी बेहद अनिवार्य है । इन सबके अलावा कुछ देश इस बात का प्रमाण पत्र मांगते हैं की उद्यमी ने बीमारी मुक्त कॉलोनी से शहद ख़रीदा है | हालांकि वर्तमान में इस उद्देश्य के लिए कोई रोग निगरानी प्रणाली नहीं है | आज भी विभिन्न जनजातीयों द्वारा अवैज्ञानिक रूप से शहद एकत्रित एवं भंडारित किया जाता है जो उत्पाद को निर्यात होने के लिए अनुपयुक्त बनाता है | इसलिए निर्यात या बिक्री से पूर्व Honey Processing बेहद जरुरी हो जाती है | शहद अंतराष्ट्रीय तौर पर इस्तेमाल में लायी जाने वाली एक प्रमुख उपभोग्य की वस्तु है इसका उपयोग खाद्य वस्तु के तौर पर भी और औद्योगिक जैसे फार्मास्युटिकल्स, कॉस्मेटिक एवं कन्फेक्शनरी इत्यादि उद्योगों में भी किया जाता है | विशेष रूप से ऐसे शहद जो परिष्कृत एवं उच्च गुणवत्तायुक्त होने के साथ साथ कीटनाशकों एवं कृषि के अन्य रसायनों से मुक्त हो, की बाजार में बड़ी मांग है | शहद के उत्पादन में चीन का अग्रणी स्थान है इसलिए शहद का सबसे बड़ा निर्यातक देश भी चीन ही है | वैश्विक स्तर पर लोगों की जीवनशैली बदलने, और स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता बढ़ने के कारण शहद का इस्तेमाल स्वस्थ भोजन के तौर पर होने लगा है | इसलिए भविष्य में घरेलू मांग बढ़ने के आसार अधिक नज़र आते हैं |

आवश्यक मशीनरी उपकरण एवं कच्चा माल:

Honey Processing Business शुरू करने में उद्यमी को 30-35 लाख रूपये खर्च करने की आवश्यकता हो सकती है जिसमे लगभग 50% खर्चा मशीनरी एवं उपकरणों को खरीदने में हो सकता है | इस बिज़नेस में उपयोग में लायी जाने वाली प्रमुख मशीनरी एवं उपकरणों की लिस्ट निम्नवत है |

  • शहद प्रसंस्करण संयत्र (Honey Processing Plant) जिसकी कीमत लगभग बारह लाख रूपये हो सकती है |
  • स्टोरेज टैंक जिसकी कीमत डेढ़ लाख रूपये हो सकती है |
  • बोतल धोने, सुखाने एवं भरने वाली मशीन इसकी कीमत भी डेढ़ लाख रूपये तक हो सकती है |
  • शहद हैंडल करने के लिए उपकरण इनकी कीमत लगभग पचास हज़ार हो सकती है |

Honey Processing Business के लिए कच्चे माल की लिस्ट इस प्रकार से है |

  • शहद
  • खाली बोतल
  • लिड
  • लेबल इत्यादि

शहद प्रसंस्करण प्रक्रिया (Honey Processing Process):

मधुमक्खी पालन करने वाले किसानों या उद्यमियों से शहद एकत्रित किया जाता है और उसके बाद इसका निरीक्षण किया जाता है | निरीक्षण करने के बाद इसे Honey Processing Plant में प्रसंस्करण के लिए डाल दिया जाता है | यह मशीन शहद को मोटा करने के लिए शहद से नमी एवं मोम को हटा देती है उसके बाद प्रसंस्कृत किये गए शहद को तुरंत साफ़ एवं चौड़ी मुहं वाली बोतलों में पैक कर बोतलबंद कर दिया जाता है | इसके बाद पीपी कैप्स द्वारा इन्हें सील कर दिया जाता है उसके बाद बोतलों को पोछकर सुखाकर लेबल कर दिया जाता है | भरी हुई सील की हुई और लेबल की हुई बोतलों को कार्डबोर्ड बॉक्स में पैक कर दिया जाता है |

शहद प्रसंस्करण व्यवसाय शुरू करने में कितना खर्चा आ सकता है

यदि उद्यमी किराये पर जमीन न लेकर स्वयं की जमीन लेता है तो Honey Processing Business को शुरू करने में 35 लाख तक का खर्चा आ सकता है जिसका संक्षिप्त वर्णन निम्नवत है |

  • जमींन खरीदने में आने वाला खर्चा 5 लाख रूपये मान के चल सकते हैं |
  • बिल्डिंग के निर्माण में 5 लाख का खर्चा आ सकता है |
  • मशीनरी एवं उपकरणों पर लगभग 15 लाख का खर्चा आ सकता है |
  • फर्नीचर, बिजली कनेक्शन, पानी कनेक्शन इत्यादि पर आने वाला खर्चा एक लाख मान के चल सकते हैं |
  • फैक्ट्री शुरू होने से पहले विभिन्न कार्यों को निष्पादित करने में आने वाला खर्चा 6 लाख मान के चल सकते हैं |
  • कुछ महीनों के लिए वर्किंग कैपिटल 8 लाख मान के चल सकते हैं |

ध्यान रहे Honey Processing Business के लिए एफएसएसएआई लाइसेंस लेना अनिवार्य है |

अन्य पढ़ें

2 Comments

  1. Avatar for Yogendra Singh Yogendra Singh
    October 30, 2018
  2. Avatar for Gaharwar ji Gaharwar ji
    October 28, 2018

Leave a Reply

Your email address will not be published

error: