हार्डवेयर की दुकान कैसे खोलें? How to start hardware store business in Hindi.

Hardware Store से आशय Hardware Shop से लगाया जा सकता है जी हाँ एक ऐसी जगह जहाँ से लोग हार्डवेयर सामग्री खरीद सकें | जब भी Hardware Business का जिक्र कहीं पर होता है तो सर्वप्रथम लोगों के दिमाग में Hardware Store की या दुकान की तस्वीर ही कौंधती है | वह इसलिए की वास्तविक दुनिया में लोगों ने मौजूदा उद्यमियों को हार्डवेयर स्टोर से अच्छी खासी कमाई करते हुए प्रत्यक्ष देखा है | इसलिए जब भी कहीं Hardware Business की बात होती है अनुमान यही लगाया जाता है की हार्डवेयर की दुकान के बारे में ही वार्तालाप हो रही है | इसलिए आज हम हमारे इस लेख के माध्यम से Harware Shop Business Plan के बारे में Hindi में जानने की कोशिश करेंगे | इससे पहले की हम इस प्रकार के बिज़नेस को शुरू करने की विधिवत प्रक्रिया के बारे में जानें | आइये पहले अच्छी तरह यह समझ लेते हैं की एक Hardware Store या हार्डवेयर की दुकान होती क्या है और इसमें उद्यमी किस किस तरह का सामान बेचकर अपनी कमाई कर रहा होता है |

hardware store business kaise shur kare

हार्डवेयर स्टोर क्या है? और क्या क्या सामान मिलता है (What is Hardware store in Hindi):

Hardware Store का शाब्दिक एवं वास्तविक अर्थ हार्डवेयर की दुकान ही होता है और हार्डवेयर की दुकान का अभिप्राय किसी बाजार में उपलब्ध एक ऐसी जगह से लगाया जाता है जहाँ घरेलू एवं व्यवसायिक उपयोग में लायी जाने वाली हार्डवेयर सामग्री जैसे कील, नट, बोल्ट, निर्माण सामग्री, हाथों से चालित औजार, बिजली से चालित उपकरण, चाबियाँ, ताले, प्लंबिंग सामग्री, इलेक्ट्रॉनिक सामग्री, सफाई उपकरण, बर्तन, पेन्ट, कृषि उपकरण, बागबानी उपकरण इत्यादि मिलते हैं | कहने का अभिप्राय यह है की किसी hardware Store के सामान को अधिकतर तौर पर कारपेंटर, मैकेनिक, मिस्त्री, पेंटर इत्यादि द्वारा इस्तेमाल में लाया जाता है | अब शायद आप समझ गए होंगे की हार्डवेयर स्टोर भी बाजार में उपलब्ध अन्य दुकानों की तरह ही एक दुकान है जिसमें हार्डवेयर सामग्री मिलती है |

हार्डवेयर दुकान खोलने के लिए आवश्यक कौशल एवं योग्यता (Eligibility and Skills Required to open Hardware Store) :

हालांकि Hardware Store Business की मांग भी है और इससे कमाई भी की जा सकती है लेकिन इस तरह के बिज़नेस में प्रतिस्पर्धा भी बहुत है | यही कारण है की हर Hardware Business करने वाला उद्यमी अपने बिज़नेस को सफलता के मुकाम तक नहीं पंहुचा पाता है | ऐसे लोग जिन्हें इस बिज़नेस को चलाने का कौशल एवं अनुभव प्राप्त हो सफलतम व्यक्तियों में उनकी संख्या अधिक होती है | Hardware Store यानिकी हार्डवेयर की दुकान खोलने के लिए किसी भी प्रकार की योग्यता का प्रावधान नहीं है अर्थात हर वो व्यक्ति जिसके पास इस बिज़नेस में निवेश करने के लिए पैसे हों वह इस व्यापार को शुरू कर सकता है | लेकिन इन सबके बावजूद ऐसा व्यक्ति जिसने कभी किसी हार्डवेयर की दुकान में काम किया हो, और उसे इसके मार्केट एवं उचित रेट पर सामान उपलब्ध कराने वाले सप्लायरों की जानकारी हो तो वह Hardware Store Business को न सिर्फ आसानी से शुरू कर सकता है बल्कि सफलतापूर्वक चला भी सकता है |

हार्डवेयर की दुकान कैसे खोलें (How to Start Hardware Store Business in Hindi):

Hardware Store Business शुरू करने की जब भी बात आती होगी तो उद्यमी का सबसे अधिक ध्यान इस बात पर होता होगा की उसे उचित या सस्ते दरों पर हार्डवेयर का सामान कहाँ मिलेगा? उद्यमी का यह सोचना स्वभाविक है क्योंकि जितनी सस्ते दरों पर उद्यमी सामान खरीदने में सक्षम होगा उतनी ही वह अपने प्रतिस्पर्धियों को टक्कर देकर अपनी कमाई कर पाने में भी सफल होगा | क्योंकि उद्यमी को अपने बिज़नेस के नाम को प्रचलित करने के लिए गुणवत्ता एवं कीमतों पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता हो सकती है | कहने का अभिप्राय यह है की Hardware Store Business शुरू करने के लिए उद्यमी को न सिर्फ खरीदते समय कीमतों पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होती है | बल्कि बहुत सारी प्रक्रियाओं में ध्यान देने की आवश्यकता होती है जिनका वर्णन हम नीचे कर रहे हैं |

  1. दुकान के लिए लोकेशन का चुनाव करें (Select Location For Hardware Store):

Hardware Store शुरू करने के लिए बनी बनाई दुकान की आवश्यकता होती है यदि उद्यमी की किसी भीड़ भाड़ यानिकी जहाँ अधिक आबादी रहती हो में कोई दुकान है तो वह उसी दुकान में हार्डवेयर स्टोर खोल सकता है | लेकिन यदि उद्यमी के पास किसी मार्केट या भीड़ भाड़ वाले क्षेत्र में दुकान उपलब्ध न हो तो वह दुकान किराये पर ले सकता है | दुकान का किराया अलग अलग क्षेत्रों के आधार पर 7000-55000 रूपये हर महीने तक हो सकता है | शुरूआती दौर में Hardware Store Business करने के लिए महंगी किराये की दुकान न लेकर एक ऐसी दुकान का चयन करना चाहिए जिसका किराया उद्यमी के बजट में हो और वह दुकान किसी स्थानीय मार्केट या अधिक आबादी वाले क्षेत्र में हो | क्योंकि दुकान जितनी अधिक आबादी वाले क्षेत्र में उपलब्ध होगी ग्राहकों के सामान खरीदने की संभावना उतनी ही अधिक होगी | दुकान का चुनाव करते वक्त उद्यमी को दुकान के साइज़ पर भी ध्यान देना होगा क्योंकि एक जनरल स्टोर या अन्य दुकानों की तुलना में Hardware Store के लिए अधिक जगह की आवश्यकता हो सकती है क्योंकि इसमें उद्यमी को अनेक तरह के सामान को अपने स्टोर का हिस्सा बनाना होता है इसमें कुछ सामान छोटा होता है तो कुछ सामान जैसे पाइप, टंकी, सीढी इत्यादि रखने के लिए बड़ी जगह की आवश्यकता होती है | इसलिए दुकान के लिए जगह का चुनाव करते वक्त इन सब बातों का ध्यान रखना अति आवश्यक है |

  1. फर्नीचर एवं फिक्सचर का काम कराएँ (Furniture and fixture):

Hardware Store के लिए जगह का चुनाव कर लेने के बाद अर्थात दुकान का चुनाव कर लेने के बाद अब उद्यमी को उसमे फर्नीचर एवं फिक्सचर का काम कराना होगा क्योंकि हार्डवेयर की सामग्री दुकान के अन्दर व्यवस्थित ढंग से रखने के लिए लकड़ी के खांचे तैयार करने होंगे | इसके अलावा सामान को भंडारित करने के लिए एक स्टोर की भी आवश्यकता होगी इसलिए यदि चयनित दुकान बड़ी है तो उद्यमी लकड़ी का पार्टीशन करवाकर इसी दुकान को दो हिस्सों में विभाजित करवा सकता है | हालांकि शुरूआती दौर में भंडारित करने के लिए स्टोर न भी हो तो उद्यमी काम चला सकता है | और जब बाद में सामान इतना बिकने लगे की उसे केवल दुकान में रखना संभव न हो तब उद्यमी दुकान के आस पास ही भंडार गृह के लिए जगह ढूंढ सकता है | उद्यमी को अपने बैठने की जगह, काउंटर इत्यादि का भी निर्माण इस दौरान करा लेना चाहिए |

  1. आवश्यक लाइसेंस एवं पंजीकरण लें (Get required License and registration):

यद्यपि इस तरह का व्यापार अर्थात hardware Store Business  को वर्तमान में बहुत सारे उद्यमी बिना किसी प्रकार के लाइसेंस एवं पंजीकरण के चला रहे हैं | क्योंकि शायद इस प्रकार का व्यापार करने के लिए अनिवार्य रूप से किसी प्रकार के लाइसेंस की आवश्यकता नहीं होती है | लेकिन इसके बावजूद भी उद्यमी जिस क्षेत्र एवं राज्य में यह बिज़नेस शुरू कर रहा हो उसे वहां के स्थानीय नियमों के बारे में जानकारी प्राप्त कर लेनी चाहिए और जरुरी लाइसेंस प्राप्त कर लेने चाहिए | इसके लिए उद्यमी स्थानीय प्राधिकरण जैसे नगर निगम इत्यादि के कार्यालय में जाकर पता कर सकता है | उद्यमी चाहे तो अपने व्यापार को शॉप एंड एस्टाब्लिश्मेंट एक्ट के तहत भी रजिस्टर करा सकता है | और यदि उद्यमी का सालाना टर्नओवर जीएसटी की छूट सीमा से ऊपर होता है तो उद्यमी को जीएसटी पंजीकरण अनिवार्य रूप से कराना होता है |

  1. सप्लायर का चुनाव एवं सामान भरना (Select Supplier & Purchase materials for your Hardware Store):

सभी प्रकार के जरुरी लाइसेंस एवं पंजीकरण प्राप्त कर लेने के बाद उद्यमी का अगला कदम अपने Hardware Store Business के लिए सप्लायर का चुनाव करने का होना चाहिए | यदि उद्यमी ने उसी क्षेत्र में पहले किसी हार्डवेयर की दुकान में काम किया होगा अर्थात यदि उद्यमी अनुभवी होगा तो उसे पता होगा की उसे उस क्षेत्र में कौन उचित दामों पर हार्डवेयर सामान उपलब्ध करा सकता है | यदि उद्यमी नया है तो वह उस एरिया में पहले से मौजूद किसी Hardware Store के मालिक से पता कर सकता है की उन्हें कौन माल सप्लाई करता है | सप्लायर का नंबर मिलने के बाद उससे बात करें और उसे अपनी कोटेशन भेजने के लिए कह सकते हैं | ऐसी ही तीन कोटेशन मंगा ले और उनका तुलनात्मक विश्लेषण कर लें | उसके बाद एक बार ऑनलाइन वेबसाइट जैसे इंडियामार्ट, जस्टडायल इत्यादि में लिस्टेड थोक विक्रेताओं से बात करके देखें की कौन से विक्रेता आपको उचित दामों में हार्डवेयर का सामान देने में राजी होते हैं | सप्लायर का चुनाव करते वक्त कीमत के अलावा उनके द्वारा दी जाने वाली सर्विस का भी तुलनात्मक विश्लेषण बेहद जरुरी है | सप्लायर का चुनाव कर लेने के बाद शुरूआती दौर में कुछ जरुरी सामान जो आपको लगता है की उस विशेष एरिया में अधिक बिक सकता है वहीँ खरीदें | और उसके बाद ग्राहकों की मांग के मुताबिक दुकान में सामान बढ़ाते जाएँ |

  1. कर्मचारियों की नियुक्ति (Appointment of Staffs):

Hardware Store business एक ऐसा बिज़नेस है जिसमे उद्यमी को कम से कम एक कर्मचारी की आवश्यकता तो होती ही होती है | जो ग्राहक के सामान मांगने पर उन्हें सामान दे सके और उद्यमी पैसे, बिल इत्यादि का काम कर सके | चूँकि एक हार्डवेयर की दुकान में जहाँ छोटा सामान होता है वहीँ बड़ा एवं भारी सामान भी होता है जिसको एक स्थान से दूसरे स्थान में रखने या ग्राहकों को देने के लिए एक से अधिक व्यक्ति की आवश्यकता होती है | इसलिए Hardware Store Business के लिए उद्यमी को किसी ऐसे व्यक्ति का चुनाव करना चाहिए जिन्हें भारी सामान उठाने, ईधर, उधर खिसकाने में कोई आपत्ति न हो | शुरुआत में उद्यमी केवल एक व्यक्ति से काम चला सकता है लेकिन दुकान में बिक्री बढ़ने के साथ साथ वह एक या दो व्यक्तियों को फिर काम पर रख सकता है |

  1. दुकान चलायें और कमायें (Run hardware Store and earn Money):

अब चूँकि उद्यमी ने अपने Hardware Store Business के लिए लगभग सभी प्रक्रियाएं पूर्ण कर ली हैं इसलिए अब उद्यमी को अपने बिज़नेस को सफलतापूर्वक चलाने के विषय में सोचना होगा | इसके लिए उद्यमी चाहे तो उस क्षेत्र में स्थित कारपेंटर, पेंटर, प्लम्बर, मिस्त्री इत्यादि से संपर्क कर सकता है और उन्हें डिस्काउंट या कमीशन का लालच दे सकता है | क्योंकि हार्डवेयर की दुकान में अधिकतर इन्ही लोगों के इस्तेमाल में लाया जाने वाला सामान मिलता है और लोग अक्सर इनसे अच्छी एवं सस्ती Hardware Store के बारे में पूछते रहते हैं | इसके अलावा उद्यमी चाहे तो अपने बिज़नेस की मार्केटिंग के लिए मार्केटिंग की इन विभिन्न तकनीक का सहारा ले सकता है | वर्तमान में लोगों द्वारा हर सामान की ऑनलाइन खरीदारी भी की जा रही है हालांकि हार्डवेयर सामग्री अभी भी लोगों द्वारा स्थानीय मार्केट से ही खरीदी जाती है लेकिन उद्यमी चाहे तो अपनी वेबसाइट बनाकर भी अपना सामान ऑनलाइन बेचकर भी अपनी कमाई कर सकता है | इसके अलावा उद्यमी चाहे तो प्रचलित ईकॉमर्स वेबसाइट जैसे अमेज़न, फ्लिप्कार्ट, स्नेपडील इत्यादि पर अपने प्रोडक्ट को लिस्ट करके भी ऑनलाइन बेचकर कमाई कर सकता है |

हार्डवेयर स्टोर शुरू करने में आने वाला खर्चा एवं कमाई: (Expenditure and earning):

Hardware Shop Business एक ऐसा बिज़नेस है जिसमे यह बताना थोड़ा मुशिकल है की इस व्यापार को शुरू करने में कितना खर्चा आएगा | चूँकि एक हार्डवेयर स्टोर में तरह तरह का महंगा एवं सस्ता छोटा एवं बड़ा सभी प्रकार का सामान मिलता है | इसलिए इस व्यापार को शुरू करने में आने वाला खर्चा दुकान के साइज़ अर्थात स्माल साइज़, मीडियम साइज़ या लार्ज साइज़ पर निर्भर करता है | एक औसतन शहर में स्माल साइज़ का Hardware Store खोलने के लिए उद्यमी को 4-6 लाख रूपये की आवश्यकता हो सकती है जबकि मीडियम साइज़ स्टोर खोलने के लिए 7-10 लाख रूपये की और लार्ज साइज़ स्टोर खोलने में उद्यमी 12 लाख से ऊपर कितनी भी पूँजी लगा सकता है | कहने का अभिप्राय यह है की शुरूआती दौर में उद्यमी को इस प्रकार से प्रोडक्ट का चुनाव करना होगा की उसके व्यापार को शुरू करने में आने वाली लागत 6 लाख से ऊपर न जाय | हार्डवेयर के सामान का चुनाव इस व्यापार को शुरू करने में आने वाली लागत को प्रभावित करता है | जहाँ तक इस व्यापार से कमाई का सवाल है कमाई पूर्ण रूप से बिक्री पर निर्भर करती है अर्थात उद्यमी की जितनी ज्यादा बिक्री होगी उतनी ही ज्यादा उसकी कमाई भी होगी | पेन्ट प्रोडक्ट पर 5-15% तक मार्जिन अपेक्षित है |

हार्डवेयर की दुकान को सफलतापूर्वक चलाने के लिए क्या करें (Succeed Tips in hardware Store Business)

जैसा की हम सबको विदित है की हर बिज़नेस करने वाला व्यक्ति बिज़नेस में सफल नहीं हो पाता है | उसके पीछे कई कारण होते हैं जिनका उल्लेख हमने बिज़नेस में असफल होने के कारण नामक लेख में किया हुआ है | इसी बात को ध्यान में रखते हुए हम यहाँ पर कुछ ऐसी बातों का उल्लेख कर रहे हैं जिनका अनुसरण करके उद्यमी अपने Hardware Store को सफलतापूर्वक चलाकर कमाई कर सकता है |

  • अपने प्रतिस्पर्धियों के बारे में पता करें की यदि उनके पास आपसे अधिक ग्राहक आ रहे हैं तो उसके पीछे क्या कारण हैं | जब आपको अपने प्रतिस्पर्धियों की खूबियों का पता चलेगा तभी आपको आपकी कमियों का भी पता चलेगा, ताकि आप उन्हें दूर कर सकें |
  • संभव हो तो अपनी दुकान को कंप्यूटरीकृत करें और कोई ऐसा सॉफ्टवेर ख़रीदे जो एकाउंटिंग फैसिलिटी के अलावा ग्राहक मैनेजमेंट की भी फैसिलिटी देता हो | इससे उद्यमी यह जान पाने में सक्षम होगा की उसके Hardware Store पर कौन ग्राहक बार बार आता है ऐसे नियमित ग्राहकों के लिए एक अलग योजना बनायें |
  • इस तरह का व्यापार करने वाले व्यक्ति अपने आय व्यय का ब्यौरा नहीं रखते हैं, ऐसे में कभी कभी दुकान अच्छी भी चल रही होती है लेकिन किसी और कारणवश उद्यमी दुकान से कमाई किये हुए पैसे कहीं और खर्च कर देता है और बाद में भूल जाता है तो उसे लगता है की उसकी दुकान ही नहीं चल रही है | इसलिए प्रत्येक आय व्यय का ब्यौरा उद्यमी को बिज़नेस के प्रति निर्णय लेने में मदद करेगा |
  • हार्डवेयर के बहुत सारे सामान ऐसे होते हैं जिनमे कीमत अर्थात एमआरपी नहीं लिखी होती है ऐसे में कई उद्यमी उन्हें उच्च दामों में ग्राहकों को बेच देते हैं | इसका परिणाम यह होता है की वह ग्राहक दुबारा उस दुकान में भूलकर भी नहीं जाता | इसलिए Hardware Store Business को सफल बनाना है तो ऐसी हरकत कतई न करें क्योंकि वर्तमान में ग्राहक काफी सजग एवं जागरूक है | और उस ग्राहक का आपके बिज़नेस के प्रति गलत दृष्टिकोण उसे हमेशा के लिए आपके बिज़नेस से दूर कर सकता है |
  • अपने उन सामानों की एक सूची बना के रख लें जो उस एरिया विशेष में अधिक बिकते हों, इसलिए उनका स्टॉक भी अधिक रखें ताकि किसी ग्राहक को आपकी दुकान से खाली हाथ न लौटना पड़े |
  • समय समय पर अपने Hardware Store में उपलब्ध सामान की जांच करते रहें और जो भी कम हो उसे समाप्त होने से पहले मंगा लें | क्योंकि कुछ ग्राहक ऐसे होते हैं जिन्हें किसी दुकान में एक बार सामान नहीं मिलता है तो वे खुद तो यह समझ ही लेते हैं की वहाँ कुछ नहीं मिलता बल्कि औरों को भी इस बात से अवगत कराने में परहेज नहीं करते | जिससे उद्यमी अपने आंशिक ग्राहकों को खो सकता है |

यह भी पढ़ें :

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य बिज़नेस, लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, बैंकिंग, कैरियर और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

One thought on “हार्डवेयर की दुकान कैसे खोलें? How to start hardware store business in Hindi.

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *