Lamination Paper की यदि हम बात करें, तो यह एक ऐसा पेपर है, जिसे लेमिनेशन करने के इस्तेमाल में लाया जाता है। आम तौर पर लेमिनेशन फाइबरबोर्ड या अन्य कणों पर अच्छे दिखने एवं उन्हें प्रतिरोधी सतह देने के लिए किया जाता है। और फिर इनका इस्तेमाल फर्नीचर, सजावट पैनल और फ्लोरिंग के तौर पर किया जाता है। लेमिनेट की यदि हम बात करें, तो इसकी एक परत हो सकती है या फिर एक परत से अधिक कई परत भी हो सकती हैं, और प्रत्येक परत का अपना अलग अलग कार्य होता है। इसके आधार की यदि बात करें, तो यह सबसे अधिक बार, कण या फिर फाइबरबोर्ड होता है। उसके बाद कुछ परतें शोषक क्राफ्ट पेपर की होती हैं।

अंतिम परत एक सजावट पेपर की होती है, जो एक कोटिंग से कवर होता है। Lamination Paper को आम तौर पर, मेलामाइन नामक एक इनेर्ट रेजिन से कवर किया जाता है, जिसे कागज़ के ढाँचे के साथ एक कठिन संयोजन बनाने के लिए ठीक किया जाता है। लैमिनेट्स में लैमिनेटिंग क्राफ्ट के पीछे की ओर एक लाइनिंग भी हो सकती है।  जो टॉप साइड लेमिनेशन द्वारा उत्पन्न किये गए तनाव की भरपाई करने में समर्थ होती है। सस्ते कण बोर्ड्स के लेमिनेटिंग क्राफ्ट्स में एक लाइन हो सकती है, जो सतह को धोने के योग्य और पानी प्रतिरोधी बनाती है। सजावटी पेपर को एक मेलामाइन लैमिनेटेड शीट बनाने के लिए उसे गर्मीं और अधिक या कम दबाव के साथ भी प्रसंस्कृत किया जा सकता है। जिसके कई एप्लीकेशन होते हैं।

लेमिनेशन पेपर की गुणवत्ता (Qualities of Lamination Paper)

यदि Lamination Paper की गुणवत्ता अच्छी हो, तो उसके इस्तेमाल के जो विभिन्न फायदे होते हैं। उनकी लिस्ट कुछ इस प्रकार से है।

  • लेमिनेशन करने से प्रिंट सामग्री की टिकाऊपन की क्षमता बढती है। जिससे इन्हें लम्बे समय तक लगातार इस्तेमाल में लाया जा सकता है।
  • इस सामग्री को, विभिन्न नुकसानों जैसे उँगलियों के निशान, धब्बे, दाग, आंसू, झुर्रियों, निशान, घर्षण, तेल, गंदगी, नमी, पानी, ग्रीज इत्यादि कन्टेनमेंट से बचाता है। अर्थात इनसे सामग्री को सुरक्षा प्रदान करता है।
  • लेमिनेशन प्रिंट की हुई सामग्री में स्याही के रंगों को बढ़ावा देता है। जिससे उसमें लिखी या मुद्रित सामग्री साफ़ एवं स्पष्ट नज़र आती है। इससे प्रिंटेड सामग्री को अधिक प्रोफेशनल लुक मिलता है, और वह सामग्री लम्बे समय तक ध्यान आकर्षित करने में सफल रहती है।
  • यह सामग्री में शक्ति और मजबूती को शामिल करता है। और उच्च गुणवत्ता एवं महत्व की छाप भी छोड़ता है।
  • Lamination Paper पूर्ण रूप से पारदर्शी होता है, और किसी भी प्रकार की प्रिंटिंग को खराब नहीं करता है।
  • लेमिनेशन करने में बहुत ज्यादा खर्चा नहीं आता है। बल्कि यह लोगों की जेब के लिए किफायती ही साबित होता है। क्योंकि प्रिंट सामग्री की आयु को बढ़ाकर यह लोगों के दुबारा प्रिंट करने में आने वाले खर्चे को भी कम करता है।
Lamination Paper Manufacturing business

लेमिनेशन पेपर का बाजार विश्लेषण

एलुमिनियम लेमिनेटेड पेपर, जिसे प्राथमिक तौर पर चॉकलेट एवं अन्य खाद्य पदार्थों को पैकिंग एवं रैप करने इस्तेमाल में लाया जाता है, के उत्पादन के लिए लेमिनेटिंग बेस पेपर महत्वपूर्ण सामग्री में से एक है। लेमिनेटिंग बेस पेपर के प्रमुख अनुप्रयोगों में स्चेट्स एवं पाउच भी शामिल हैं। लेमिनेटिंग बेस पेपर एलुमिनियम लेमिनेटेड पेपर को न सिर्फ मजबूती प्रदान करता है, अपितु प्रिंटिंग प्रक्रिया को आसान एवं सरल बनाने के लिए चिकनी सतह भी प्रदान करता है।

ऐसे कागज़ जिनका इस्तेमाल रासायनिक अभिक्रियाओं के तहत किया जाता है। उसके साथ खाद्य उत्पादों का प्रत्यक्ष संपर्क अवांछनीय है। वह इसलिए क्योंकि इनसे अंतिम उपभोक्ता को कई स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएं हो सकती हैं। यही कारण है की लेमिनेटिंग बेस पेपर को एलुमिनियम के साथ कम से कम एक तरफ से लेपित किया जाता है ताकि यह खाद्य पैकेजिंग इत्यादि अनुप्रयोगों के लिए उपयुक्त एवं अनुकूल बन सके।

चूँकि इस प्रकार के Lamination Paper, अर्थात लेमिनेटिंग बेस पेपर का इस्तेमाल, प्रमुख रूप से खाद्य पदार्थों की पैकेजिंग अनुप्रयोगों के लिए किया जाता है। इसलिए अंतराष्ट्रीय स्तर पर लेमिनेटिंग बेस पेपर की मांग बाज़ारों में बढ़ने की उम्मीद लगाई जा सकती है। वैसे देखा जाय तो फ़ूड पैकेजिंग इंडस्ट्री ही लेमिनेटिंग बेस पेपर की प्रमुख ग्राहकों में शामिल है। और जैसे जैसे यह इंडस्ट्री बढ़ते जा रही है, वैसे वैसे Lamination Paper की मांग भी घरेलु एवं वैश्विक बाज़ारों में बढती जा रही है।

लेमिनेशन पेपर निर्माण बिजनेस कैसे शूरू करें (How to Start Lamination paper Manufacturing Business)

शुरुआती दौर में इस तरह के व्यवसाय को, एक दो श्रमिकों को काम पर रखने की योजना बनाकर बेहद आसानी से शुरू किया जा सकता है। और इस व्यवसाय पर आने वाली लागत भी उद्यमी के व्यवसाय के आकार पर निर्भर करेगी। इसलिए इस व्यवसाय को शुरू तो कोई भी कर सकता है। लेकिन यदि एक ऐसा व्यक्ति जिसे इस क्षेत्र में पहले से कोई अनुभव प्राप्त हो। वह इस व्यवसाय को करता है, तो Lamination Paper Manufacturing Business  की सफलता की संभावना बहुत अधिक बढ़ जाती है। आइये आगे हम स्टेप बाई स्टेप इस बिजनेस को शुरू करने की प्रक्रिया के बारे में बात करते हैं।

1. स्थानीय स्तर पर रिसर्च करें

जैसा की हम सब जानते हैं की Lamination Paper का इस्तेमाल, विभिन्न जरुरी दस्तावेजों को सुरक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से किया जाता है, ताकि वे लम्बे समय तक सुरक्षित रह सकें। लेकिन इनके अलावा विभिन्न प्रकार के कार्ड्स इत्यादि के ऊपर भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। और एक बात और सामने आई है, की लेमिनेटिंग बेस पेपर की सबसे बड़ी ग्राहक फ़ूड पैकेजिंग इंडस्ट्री है। इसलिए उद्यमी को जिस एरिया में यह व्यवसाय शुरू करना हो। सबसे पहले उस एरिया में फ़ूड पैकेजिंग कम्पनियों, लेमिनेशन सेण्टर इत्यादि की संख्या का पता करने की आवश्यकता हो सकती है।

ताकि वह इनकी संख्या के आधार पर उस एरिया में लेमिनेशन पेपर की मांग का आकलन कर पाने में सक्षम हो पाए। इसके अलावा उद्यमी को उस एरिया में इस व्यवसाय की प्रतिस्पर्धा का भी आकलन करना होगा। और प्रतिस्पर्धा से निपटने के लिए योजना का भी क्रियान्वयन करने की आवश्यकता हो सकती है।       

2. जगह या दुकान का प्रबंध करें

किसी भी उद्यमी को चाहे वह कोई भी व्यवसाय शुरू कर रहा हो, उसे जगह या बिल्डिंग की आवश्यकता अवश्य होती है। इसलिए Lamination Paper Manufacturing शुरू करने के लिए, उद्यमी को जगह की आवश्यकता तो होती ही है। लेकिन छोटे स्तर पर इस तरह का व्यवसाय शुरू करने के लिए बहुत बड़ी जगह की आवश्यकता न होकर, सिर्फ 200-300 Square Feet जगह की ही आवश्यकता होती है। और इसके लिए यह भी जरुरी नहीं है, की उद्यमी अपने इस व्यवसाय को किसी भीड़ भाड़ या व्यस्त इलाके से ही शुरू करे। बल्कि उस एरिया में, जहाँ भी उद्यमी को सस्ती जगह या दुकान मिल रही हो, उद्यमी वहीँ से अपने इस व्यवसाय को शुरू कर सकता है।

बशर्ते की वहां पर सड़क, बिजली, पानी इत्यादि की उचित व्यवस्था हो। इसके अलावा जगह या दुकान किराये पर लेते वक्त, रेंट एग्रीमेंट इत्यादि अवश्य बनवा लें। ताकि जरुरत पड़ने पर उसे व्यवसायिक पता प्रमाण के तौर पर इस्तेमाल में लाया जा सके।       

3. लाइसेंस एवं पंजीकरण (Registration to Start Lamination Paper Manufacturing):

उद्यमी चाहे तो, अपने व्यवसाय को शुरूआती दौर में प्रोप्राइटरशिप फर्म के तौर पर शुरू करके भी, इस व्यवसाय को शुरू कर सकता है। प्रोप्राइटरशिप इसलिए, क्योंकि इसके तहत रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया में उद्यमी को बहुत अधिक औपचारिकताओं को पूर्ण करने की आवश्यकता नहीं होती। और इस प्रक्रिया को उद्यमी चाहे तो ऑनलाइन भी पूर्ण कर सकता है। इसके अलावा Lamination Manufacturing Business के लिए उद्यमी को जीएसटी रजिस्ट्रेशन, स्थानीय प्राधिकरण से ट्रेड लाइसेंस, उद्यम पोर्टल एवं एमएसएमई डाटा बैंक रजिस्ट्रेशन इत्यादि करने की भी आवश्यकता हो सकती है।    

4. मशीनरी एवं कच्चा माल खरीदें

जहाँ तक, Lamination Paper निर्माण में इस्तेमाल में लायी जाने वाली मशीन का सवाल है। आम तौर पर इस प्रक्रिया में दो तरह की मशीनरी इस्तेमाल में लायी जाती है।

रोल टू रोल शीट मशीन : इस तरह की इस मशीन का इस्तेमाल, पेपर प्लेट, पेपर कप इत्यादि को लेमिनेट करने के लिए भी किया जाता है।

शीट टू रोल शीट मशीन: इस तरह की इस मशीन का इस्तेमाल, मिठाई के डिब्बे, कपड़ों के डिब्बे इत्यादि को भी लेमिनेट करने के लिए किया जाता है।

इन मशीनों का इस्तेमाल कच्चे माल की मदद से विभिन्न प्रकार के पेपर उत्पादों को लेमिनेट करने के लिए किया जाता है। इन मशीन की मदद से रोलिंग, लेमिनेटिंग इत्यादि प्रक्रियाएं कुछ ही समय में आसानी से पूर्ण की जा सकती हैं। जहाँ तक Lamination Paper निर्माण में कच्चे माल का सवाल है, इसे बनाने के लिए पेपर, प्लास्टिक पौलिथिन और ग्लू का प्रमुख तौर पर इस्तेमाल होता है। उद्यमी इस व्यवसाय में प्रयुक्त होने वाली मशीन, एवं कच्चे माल को स्थानीय या फिर किसी अन्य सप्लायर से भी आसानी से खरीद सकता है।      

5. निर्माण कार्य शुरू करें (Start Manufacturing of Lamination Paper): 

मशीन के माध्यम से, Lamination Paper का निर्माण करना भी, बेहद आसान प्रक्रिया है। इस प्रक्रिया में, मशीन के एक सिरे से, पेपर, कच्चे माल के तौर पर डाला जाता है। उसके बाद मशीन के उसी छोर से पेपर के सामानांतर, प्लास्टिक की पतली फिल्म को भी मशीन में, फिट किया जाता है। और मशीन में उसके बाद ग्लू यानिकी गोंद डाला जाता है। और रोल टू रोल प्रक्रिया शुरू हो जाती है। उसके बाद फिनिश उत्पाद, डाई में रखने के लिए तैयार हो जाता है। डाई के माध्यम से, इसे, विभिन्न आकार में  आसानी से परिवर्तित किया जा सकता है। 

यह भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published

error: