Niryat Bandhu Scheme in Hindi.

Niryat Bandhu Scheme in Hindi.

Niryat Bandhu Scheme भारत सरकार के विदेश व्यापार महानिदेशालय द्वारा चलाई गई एक योजना है जिसका लक्ष्य पहली पीढ़ी के उद्यमियों एवं IEC होल्डर को आयात निर्यात बिज़नेस सम्बन्धी प्रशिक्षण एवं सलाह प्रदान करना है | भारत में अंतराष्ट्रीय बिज़नेस शुरू करने के लिए भारत सरकार में विदेश व्यापार महानिदेशालय पहला संपर्क बिंदु है | कोई भी व्यक्ति जो अंतराष्ट्रीय व्यापार शुरू करना चाहता है उसके लिए सबसे पहले Import Export Code (IEC) के लिए आवेदन करना आवश्यक हो जाता है | एक आंकड़े के मुताबिक Directorate General of Foreign trade प्रति वर्ष लगभग 60000 IEC जारी करता है | तत्पश्चात IEC holder विदेशी व्यवपार निति के अंतर्गत लाभ प्राप्त करने हेतु DGFT से संपर्क करते हैं |

Niryat-Bandhu-Scheme in hindi

महानिदेशालय के अनुभव के अनुसार सामान्य तौर पर नए उद्यमियों में अन्तराष्ट्रीय बिज़नेस करने के लिए आवश्यक जरुरी Skills की भारी कमी देखने को मिलती है | इसी बात के मद्देनज़र भारत सरकार ने पहली पीढ़ी के उद्यमियों के लिए 13 October 2011 को Niryat Bandhu Scheme की घोषणा की | इस योजना में निर्यात बंधु से आशय सरकार या DGFT द्वारा नियुक्त ऑफिसर से है जो इच्छुक व्यक्ति एवं उद्यमियों को अन्तराष्ट्रीय व्यवपार के क्षेत्र में सलाह देने का काम करेंगे | Directorate General of Foreign trade नए आयातकों एवं निर्यातकों को समयानुसार उचित दिशानिर्देश एवं बिज़नेस सम्बन्धी ज्ञान को बढ़ावा देता है |

Components of Niryat Bandhu scheme in hindi:

Niryat Bandhu Scheme के कुछ मुख्य अवयव इस प्रकार से हैं |

  • नए Import Export Code धारकों के उपयोग एवं मुद्रण के लिए सामग्री का विकास एवं तैयारी |
  • IEC धारकों एवं नए उद्यमियों के लिए प्रशिक्षण व्यवस्था हर महीने प्रत्येक Regional Authority में |
  • निर्यात के लिए उपयुक्त नगरों में विशिष्ट विषय उत्कृष्टता पर प्रशिक्षण/बैठकें/सेमिनार |
  • उद्योग संघों, विश्वविद्यालयों, प्रबंधन स्कूल, इत्यादि में सेमिनार |
  • आईटीएस/डीजीएफटी अधिकारियों का क्षमता निर्माण |
  • छोटे और मध्यम स्तर के सामरिक महत्व को ध्यान में रखते हुए बिजनेस एक्सिलेंस सपोर्ट टीम का विकास (डीजीएफटी-BEST)।

Regional Authority की जिम्मेदारी एवं कार्यक्षेत्र:

Niryat Bandhu Scheme के अंतर्गत Regional Authority को निम्न जिम्मेदारियों का निर्वहन करने का प्रावधान किया गया है |

  • Regional Authority के प्रमुख स्थानीय स्तर पर व्यवसायिक शिक्षा टीम का निर्माण करेंगे | सपोर्ट टीम एवं Business Education team में DGFT से कम से कम 4 ऑफिसर होने चाहिए | Regional Authority टीम के सदस्यों को जरुरत पड़ने पर ट्रेड नोटिस जारी कर सकता है |
  • प्रत्येक Regional Autherity को Business excellence support team (BEST) का निर्माण करना होगा जिनके पास जरुरी उपकरण जैसे लैपटॉप, प्रोजेक्टर, स्क्रीन इत्यादि उपलब्ध होने जरुरी हैं |
  • ITS Officer को वैश्विक स्तर पर विदेशी व्यापार के नियमों में आये बदलावों से रूबरू कराने के लिए प्रशिक्षण दिया जायेगा |
  • अध्यन सामग्री, सेमिनार बुकलेट एवं ट्रेनिंग/ इंडक्शन सामग्री इत्यादि का मुद्रण बेहद सरल भाषा में किया जाने का प्रावधान है ताकि अंतराष्ट्रीय व्यापार से जुड़े उद्यमियों, व्यक्तियों को प्रक्रियाएं आसानी से समझ में आ सकें |
  • प्रशिक्षण हेतु उद्यमियों की पहचान के लिए Regional Authority उनकी कांटेक्ट डिटेल्स एवं ईमेल आईडी का रिकॉर्ड मेन्टेन करेंगे और Identified उद्यमियों से संपर्क भी करेंगे |

Achievements of Niryat Bandhu Scheme in Hindi:

छोटे और मध्यम स्तर के इकाइयों के सामरिक महत्व को ध्यान में रखते हुए विनिर्माण क्षेत्र में रोजगार उत्पति, उत्पाद की निर्यात करने की संभावना इत्यादि के आधार पर  108 ‘MSME समूहों’ की पहचान की गई है | इसके अलावा हस्तक्षेप को रोकने के लिए Niryat Bandhu Scheme के अन्तरगत 35 ‘’Town Of Excellence’’ को लिया गया है | वर्ष 2014-15 में इस योजना की मुख्य उपलब्धियाँ निम्न हैं |

    • प्रबंधन स्कूलों के छात्रों को मिलाकर 18283 नए और संभावित निर्यातकों को अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के विभिन्न पहलुओं के बारे में उन्मुखीकृत किया गया |
    • Regional Autherity द्वारा किये गए संवेदीकरण कार्यक्रम में 4650 Import Export Code (IEC) धारकों ने भाग लिया | जिन्हें बाद में IEC Grant किया गया |
    • Regional Authority द्वारा विभिन्न उत्कृष्टता नगरों/MSME Clusters पर 57 सेमिनार/वर्कशॉप आयोजित किये गए जिनसे 4020 से अधिक निर्यातकों को लाभ प्राप्त हुआ |
    • इसके अलावा RA द्वारा विभिन्न यूनिवर्सिटीज एवं मैनेजमेंट स्कूलों में 115 सेमिनार एवं वर्कशॉप आयोजित किये गए जिनसे लगभग 9613 विद्यार्थियों को लाभ प्राप्त हुआ |
    • ITS के 10 officers Indian Institute of foreign Trade के माध्यम से अपनी क्षमता बढ़ाने के उद्देश्य से सर्विस ट्रेनिंग पर भेजे गए |
    • DGFT के YouTube Channel पर Import Export Code के लिए एप्लीकेशन भरने की विडियो एवं Bank Realization Certificate, Shipping bill इत्यादि सम्बन्धी विडियो अपलोड की गई |

Niryat Bandhu Scheme के अंतर्गत आयात निर्यात बिज़नेस हेतु Online Certificate Program की शुरुआत की गई है | इसलिए इच्छुक व्यक्ति या उद्यमी और अधिक जानकारी के लिए या Niryat Bandhu Scheme के अंतर्गत Import Export business में Certification course की Online प्रक्रिया जानने के लिए हमारे द्वारा लिखे गए आयात निर्यात बिज़नेस के लिए ऑनलाइन प्रमाण पत्र कार्यक्रम  नामक इस लेख को पढ़ सकते हैं |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: