रियल एस्टेट बिज़नेस कैसे शुरू करें? How to start real estate business in Hindi.

कमाई के मामले में Real Estate business इंडिया में उन बिज़नेस की लिस्ट में शामिल है जिनसे कोई भी व्यक्ति बेहद कम समय में बहुत अधिक लाभ कमाकर धनवान बन सकता है | लेकिन जैसा की हम सबको विदित है की एक उम्र के बाद हर किसी को अपने जीवन में कमाई का महत्व समझ में आता है और वह फिर कमाई करने के एक या एक से अधिक तरीके तलाशने लगता है | कहने का आशय यह है की पैसे कमाना हर कोई चाहता है और पैसे कमाने की कोशिश उससे थोड़े कम लोगों द्वारा की जाती है | और सफलता पाने वाले उससे भी कम लोग होते हैं  Real Estate business भी करना हर कोई चाहता है करने की कोशिश उससे कम लोग करते हैं और सफल सिर्फ वही लोग होते हैं जिन्होंने समय समय पर अच्छी बिज़नेस रणनीतियां विकसित की हों और उन रणनीतियों के आधार पर अपने आपको बदलकर तैयार किया हो | भारत में Real Estate Business कृषि के बाद दूसरा सबसे बड़ा व्यापार है | इस व्यापार से लोगों द्वारा कमर्शियल प्रॉपर्टी, रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी एवं भूखंड प्लाट बेचकर कमाई की जाती है | वर्तमान में चूँकि भारत में मिडिल क्लास की जनसँख्या बढ़ रही है इसलिए इस तरह के व्यापार से कमाई करने के लिए अवसर विद्यमान हैं |

real estate business

रियल स्टेट बिज़नेस क्या है (What Is real estate business in Hindi):

Real Estate से आशय किसी बिल्डिंग या भूखंड से लगाया जाता है यह किसी भी व्यक्ति को एक स्थान विशेष या बिल्डिंग विशेष में वहां का हवाई अधिकार एवं भूमिगत अधिकार दिलाने में मदद करता है | अंग्रेजी शब्द Real का अर्थ वास्तविक होता है इसलिए Real Estate से आशय वास्तविक एवं भौतिक सम्पति से भी लगाया जा सकता है | कुछ लोगों का मानना है की रियल एस्टेट नामक इस शब्द की उत्पति लैटिन के एक शब्द Res से हुई है जिसका अर्थ वस्तुओं से लगाया जाता है | कुछ लोग यह भी मानते हैं की इसकी उत्पति लैटिन भाषा के एक शब्द Rex जिसका अर्थ शाही होता है से हुई है क्योंकि प्राचीनकाल में राजा अपने साम्राज्य के पूरी भूमि के मालिक हुआ करते थे | साधारण बोलचाल की भाषा में प्लाट, मकान, दुकान, बिल्डिंग, फ्लैट इत्यादि बनाने का एवं बेचने खरीदने का काम करना Real Estate Business कहलाता है | वर्तमान में रियल एस्टेट को चार भागों रेजिडेंशियल, कमर्शियल, इंडस्ट्रियल और भूखंड रियल एस्टेट में विभाजित किया जा सकता है |

रियल एस्टेट बिज़नेस के लिए बाजार में अवसर:

यद्यपि शुरूआती दौर में व्यक्ति को केवल स्थानीय बाजार को ध्यान में रखकर अर्थात स्थानीय लोगों की आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर या उस स्थान विशेष में किसी आर्थिक वर्ग विशेष की आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर ही Real Estate Business किया जाना फायदेमंद होता है | लेकिन संयुक्त परिवारों के विघटन, बढती जनसँख्या, बढती औद्योगिक गतिविधियों के कारण लोगों को हमेशा, प्लाट, मकान, दुकान इत्यादि की आवश्यकता होती रहती है | यही कारण है की यह क्षेत्र प्रति वर्ष लगभग 11 प्रतिशत की ग्रोथ रेट के साथ बढ़ रहा है | शहरों में किफायती घर मुहैया कराने के लिए भारत सरकार ने प्रधान मंत्री आवास योजना शहरी की शुरुआत की है इस योजना के तहत PPP (Private Public Partnership)  के अंतर्गत घर बनाकर बेचे जा रहे हैं | Real estate business मनुष्य की ऐसी आवश्यकता से जुड़ा है जो सबके लिए जरुरी तो है लेकिन इसमें बहुत सारा पैसा खर्च होता है | रियल एस्टेट व्यापार के अनेकों प्रारूप हो सकते हैं लेकिन यहाँ पर हम जिस प्रारूप की बात कर रहे हैं | उसमे उद्यमी को बहुत ज्यादा निवेश करने की आवश्यकता नहीं होती है और व्यक्ति एक Real Estate Agent के तौर पर या प्रॉपर्टी डीलर के तौर पर अपना बिज़नेस शुरू कर सकता है |

रियल एस्टेट व्यापार कैसे शुरू करें (How to start real estate Business in Hindi):

Real Estate Business शुरू करने के लिए उद्यमी को बहुत सारे काम करने पड़ सकते हैं इसके लिए व्यक्ति के पास लोगों को विश्वास में लेने का स्किल एवं बहुत सारे समय की आवश्यकता होती है | हालांकि अलग अलग प्रकार के रियल एस्टेट से जुड़े बिज़नेस शुरू करने के लिए अलग अलग, योग्यता  प्रक्रियाएं एवं अलग अलग निवेश की आवश्यकता होती है | लेकिन हम यहाँ पर एक रियल एस्टेट एजेंट के रूप में काम करके Real Estate Business कैसे किया जाता है के बारे में बता रहे हैं |

  1. अपने आप का आकलन करना (Evaluate Yourself ):

Real estate Business के जिस प्रारूप की हम बात कर रहे हैं उसमें ऐसे व्यक्ति सफल होते हैं जिन्हें पब्लिक डीलिंग का अनुभव हो | क्योंकि एक रियल एस्टेट एजेंट के रूप में उद्यमी को सभी प्रकार के लोगों से मिलना होता है | इसलिए व्यक्ति वाकपटुता में तो माहिर होना ही चाहिए साथ में अपनी बात को प्रभावी ढंग से रखने वाला भी होना चाहिए | क्योंकि प्रॉपर्टी खरीदवाने एवं बिकवाने के लिए लोगों को विश्वसनीय व्यक्ति की ही आवश्यकता होती है | इसलिए Real Estate Business शुरू करने से पहले व्यक्ति को अपनी ताकत एवं कमियों का आकलन कर लेना चाहिए | और यह पता करने की कोशिश करनी चाहिए की उन कमियों में कोई ऐसी कमी तो नहीं है जिससे उसका बिज़नेस नकरात्मक रूप से प्रभावित होगा |

  1. घर से या अलग सा कार्यालय का निर्णय  (From Where to Start Home or Office):

Real Estate Business के जिस प्रारूप की हम यहाँ पर बात कर रहे हैं इस प्रकार के व्यापार को व्यक्ति चाहे तो बिना कोई ऑफिस लिए घर से भी शुरू कर सकता है | लेकिन स्थानीय एवं व्यापारिक गतिविधियों में शामिल लोग एक ऐसे एजेंट के माध्यम से प्रॉपर्टी खरीदना एवं बेचना पसंद करते हैं जिसका अपना ऑफिस हो | इसलिए उद्यमी को इस तरह का यह व्यापार शुरू करने के लिए यह निर्णय लेना होगा की वह यह बिज़नेस अपने घर से क्रियान्वित करेगा या अलग से कोई ऑफिस लेगा | हालांकि यदि शुरूआती दौर में उद्यमी को लगता है की वह दुकान का किराया देने में सक्षम नहीं है तो वह घर से ही इस व्यापार को ऑपरेट कर सकता है और जैसे जैसे उसे ग्राहक मिलते जाएँ एवं कमाई होती जाए वैसे वैसे वह ऑफिस लेकर काम को विस्तृत करने की सोच सकता है |

  1. RERA के अंतर्गत रियल एस्टेट एजेंट का लाइसेंस:

अब यदि Real Estate Business करने वाले व्यक्ति ने यह निर्णय ले लिया हो की वह इस व्यापार को कहाँ से ऑपरेट करेगा तो अब उसका अगला कदम Real Agent License के लिए अप्लाई करने का होना चाहिए | मई 2017 से पहले इस तरह का व्यापार करने वालों के लाइसेंस के लिए कोई कानून नहीं था लेकिन 1 मई 2017 से RERA (Real Estate Regulatory Authority) अधिनियम लागू होने के बाद इसके अंतर्गत Real Estate Agent का रजिस्ट्रेशन कराया जा सकता है | हालांकि अभी भी बहुत सारे बिना लाइसेंस के प्रॉपर्टी डीलर हर शहर में मिल जायेंगे लेकिन कल को जमे जमाये व्यापार में कोई क़ानूनी अड़चन पैदा न हो इसके लिए RERA Act के अंतर्गत रजिस्ट्रेशन करा लेना चाहिए | अधिकतर राज्यों ने इस तरह की यह प्रक्रिया ऑनलाइन की हुई है | Real Estate Agent का लाइसेंस लेने के लिए अलग अलग राज्यों में अलग अलग फीस का प्रावधान हो सकता है, लेकिन यदि हम महाराष्ट्र की बात करें तो वर्तमान में व्यक्तिगत व्यक्ति (Individual) के तौर पर Real Estate Agent के लिए यह फीस 10000 रूपये निर्धारित है | और Individual को छोड़कर अन्य जैसे कंपनी, फर्म , स्थापना इत्यादि के लिए यह एक लाख रूपये निर्धारित की गई है | RERA के अंतर्गत एक बार जारी हुआ लाइसेंस अगले पांच वर्षों तक के लिए वैध होगा |

  1. ऐसे लोगों की तलाश जो खुद की प्रॉपर्टी बेचना चाहते हों:

अब चूँकि व्यक्ति एक लाइसेंसधारी एजेंट बन गया है इसलिए अब उद्यमी का लक्ष्य ऐसे लोगों को ढूंढने का होना चाहिए जो किसी कारणवश अपनी प्रॉपर्टी जैसे घर, जमीन, मकान, दुकान इत्यादि बेचने के इच्छुक हों | क्योंकि Real Estate Business के इस प्रारूप में उद्यमी की भूमिका एक एजेंट की है इसलिए उसने दूसरों की प्रॉपर्टी को दूसरों को बेचकर ही अपनी कमाई करनी है | ऐसे में उद्यमी के पास अपना वाहन होना नितांत आवश्यक है क्योंकि एजेंट को खुद भी साईट देखने जाना पड़ता है और बहुत सारे ग्राहकों को भी साईट दिखाने ले जाना पड़ता है | ऐसे व्यक्ति जो किसी मज़बूरी के कारण अपनी प्रॉपर्टी बेचना चाह रहे हों से डील करके उद्यमी अपनी अधिक कमाई कर सकता है | और जब मज़बूरी के कारण बढ़िया चीज सस्ते दामों में मिलती है तो उसके लिए ग्राहक भी आसानी से मिल जाते हैं |

  1. ऐसे लोगों को ढूँढना जो प्रॉपर्टी खरीदना चाहते हों :

अब शुरूआती दौर में यदि Real Estate Business करने वाले उद्यमी के पास पचास लोग भी ऐसे हो गए जो अपनी प्रॉपर्टी बेचने के इच्छुक हैं तो अब उद्यमी इन पचास प्रॉपर्टीज के लिए ग्राहक ढूंढने का काम कर सकता है | ग्राहक ढूंढने के लिए उद्यमी को अथक प्रयत्न करना होगा किस प्रकार के लोग उसके द्वारा बेची जाने वाली प्रॉपर्टी को खरीदने में सक्षम हो सकते हैं उनकी पहचान करनी होगी | फिर उनसे जान पहचान बढ़ाने की कोशिश करनी होगी क्योंकि प्रॉपर्टी के मामलों में अक्सर देखा गया है की लोग अपने जानने वालों या रिश्तेदारों की कही बात का ही भरोसा करते हैं |

जितने ज्यादा ग्राहक उतनी ज्यादा कमाई:

जहाँ तक इस Real Estate Business से होने वाली कमाई का सवाल है उद्यमी को इस बात का ध्यान रखना चाहिए की एक डील पर उद्यमी 35000-100000 रूपये तक कमा सकता है | यह सब उद्यमी की वाकपटुता एवं ग्राहक को अपनी बातों से प्रभावित करने वाली कला पर निर्भर करता है | और साथ में इस बात पर भी निर्भर करता है की विक्रेता उस प्रॉपर्टी को किसी आपातकाल के कारण बेचना चाह रहा है या साधारण तौर पर क्योंकि आपातकाल में वह अपनी प्रॉपर्टी सस्ते दामों पर भी बेच सकता है जिससे उद्यमी के कमीशन में बढ़ोत्तरी हो सकती है |

यह भी पढ़ें:

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

2 thoughts on “रियल एस्टेट बिज़नेस कैसे शुरू करें? How to start real estate business in Hindi.

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *