99 स्टोर बिजनेस कैसे शुरू करें? How to start a 99 Store Business in India.

99 Store Business भारत जैसे विशालकाय देश में जहाँ अधिकतर लोगों की आमदनी कम है, बेहद लाभकारी व्यवसाय हो सकता है। वह इसलिए क्योंकि यहाँ पर सस्ते दामों में वस्तुओं को खरीदने वालों की कोई कमी नहीं है यही कारण है की ऐसे स्टोर में हर समय ग्राहकों की भीड़ देखी जा सकती है। जैसा की हम सब अच्छी तरह से जानते हैं की भारत जनसँख्या की दृष्टी से विश्व में दूसरा सबसे बड़ा देश है, इसलिए यहाँ हर प्रकार की वस्तुओं के उपभोग के लिए भी विश्व में एक बहुत बड़ा बाजार है। जहाँ तक बात 99 Store Business की है इसमें ग्राहकों के सामने अनेकों विकल्प मौजूद होते हैं, अर्थात उन्हें सैकड़ों हजारों आइटम में से अपनी आवश्यकतानुसार ऐसे आइटम का चुनाव करना होता है जो उन्हें लगता है की यह इतने कम पैसों में कहीं नहीं मिलेगी। यही कारण है की किसी भीड़ भाड़ वाले इलाकों में 99 स्टोरों में ग्राहकों की काफी संख्या देखी जा सकती है। इस तरह का यह व्यवसाय लगभग सभी आय वर्ग के लोगों को टारगेट करता है, और आम तौर पर यह देश की बड़ी आबादी जैसे निम्न आय वर्ग, मध्यम आय वर्ग को तो विशेष रूप से टारगेट करता है जिनकी संख्या देश में सर्वाधिक है। इसलिए भारत जैसे जनाधिक्य वाले देश में 99 store business शुरू करना कमाई की दृष्टी से बेहद लाभकारी हो सकता है। यही कारण है की आज हम हमारे इस लेख के माध्यम से इसी विषय पर सम्पूर्ण जानकारी देने का प्रयत्न कर रहे हैं ताकि इच्छुक व्यक्ति जो उद्यमी बनने की ओर अग्रसित हैं, इस व्यवसाय को अपनाकर अपनी कमाई कर पाने में सक्षम हो।

steps to start 99 store business hindi

99 स्टोर क्या है? (What is 99 Store Business in Hindi)

यदि आपको इस व्यवसाय के बारे में अभी तक समझ में नहीं आया तो आपको स्पष्ट कर देना चाहेंगे की 99 Store एक ऐसा स्थान या दुकान होती है। जहाँ सभी वस्तुएं केवल और केवल 99 रूपये में उपलब्ध रहती हैं। चूँकि वर्तमान में 99 रूपये एक बेहद छोटी राशि है यही कारण है की इन स्टोरों में ग्राहकों की अच्छी खासी संख्या देखी जा सकती है। और यह जरुरी नहीं है की इस प्रकार के स्टोर में आइटम की कोई सीमा हो, बल्कि सच्चाई यह है की इस प्रकार के स्टोरों में नियमित तौर पर घरों में इस्तेमाल लायी जाने वाली वस्तुओं से लेकर, किरयाने के आइटम से लेकर, जूते, कपड़े इत्यादि सभी कुछ रूपये 99 में उपलब्ध रहता है। और ग्राहक इस प्रकार के स्टोर में इसलिए भी जाना पसंद करते हैं क्योंकि उन पर किसी भी आइटम को खरीदने का कोई दबाव नहीं रहता और वे आइटम को देखकर इस बात का अनुमान लगा सकते हैं की यह आइटम आम बाजार में 99 रूपये से कम की होगी या फिर अधिक की। अक्सर देखा गया है की लोगों को जिस आइटम के बारे में लगता है की यह 99 store में बेहद सस्ती मिल रही है, फिर यदि उसकी आवश्यकता उन्हें हाल फ़िलहाल न भी हो, तब भी वे उसे खरीदने से नहीं हिचकते हैं। इसलिए एक ऐसा स्टोर जहाँ से ग्राहक सारी वस्तुएं रूपये 99 में खरीद सकते हैं। उसे ही 99 Store के नाम से जाना जाता है।

99 स्टोर की आवश्यकता :

जैसा की हम पहले भी बता चुके हैं की एक 99 स्टोर में ऐसी ऐसी आइटम मिलती हैं, जो लगभग हर घर में हर रोज इस्तेमाल में लायी जाती हैं। इनमें प्लास्टिक से निर्मित आइटम से लेकर किचन क्राकरी, किरयाना का सामान, जूते, चप्पल, कपड़े, मोबाइल एक्सेसरीज इत्यादि सभी कुछ शामिल है। और वर्तमान में नियानब्बे या सौ रूपये किसी भी आय वर्ग के लिए कोई बहुत बड़ी रकम नहीं है। अर्थात कहने का आशय यह है की एक निम्न आय वर्ग का व्यक्ति भी अपनी घरेलु आवश्यकताओं पर नियानब्बे रूपये खर्च करने में सक्षम है। इसलिए इस तरह का यह व्यवसाय किसी भी आय वर्ग से अछूता नहीं है। 99 Store Business की एक खासियत यह भी है की यहाँ पर लोग उत्सुकतावश अर्थात वे यह जानना चाहते हैं की आखिर नियानब्बे रूपये में उन्हें कौन कौन सी वस्तु मिल सकती है। इस उत्सुकतावश भी वे स्टोर के अन्दर प्रवेश कर जाते हैं और जो वस्तु उन्हें लगती है की वो बाजार में उन्हें इतने कम पैसों में नहीं मिल सकती वे उसे तुरंत खरीद भी लेते हैं। चूँकि भारत की अधिकतर जनसँख्या निम्न आय वर्ग में ही शामिल है इसलिए वे हमेशा से ऐसी वस्तुओं को खरीदने की फ़िराक में रहती हैं जो उन्हें बेहद कम दामों में आसानी से मिल सकें। इसलिए वर्तमान में 99 Store की आवश्यकता लगभग हर छोटे – बड़े स्थानीय बाजार में है। इसमें अधिकतर गृह उपयोगी वस्तुएं होती हैं, जिनकी आवश्यकता मनुष्य को अपने नित्य प्रतिदिन के कार्यों को अंजाम देने के लिए पड़ती है इसलिए इनकी बिक्री भी शीघ्र होने की संभावना होती है।

99 Store बिजनेस कैसे शुरू करें? 

वैसे यदि लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन इत्यादि की दृष्टी से देखें तो 99 Store Business शुरू करना बेहद आसान एवं सरल प्रक्रिया है । वह इसलिए क्योंकि छोटे स्तर पर इस तरह का यह व्यापार शुरू करने के लिए किसी प्रकार के लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता नहीं होती है। लेकिन उद्यमी को स्थानीय नियमों का अनुसरण करते हुए ही इस व्यापार को शुरू करना होता है। इस व्यापार को शुरू करने के लिए भी उद्यमी को किसी भीड़ भाड़ वाले एरिया में दुकान या जगह की आवश्यकता होती है। जहाँ पर वह अपना स्टोर स्थापित करके इस तरह के व्यापार को शुरू कर सके। आइये जानते हैं कैसे कोई व्यक्ति खुद का इस तरह का व्यापार शुरू कर सकता है। वैसे उद्यमी चाहे तो जीएसटी रजिस्ट्रेशन इत्यादि पहले ही करवा सकता है। ताकि उसे माल मंगवाने, बिलिंग करने इत्यादि में किसी प्रकार की कोई परेशानी का सामना न करना पड़े। 

1. लोकेशन का चुनाव( Select a Location for 99 Store Business):

चाहे आपके स्टोर में कितनी ही सस्ती वस्तुएं क्यों न हो, लेकिन वहां लोग तभी आयेंगे जब उन्हें वहां तक पहुँचने में किसी प्रकार की कोई परेशानी का सामना न करना पड़े और वे आपके स्टोर को मुख्य मार्ग से आसानी से देख भी पायें। जी हाँ दोस्तो 99 Store Business भी एक ऐसा ही व्यवसाय है ज्सिके लिए एक अच्छी लोकेशन का होना नितांत आवश्यक है। इसलिए इस व्यवसाय के लिए कोई भीड़ भाड़ वाला इलाका जहाँ से प्रतिदिन हजारों हज़ार लोग गुजरते हों एक उपयुक्त लोकेशन हो सकती है। इसके अलावा किसी नगर शहर का स्थानीय बाजार भी इसके लिए उपयुक्त लोकेशन हो सकता है। इसलिए यदि उद्यमी चाहता है की उसका यह व्यवसाय सफल हो तो उसे एक अच्छी लोकेशन का चुनाव इसके लिए करना ही होगा।   

2. फ्रैंचाइज़ी या खुद का काम का निर्णय

वर्तमान में 99 Store Business शुरू करने के लिए पहले से संचालित कुछ प्रमुख स्टोर अपनी फ्रैंचाइज़ी भी लोगों को ऑफर कर रही हैं। ये न सिर्फ उद्यमी को माल बेच रही होती हैं बल्कि उन्हें उत्पाद को बेचने के लिए मार्केटिंग ब्रांडिंग इत्यादि में भी सहायता प्रदान करते हैं। लेकिन अधिकतर कम्पनियां यह सब सिर्फ उद्यमी के खर्चे पर ही करती हैं न की स्वयं के खर्चे पर। इसलिए यदि उद्यमी पहले से स्थापित किसी ब्रांडेड स्टोर के नाम के तहत अपना व्यवसाय शुरू करना चाहता है तो उसे फ्रैंचाइज़ी लेने की आवश्यकता हो सकती है। जबकि यदि उद्यमी स्वयं का स्टोर नाम रखकर स्वयं की ब्रांडिंग स्थापित करना चाहता है, तो उसे स्वयं का ही अर्थात स्वतंत्र रूप से ही इस व्यवसाय को शुरू करना चाहिए। स्वतंत्र रूप से इस व्यवसाय को शुरू करने के अनेक फायदे हो सकते हैं। स्वतंत्र तौर पर 99 Store Business करने का जो सबसे बड़ा फायदा है वह यह है की उद्यमी चाहे तो किसी से भी अर्थात जहाँ से भी उसे माल सस्ता मिलता है खरीद सकता है। अर्थात उद्यमी चाहे तो सीधे मैन्युफैक्चरर से, कस्टम में फंसे हुए माल, नीलामी वाले माल इत्यादि को सस्ते दामों में खरीद सकता है। जबकि फ्रैंचाइज़ी लेने के बाद उद्यमी की यह स्वतंत्रता समाप्त हो जाती है।        

3. चयनित लोकेशन पर जगह या दुकान का प्रबंध

उद्यमी द्वारा अपने स्टोर के लिए जिस भी लोकेशन का चुनाव किया गया हो अब उसका अगला कदम उस चयनित लोकेशन पर कोई खाली दुकान देखने का होना चाहिए। जहाँ वह खुद का 99 Store स्थापित कर सके जहाँ तक जगह का सवाल है इस कार्य के लिए 600-900 स्क्वायर फीट जगह उपयुक्त रहेगी। लेकिन यदि उद्यमी बड़ा निवेश करके इस व्यवसाय को शुरू करना चाहता है तो फिर उसे और भी अधिक जगह की आवश्यकता हो सकती है। उद्यमी को दुकान या जगह किराये पर लेते वक्त एक बात का ध्यान अवश्य रखना है की इसका लीज या रेंट एग्रीमेंट अवश्य बनवा ले, ताकि इस दस्तावेज को पता प्रमाण के तौर पर इस्तेमाल में लाया जा सके। जहाँ तक किराये की बात है किराया भी अलग अलग लोकेशन के आधार पर अलग अलग हो सकता है।       

4. इंटीरियर का काम कराएँ (Interior Work in 99 Store)

एक 99 Store में उद्यमी लगभग हर तरह की आइटम बेच रहा होता है इसलिए यदि इनको रखने की उचित व्यवस्था न की जाय तो न ये सिर्फ दुकान के आकर्षण को कम करेंगे। बल्कि ये ग्राहकों की नज़रों से भी बचे रहेंगे और जब ग्राहक उद्यमी से उस चीज को दिखाने के लिए कहेगा तो उद्यमी या उद्यमी के कर्मचारी को काफी परेशानी आएगी। इसलिए इन सबसे बचने के लिए 99 Store Business कर रहे उद्यमी को किसी इंटीरियर डिज़ाइनर की मदद से अपनी दुकान में इंटीरियर का काम करा लेना चाहिए। इसमें उद्यमी को अलग अलग केटेगरी जैसे कपड़ों के लिए अलग, प्लास्टिक आइटम के लिए अलग, किरयाना आइटम के लिए अलग, जूते चप्पल इत्यादि के लिए अलग अलग डिस्प्ले सेक्शन निर्धारित करने की आवश्यकता हो सकती है। और यदि उद्यमी चाहता है की ग्राहक स्वयं स्टोर के अन्दर आये और अपने आप वस्तु का चयन करके बिलिंग काउंटर पर बिल कराके निकल जाए, तो उसे अपने स्टोर में CCTV कैमरे भी इंस्टाल करने होंगे। ताकि उस स्टोर में कोई गलत गतिविधि किसी भी ग्राहक या कर्मचारी द्वारा न की जा सके। 

5. सप्लायर से माल मंगाएं

वर्तमान में बड़े बड़े महानगरों में तो 99 Store Business के लिए माल सप्लाई करने वाले सप्लायर आसानी से मिल जायेंगे। लेकिन छोटे नगरों में इस व्यापार में लिप्त उद्यमियों को हो सकता है की माल किसी बड़े शहरों से ही एक साथ मंगाना पड़ जाय। अक्सर देखा गया है की जब उद्यमी 5-10 लाख का माल एक साथ मंगाता है तो उसे सप्लायर द्वारा न सिर्फ उसके स्टोर तक डिलीवरी देने का ऑफर दिया जाता है। बल्कि उसे ट्रांसपोर्टेशन चार्जेज में छूट देने एवं कुछ अन्य अतिरिक्त आइटम देने की पेशकश सप्लायर द्वारा की जाती है। इसलिए यदि उद्यमी को कोई लोकल सप्लायर न मिल रहा हो, तो वह इस तरह का यह व्यापार शुरू करने के लिए एक साथ माल मंगवाने का निर्णय ले सकता है। बाकी जैसे जैसे उद्यमी को इस व्यापार को करने का अनुभव होता जायेगा उसे इस बात का भी पता चल जायेगा की उस लोकेशन पर वह कितने दिन में कितने तक का माल बेच लेता है। बाद में 99 Store Business करने वाला उद्यमी उसी आधार पर माल मंगवाने एवं स्टॉक बनवाए रखने का निर्णय ले सकता है। और यदि उद्यमी चाहे तो वह किसी बंद होने वाली फैक्ट्री, कस्टम में फंसे हुए माल, मैन्युफैक्चरर इत्यादि से भी सस्ते दामों में माल खरीदकर बेच सकता है।        

6. मार्केटिंग करें बेचें और कमायें (Run Your 99 Store Business Successfully):

वैसे यदि उद्यमी का 99 store किसी व्यस्त सड़क या भीड़ भाड़ वाले इलाके में मौजूद हो, जहाँ पर हर रोज सैकड़ों हजारों लोग चहलकदमी करते हों। तो उस स्थिति में इस तरह के व्यापार को मार्केटिंग इत्यादि की आवश्यकता नहीं होती है वह इसलिए क्योंकि ईधर उधर आने जाने वाले लोग ही उसके ग्राहक के तौर पर परिवर्तित हो जाते हैं। लेकिन वहां पर एक बात का ध्यान अवश्य रखना होता है की उद्यमी द्वारा स्पष्ट तौर पर यह लिखा हुआ होना चाहिए की वहां पर हर माल 99 रूपये में उपलब्ध है। क्योंकि अनेकों ग्राहक ऐसे भी होते हैं जो 99 Store का अभिप्राय इस बात से लगाने में असमर्थ होते हैं की यहाँ हर माल नियानब्बे रूपये में मिलता होगा। इसलिए दुकान के बाहर पोस्टर, बैनर इत्यादि लगे हुए होने चाहिए जिनमें लिखा हुआ हो की यहाँ हर माल 99 रूपये में उपलब्ध है। जहाँ तक कमाई का सवाल है अधिकतर उद्यमी इस व्यापार से 25% का मार्जिन कमा पाने में सक्षम हो पाते हैं। यानिकी जिस आइटम को वे नियानब्बे रूपये में बेच रहे होते हैं उसकी खरीद उनको 70-75 रूपये की पड़ती है। इसलिए यदि कोई उद्यमी एक महीने में पांच लाख का माल बेचने में सक्षम हो गया तो वह महीने में लगभग 1लाख रूपये तक की कमाई कर सकता है।

यह भी पढ़ें

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य बिज़नेस, लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, बैंकिंग, कैरियर और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *