खाद वितरण बिजनेस कैसे शुरू करें. How to Start a Fertilizer Store in India.

जहाँ तक Fertilizer Store या वितरण के बिजनेस की बात है यह किसानों से जुड़ा हुआ बिजनेस है। इसलिए इसे ग्रामीण इलाकों से ही शुरू किया जा सकता है। हालांकि भारतीय किसानों को उचित दरों पर खाद यानिकी उर्वरक प्राप्त हो सकें इसलिए उर्वरक का भंडारण, वितरण इत्यादि सरकार के नियंत्रण में रहता है। इसलिए जो बड़े स्टोर या बड़े वितरक होते हैं वे एक राज्य से दुसरे राज्य को उर्वरक सप्लाई करते हैं और माध्यम वितरक राज्यों से जिलों एवं छोटे वितरक जिलों के अन्दर उर्वरक वितरण करने का कार्य करते हैं । एक आंकड़े के मुताबिक सम्पूर्ण विश्व में धान, गेहूं, मक्का जैसी फसलों का उत्पादन करने के लिए लगभग 85 मिलियन टन से ज्यादा उर्वरक या खाद का इस्तेमाल किया जाता है। केवल भारत में ही नहीं अपितु दुनियाभर में Fertilizer Store  सरकार द्वारा ही नियंत्रित होते हैं। वह इसलिए क्योंकि देश के किसानों को उचित दरों पर इसकी सप्लाई करनी आवश्यक होती है। ग्रामीण भारत की बात करें तो यहाँ के अधिकतर लोग कृषि एवं कृषि के सहायक व्यवसायों पर ही अपनी आजीविका चलाते हैं। यही कारण है की उर्वरक वितरण या Fertilizer Store नामक इस व्यवसाय के लुप्त होने की कोई आशंका नहीं है। जैसा की हम सबको विदित है की समय बीतने के साथ साथ वैश्विक तौर पर जनसँख्या में भी वृद्धि हो रही है। इसलिए अनाज एवं भोजन की मांग भी लगातार बढती जा रही है। कृषि में उर्वरकों के इस्तेमाल से उत्पादन को बढ़ाया जा सकता है। यही कारण है की इसकी मांग हमेशा बनी रहती है। इसलिए यदि आप भी इस तरह का बिजनेस करके कमाई करना चाहते हैं तो आइये आगे हम इसी विषय पर कुछ जानकारी देने का प्रयास कर रहे हैं।

Steps to start fertilizer Store hindi

Fertilizer Store बिजनेस कैसे शुरू करें?

यद्यपि Fertilizer Store Business करना एक बेहद ही आसान प्रक्रिया हो सकती है लेकिन इसमें जो सबसे बड़ी जटिलता आती है वह होती है लाइसेंस की। चूँकि उर्वरक भण्डारण एवं वितरण सरकार द्वारा नियंत्रित किया जाता है। इसलिए इसके लाइसेंस वितरण में भी सरकार कई नियम एवं शर्तों का अनुपालन करने की सुनिश्चितता तय करने के लिए आवेदनकर्ता से अनेकों प्रकार के दस्तावेज जमा करने को कह सकती है। यही कारण है की अक्सर जब लोग इस तरह का बिजनेस शुरू करने की सोचते हैं तो वे सबसे पहले यही जानना चाहते हैं की वे खाद वितरण का लाइसेंस कैसे ले सकते हैं। यद्यपि वर्तमान में सरकार अपनी योजनाओं के तहत ग्रामीण इलाकों में किसानों को ग्राम प्रधान या सरपंच के माध्यम से मुफ्त में भी उर्वरक बांटने का काम कर रही है। लेकिन इस वितरण प्रणाली में खाद उन दूर सुदूर इलाकों में पहुँचती Fertilizer Store के माध्यम से ही है। इसलिए आगे जानते हैं की कैसे कोई व्यक्ति इस तरह का यह बिजनेस भारत में शुरू कर सकता है।

1. मार्किट का विश्लेषण (Market Analysis)

Fertilizer Store business देखा जाय तो एक स्थिर व्यवसाय है अर्थात यह लम्बे समय तक चलने वाला व्यापार है।वह इसलिए क्योंकि जब से मनुष्य जीवन का अस्तित्व इस पृथ्वी पर रहा है तब से उसे अपना पेट भरने अर्थात भोजन के लिए कुछ न कुछ की आवश्यकता पड़ती रही है। और पेट भरने के इन स्रोतों की बात करें तो कृषि से उत्पादित उत्पाद जैसे अनाज, दालें, हरी सब्जियाँ इत्यादि इनमें मुख्य रही हैं। इसलिए चूँकि दुनिया में जनसँख्या वृद्धि लगातार होती जा रही है तो उनकी भोजन की आवश्यकता भी बढती जा रही है। चूँकि उर्वरकों का इस्तेमाल प्रति हेक्टेयर भूमि में कृषि उत्पादों की मात्रा एवं गुणवत्ता में सुधार के लिए किया जाता है। इसके अलावा उर्वरक का इस्तेमाल अनेकों औद्योगिक क्रियाकलापों के लिए भी किया जाता रहा है। इसके अलावा जैसा की हम सब अच्छी तरह से जानते हैं की ग्रामीण भारत में निवासित लोग अपनी आजीविका चलाने के लिए कृषि एवं कृषि से सम्बंधित कार्यों को ही करते हैं। इसलिए उर्वरक की मांग दुनिया में लगातार जैसे आज है वैसे ही बने रहने के आसार हैं। इसलिए Fertilizer Store का बिजनेस शुरू करना इसलिए भी लाभकारी हो सकता है की एक निश्चित एरिया में सरकार द्वारा किसी एक ही व्यक्ति को लाइसेंस देने की व्यवस्था की जाती है। इसलिए उस एरिया में जितने भी किसान होते हैं उन सबको उर्वरक वितरण की जिम्मेदारी उसी की होती है।         

2. किराये पर जगह (Rent a Space for Fertilizer Store)

Fertilizer Store शुरू करने के लिए उद्यमी को किसी स्थानीय बाजार या रोड पर एक दुकान की आवश्यकता होती है। यदि उद्यमी के पास किसी सड़क के किनारे या स्थानीय बाजार में अपनी दुकान है तो ठीक है नहीं है तो उसे यह दुकान किराये पर लेनी होगी। ध्यान रहे जहाँ पर उद्यमी यह दुकान किराये पर ले रहा हो वहां पर छोटे बड़े सभी वाहन आराम से आने की जगह होनी चाहिए। क्योंकि खाद की डिलीवरी के लिए ट्रक इत्यादि भी उसकी दुकान के सामने आ सकते हैं । और हो सके तो जगह इतनी होनी चाहिए की उद्यमी उसमें स्टोर भी खोल सके। इसके अलावा उद्यमी को किसानों को अर्थात अपने ग्राहकों को उर्वरक वितरित करने में किसी प्रकार की कोई परेशानी न आये जगह का चयन करते वक्त इस बात का भी ध्यान रखा जाना अति आवश्यक है। और उद्यमी को चाहिए की वह रेंट एग्रीमेंट या लीज एग्रीमेंट अवश्य कराये। क्योंकि इस एग्रीमेंट को उद्यमी पता प्रमाण के तौर पर पेश करके लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन की कार्यवाहियों को पूर्ण कर सकता है।    

3. लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन

उद्यमी प्रोप्राइटरशिप के तौर पर Fertilizer Store को आसानी से शुरू कर सकता है लेकिन कृषि सम्बन्धी इस तरह के बिजनेस शुरू करने के लिए अलग अलग लाइसेंस की आवश्यकता होती है। कई राज्यों में कृषि से सम्बंधित उत्पादों की मार्केटिंग के लिए राज्य के कृषि विभाग से लाइसेंस लेने की आवश्यकता होती है। लेकिन कई राज्यों में इस तरह का यह लाइसेंस जारी करने की जिम्मेदारी स्थानीय प्राधिकरण जैसे नगर निगम, नगर पालिका इत्यादि को होती है।उर्वरक का मार्केटिंग लाइसेंस लेने के लिए उद्यमी के पास ट्रेड लाइसेंस होना बेहद आवश्यक है इसे भी उद्यमी स्थानीय प्राधिकरण से प्राप्त कर सकता है। कहने का अभिप्राय यह है की उद्यमी को फ़र्टिलाइज़र कण्ट्रोल बोर्ड द्वारा निर्धारित एवं निर्देशित नियम कानूनों का अनुसरण करने की आवश्यकता होती है। जहाँ तक ट्रेड लाइसेंस की बात है उद्यमी इसे स्थानीय प्राधिकरण से प्राप्त कर सकता है। और मार्केटिंग लाइसेंस को कुछ राज्यों में राज्य का कृषि विभाग तो कुछ में स्थानीय प्राधिकरण ही जारी करता है।      

4. बिजनेस ऑपरेशन ( How Fertilizer Store Business Works)

यद्यपि इस तरह का यह बिजनेस सरकार के नियंत्रण में रहता है इसलिए हो सकता है की अधिकारिक लाइसेंस लेने के बाद सरकार आपकी दुकान पर खुद ही सप्लायर भेज दे। कहने का आशय यह है की Fertilizer Store शुरू करने वाले प्रत्येक उद्यमी की डिटेल्स सरकारी विभाग के पास मौजूद होती है। और उर्वरक वितरण प्रणाली में सरकार का अहम् योगदान होता है ताकि किसानों तक सस्ती दरों पर यह पहुँच पाय। लेकिन इसके अलावा कुछ निजी सप्लायर भी हो सकते हैं जो कृषि से जुड़े उत्पादों जैसे खाद इत्यादि को विदेशों से आयात करके बेच सकते हैं। इसलिए उद्यमी को देखना होगा की जहाँ वह यह बिजनेस शुरू करना चाह रहा है उस एरिया में Fertilizer Distribution System कैसा है। उद्यमी को उर्वरकों को एकदम सूखें स्थान पर रखने की आवश्यकता होती है और फर्श को नमी प्रूफ बनाने की आवश्यकता होती है ताकि फर्श पर किसी भी मौसम में नमी पैदा न हो। उद्यमी चाहे तो फर्श पर ड्रम या बैग रखने के लिए पट्टिया लगा सकता है। इसके अलावा उद्यमी जब कहीं माल भेज रहा हो या मंगा रहा हो तो ट्रांसपोर्ट के साधन का विशेष ध्यान रखना होता है। अर्थात माल को ट्रांसपोर्ट करने के लिए वाहन का चयन माल की मात्रा के मुताबिक ही होना चाहिए पता चला की माल कम है और लाद दिया ट्रक में। ऐसा होने पर ट्रांसपोर्ट लागत बढ़ जायेगी।          

5. मार्केटिंग पर ध्यान दें

उद्यमी को अपना Fertilizer Store Business सफल बनाने के लिए अपने ग्राहक निर्धारित करने होंगे अर्थात उसे जानना होगा की उसके लक्ष्यित ग्राहकों में कौन कौन शमिल हैं। वैसे देखा जाय तो इस  तरह के बिजनेस को सरकार प्रोत्साहित करती है इसलिए इन्हें अधिक मार्केटिंग की आवश्यकता नहीं होती है। इस तरह के बिजनेस की विशेषता यही है की जिन्हें उर्वरक इत्यादि की आवश्यकता होती है वे खुद ही एक दुसरे से पूछकर ऐसी दुकानों का पता लगा देते हैं। लेकिन फिर भी उद्यमी के लक्ष्यित ग्राहक के तौर पर किसान, बगीचे का सामान रखने वाले स्टोर, नर्सरी, कृषि समितियां इत्यादि हो सकती हैं। इसलिए उद्यमी को इनके बीच अपने बिजनेस की मार्केटिंग करने की आवश्यकता हो सकती है। 

यह भी पढ़ें

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य बिज़नेस, लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, बैंकिंग, कैरियर और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *