स्नैक्स का व्यापार कैसे शुरू करें? How to Start a Snacks Business.

Snacks Business की बात को हम घर से आगे बढाने की शुरुआत करते हैं जी हाँ अक्सर हम देखते हैं की घरों में भी प्राय: अनेकों प्रकार के स्नैक एवं नमकीन रसोईघर में बनाये जाते हैं । लेकिन यह कहना भी बिलकुल गलत होगा की हर कोई व्यक्ति स्नैक्स एवं नमकीन अपनी रसोई से आसानी से बना सकता है। बल्कि सच्चाई यह है की वर्तमान में अधिकतर घरों एवं कार्यालयों में स्नैक्स के आइटम बाहर दुकानों से खरीदकर खाए जाते हैं। वह इसलिए क्योंकि हर रसोई में हर तरह के स्नैक्स बनाना लगभग असम्भव ही है। इसलिए यदि आप उन लोगों में से हैं जिनके घर में बनाये गए स्नैक्स एवं नमकीन की घर में आये मेहमान एवं लोग तारीफ करते हैं। और आपको भी लगता है की आपने वाकई में स्वादिष्ट स्नैक्स एवं नमकीन बनाये हैं और आप इनकी गुणवत्ता एवं स्वाद आगे भी मेन्टेन कर सकते हैं। तो आप यह काम लोगों की मुफ्त की वाहवाही के लिए नहीं बल्कि पैसे कमाने के लिए Snacks Business शुरू कर सकते हैं। कहने का अभिप्राय यह है की यदि आपको स्नैक्स एवं नमकीन बनाने की कला आती है तो आप अपने घर से भी बेहद छोटे स्तर पर इस तरह के बिजनेस को शुरू कर सकते हैं। जैसे की आज हम बाज़ारों एवं दुकानों में तरह तरह के होममेड स्नैक्स देखते हैं। क्योंकि लोग इन घर में निर्मित उत्पादों को पसंद करते हैं यही कारण है की बाज़ारों एवं दुकानों में ऐसे उत्पादों की भरमार रहती है।

Snacks Business plan in hindi

स्नैक्स की बिक्री की संभावनाएं:

भारतवर्ष में अतिथि को देव की संज्ञा दी गई है अर्थात हमारे देश में लोग ‘’अतिथि देवो भव’’ का पालन करते हुए देखे जा सकते हैं । इसलिए घर में जब कोई अतिथि आता है तो उसका आदर सत्कार करने के लिए उसे चाय या कोल्ड ड्रिंक के साथ स्नैक्स देने का रिवाज है । इसके अलावा शाम की चाय के वक्त लोग खुद भी स्नैक्स एवं नमकीन खाना बेहद पसंद करते हैं। यही कारण है की देश के बाज़ारों में इनकी बड़े पैमाने पर वर्ष भर मांग बनी रहती है। इसलिए यदि आपको स्नैक्स एवं नमकीन बनाने में कुशलता हासिल है तो आप चाहें तो यह बिजनेस घर से या फिर किसी स्थानीय मार्किट में दुकान लेकर भी शुरू कर सकते हैं।

स्नैक्स एवं नमकीन का बिजनेस कैसे शुरू करें (How to Start Snack Business)

यद्यपि Snacks Business शुरू करने की इच्छा रखने वाले व्यक्ति को यह समझ लेना बहुत जरुरी है की भले ही घर, परिवार, नाते रिश्तेदार इत्यादि लोग आपके घर में बने स्नैक्स की कितनी ही तारीफ क्यों न करते हों। लेकिन उद्यमी को ओवर कॉन्फिडेंस बिलकुल भी नहीं होना है क्योंकि अक्सर देखा गया है की ओवर कॉन्फिडेंस की वजह से उद्यमी गलती कर सकता है। इसलिए जब व्यक्ति इस बात का निर्णय कर लेता है की वह स्नैक्स एवं नमकीन बनाने का काम व्यवसायिक तौर पर कमाई करने के लिए करेगा तो उसे और अधिक गंभीर हो जाने की आवश्यकता होती है। यद्यपि यह एक ऐसा बिजनेस है की यदि शुरूआती दौर में उद्यमी चाहे तो इसे घर की रसोई से भी शुरू कर सकता है। लेकिन एक स्थानीय बाजार में कोई सस्ती सी दुकान किराये पर लेकर इस तरह का बिजनेस किया जाना अधिक लाभकारी सिद्ध होगा।

1. सर्वप्रथम सर्वे करें ( Survey for Snacks Business)

कोई भी बिजनेस शुरू करने से पहले उद्यमी को उस बिजनेस से सम्बंधित जैसे प्रतिस्पर्धा, मांग, सप्लाई, कीमत, गुणवत्ता इत्यादि पर सर्वे करना बेहद आवश्यक होता है। रिसर्च करने के लिए उद्यमी को एक रणनीति तैयार करनी होगी और उसके अनुरूप ही अपनी सर्वे प्रक्रिया को आगे बढ़ाना होगा। इस योजना के तहत न केवल प्रतिस्पर्धा इत्यादि का ध्यान रखा जाना जरुरी है। बल्कि लागत एवं निवेश का प्रबंध, इंफ्रास्ट्रक्चर, उपकरण, कच्चा माल इत्यादि सभी कुछ शामिल करना इस योजना में नितांत आवश्यक है। उद्यमी को चाहिए की वह आस पास के बाज़ारों में स्नैक्स एवं नमकीन की मांग का पता लगाये और यह भी पता लगाये की उसे थोक का आर्डर कहाँ से प्राप्त हो सकता है। इसके अलावा वह रिटेल आउटलेट में भी जा सकता है जो उसके नियमित ग्राहक के तौर पर सामने आ सकते हैं।    

2. वित्त की व्यवस्था करें

हालांकि यदि उद्यमी को स्नैक्स एवं नमकीन बनाने में कुशलता प्राप्त है और वह यह बिजनेस घर से ही शुरू कर सकता है। इसलिए उसे इस तरह का यह बिजनेस शुरू करने में अधिक निवेश करने की भी आवश्यकता नहीं होगी। इस स्थिति में उसे कच्चे माल एवं पैकिंग सामग्री ही खरीदने की आवश्यकता होगी। लेकिन ध्यान रहे यह एक बेहद छोटे स्तर पर शुरू किया गया एक गृह आधारित उद्योग होगा जिससे उत्पादित उत्पाद उस स्थानीय एरिया में उपलब्ध किराना स्टोरों इत्यादि में बेचे जायेंगे। यदि उद्यमी दो तीन कर्मचारियों को काम पर रखकर इस व्यवसाय को शुरू करना चाहता है तो वह स्थानीय बाजार में एक कोई छोटी सी दुकान किराये पर लेकर भी यह बिजनेस शुरू कर सकता है। हालांकि उसमें इतनी जगह होनी चाहिए की एक तरफ किचन, पैकिंग रूम एवं एक छोटा सा कार्यालय बनाया जा सके। इसलिए उद्यमी को अपने Snacks Business के प्लान के मुताबिक वित्त की व्यवस्था करनी होगी। उद्यमी को चाहिए की भले ही उसके पास कितने भी पैसे क्यों न हों, लेकिन इस तरह के इन बिजनेस को छोटे लेवल पर ही शुरू करना चाहिए। क्योंकि ग्राहकों की मांग के मुताबिक ऐसे बिजनेस को धीरे धीरे विस्तृत किया जा सकता है। इसलिए जरुरत से ज्यादा जोखिम लेने से बचने में ही समझदारी है।          

3. दुकान किराये पर लें (Take shop on rent for Snacks Business)

Snacks Business कर रहे उद्यमी को चाहिए की वह जिस एरिया में यह बिजनेस शुरू करना चाहता है उस एरिया के स्थानीय बाजार में एक ऐसी दुकान की तलाश करे । जिसकी जगह को वह आसानी से तीन हिस्सों में बाँट सके। इसमें पहला हिस्सा किचन, दूसरा पैकेजिंग रूम, तीसरा कंप्यूटर इत्यादि रखने की जगह। उद्यमी को कोशिश करनी चाहिए की वह ऐसी दुकान किराये पर ले जिसका किराया कम हो लेकिन यदि उद्यमी को लगता है की उस लोकेशन पर उसके डायरेक्ट उपभोक्ता भी अधिक आ सकते हैं तो किराये की रकम को देखकर घबराएँ नहीं। क्योंकि ऐसी लोकेशन पर उद्यमी की कमाई अच्छी हो सकती है।  हाँ दुकान किराये पर लेते समय रेंट एग्रीमेंट अवश्य बना ले। क्योंकि रेंट एग्रीमेंट को पता प्रमाण के तौर पर इस्तेमाल में लाया जा सकता है।     

4. लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन

चूँकि Snacks Business खाद्य से जुड़ा हुआ बिजनेस है इसलिए भले ही उद्यमी इसे एक व्यक्तिगत व्यक्ति के तौर पर शुरू कर रहा हो। लेकिन फ़ूड लाइसेंस की आवश्यकता उसे अनिवार्य रूप से हो सकती है। इसके लिए उद्यमी को घबराने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि यदि उद्यमी का टर्नओवर 12 लाख से कम है तो वह इस लाइसेंस को ऑनलाइन 100-150 रूपये में बनवा सकता है। इसके अलावा उद्यमी को स्थानीय प्राधिकरण जैसे नगर निगम, नगर पालिका इत्यादि से ट्रेड लाइसेंस की भी आवश्यकता हो सकती है। उद्यमी को चाहिए की जैसे जैसे उसका व्यापार विस्तृत होता जाए वैसे वैसे वह सभी आवश्यक लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन भी प्राप्त कर ले। अन्यथा उद्यमी कभी भी परेशानी में पड़ सकता है। और उस समय जब उद्यमी का बिजनेस सही चल रहा होता है फिर कोई वैधानिक परेशानी आ जाय तो पूरा बिजनेस जोखिम में पड़ सकता है। इसलिए बेहतर यही होता है की समय समय पर बिजनेस के आकार के आधार पर जरुरी लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन करा लेने चाहिए।       

 5. कच्चा माल एवं कर्मचारी

अब यदि Snacks Business कर रहे उद्यमी ने सारी प्रक्रियाएं पूर्ण कर ली हों तो अब उसे किचन उपकरण जैसे गैस चूल्हा, तरह तरह के बर्तन, कुछ छोटी बड़ी मशीनें, पैकिंग सामग्री, पैकिंग मशीन इत्यादि खरीदने की आवश्यकता होती है। जहाँ तक कच्चे माल की बात है उद्यमी को कुछ खाने पीने का सामान जैसे आटा, मैदा, बेसन, नमक, मसाले, खाद्य तेल, घी इत्यादि की आवश्यकता होती है। जिसे उद्यमी कहीं से भी आसानी से खरीद सकता है। जहाँ तक कर्मचारियों का सवाल है शुरूआती दौर में दो या तीन कर्मचारी ही पर्याप्त हैं। जो किचन के कार्यों में हेल्प एवं पैकिंग का काम संभाल सकें।     

6. विज्ञापन एवं मार्केटिंग (Advertise your Snacks Business)

किसी भी बिजनेस की सफलता में विज्ञापन एवं मार्केटिंग का बेहद अहम् योगदान होता है इसलिए Snacks Business में भी इसकी नितांत आवश्यकता होती है । क्योंकि यह बात साबित हो चुकी है की बहुत सारे उत्पाद जिनमें कोई दम नहीं होता उनको लोग सिर्फ विज्ञापन एवं मार्केटिंग की वजह से ही खरीदते हैं। कहने का आशय यह है की Snacks Business कर रहे उद्यमी को भले ही कितने अच्छे एवं स्वादिष्ट स्नैक्स बनाने आते हों लेकिन उसे इस बात के लिए निश्चिंत नहीं होना चाहिए की ग्राहक उसके दरवाजे पर खुद ही उसके उत्पाद खरीदने आयेंगे क्योंकि वह अच्छे एवं गुणवत्तायुक्त स्नैक्स का उत्पादन करता है। सच्चाई यह है की उद्यमी को अपने उत्पाद बेचने के लिए ग्राहकों के दरवाजे तक पहुंचना होगा और उन्हें अपने बिजनेस एवं उत्पाद के बारे में बताना होगा। इसके लिए उद्यमी अनेकों मार्केटिंग तकनीक का इस्तेमाल कर सकता है।  

अन्य लेख भी पढ़ें

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य बिज़नेस, लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, बैंकिंग, कैरियर और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

One thought on “स्नैक्स का व्यापार कैसे शुरू करें? How to Start a Snacks Business.

  1. To dear sir mhander Ravat ji
    अगर हम अपने देश के नौजवानों को छोटे-मोटे लघु उद्योगों में लगा सकते हैं तो हम चाइना जैसे देशों को भी पीछे छोड़ सकते हैं आज के इस माहौल में हमारे देश की जनता के दिलों में भय बैठा हुआ है इस भय को निकालने के लिए हम को और आप को आगे आना ही होगा

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *