शादी के बैंड का बिजनेस कैसे शुरू करें? How to Start a Wedding Band Business.

Wedding Band से हमारा आशय शादी समारोह एवं अन्य अवसरों पर बजाए जाने वाले वाद्य यंत्रों अर्थात शादी के बैंड से ही है । वर्तमान में बैंड बजाने का काम केवल शादी समरोहों में ही नहीं किया जाता है बल्कि किसी नेता, सेलेब्रिटी इत्यादि के स्वागत एवं अनेकों त्योहारों जैसे दशहरा इत्यादि के अवसरों पर भी किया जाता रहा है। चूँकि भारत में शादी को जन्म जन्मांतर का रिश्ता माना जाता है इसलिए प्रत्येक मनुष्य प्राणी जिसकी शादी हो रही होती है वह अपनी शादी में क्षमता से भी अधिक खर्च करने के लिए तत्पर रहता है। यहाँ पर इस वाक्य का वर्णन करना इसलिए जरुरी हो गया था क्योंकि भारत में लोग शादी, विवाह को इतना महत्व देते हैं की वो इन आयोजनों में अपनी क्षमता से बाहर खर्च करने से भी नहीं कतराते हैं। इसलिए भारत में शादी विवाह से जुड़े भी बहुत सारे बिजनेस आइडियाज हैं जो उद्यमी की कमाई करवाने में काफी सफल रहते हैं। इन्हीं बिजनेस में से एक बिजनेस Wedding Band का है। इसलिए आज हम हमारे इस लेख के माध्यम से इस विषय पर जानकारी देने का प्रयत्न कर रहे हैं ।

How to start Wedding Band business in Hindi

वेडिंग बैंड बिजनेस क्या है (What is Wedding Band Business)

हालांकि देखा जाय तो बैंड एक वाद्य यंत्र है और इसके साथ कई तरह के सहायक वाद्य यंत्र भी होते हैं। और अक्सर मनुष्य द्वारा इनका इस्तेमाल खुशियों के मौकों पर नाच गाने एवं स्वयं एवं लोगों को उत्साहित, मनोरंजित करने के लिए किया जाता है। चूँकि शादी समारोहों में बैंड बाजे का इस्तेमाल सर्वाधिक होता है इसलिए इसे Wedding Band कहा जाता है। कहने का आशय यह है की बात जब बारात या शादी की हो रही हो तो इसमें बैंड बाजे की बात भी स्वभाविक ही आ जाती है। लेकिन वर्तमान में इस तरह के ये बैंड बड़े नाटकीय स्वरूप में विकसित हुए हैं और अब इनका मतलब पंजाबी ढोल एवं तुतरी ही नहीं रह गया है। बल्कि वर्तमान में बैंड बाजे का बिजनेस करने वाले उद्यमी अपने ग्राहकों को विभिन्न थीम भी प्रदान करते हैं। इसलिए ग्राहक अपनी लोकेलिटी के आधार पर किसी भी थीम जैसे मारवारी, पंजाबी, राजस्थानी, पश्चिमी इत्यादि का चुनाव कर सकते हैं। यद्यपि यदि उद्यमी अपने ग्राहकों को विभिन्न थीम चयन करने का विकल्प देने की सोच रहा है तो इसका सीधा सा मतलब है की Wedding Band Business शुरू करने में आने वाली लागत साधारण बैंड सर्विस से कहीं अधिक होगी।

वेडिंग बैंड बिजनेस में संभावनाएं

Wedding Band शादी से जुड़ा हुआ व्यापार है और भारत जैसे विशालकाय देश में प्रति वर्ष लाखों शादियाँ होती हैं। इसी बात के मद्देनजर इसे बहुत सारे लोगों द्वारा मौसमी बिजनेस भी कहा जाता है लेकिन यहाँ पर ध्यान देने वाली बात यह है की वर्ष के बारह महीनों में केवल दो तीन महीने ही ऐसे है जिनमें शादीयाँ नहीं होती है बाकी 6-8 महीने में शादीयाँ चलती रहती हैं। इसलिए उद्यमी चाहे तो ऑफ सीजन यानिकी जब शादियों का काम नहीं होता है तब वह अनेक प्रकार के आयोजनों इत्यादि का काम भी ले सकता है। यद्यपि शुरूआती दौर में उद्यमी को चाहिए की वह उस एरिया में निवासित स्थानीय ग्राहकों पर ही ध्यान दे जिसके चलते उसे अधिक संसाधनों को जुटाने की आवश्यकता नहीं होगी। क्योंकि वर्तमान में संपन्न लोगों की शादियों में बैंड के साथ सौ लोगों तक को देखा गया है इनमें फ्लावर, फायरक्रैकर, फैंसी लाइटिंग इत्यादि सजावट से जुड़ी और भी अनेक गतिविधियाँ शामिल हैं। वर्तमान समय में यदि कोई उद्यमी अपने Wedding Band का नाम अपने काम के जरिये बनाने में कामयाब हो गया तो उसे फिल्म इंडस्ट्री से भी काम मिलने के आसार लगाये जा सकते हैं। वर्तमान में शादी इत्यादि सामाजिक फंक्शन में लोग दिखावे एवं समाज में अपना स्टेटस, रुतबा बरकरार रखने के लिए खर्च करने से परहेज नहीं करते हैं। इसलिए उनकी कोशिश इस आयोजन को भव्य एवं प्रसिद्ध बनाने की होती है ताकि समाज में उनके द्वारा आयोजित शादी समारोह या कोई अन्य आयोजन की चर्चा हो सके। और शादी एक ऐसी प्रक्रिया है जो प्रत्येक वर्ष निरंतर चलती रहती है अर्थात यह दीर्घकालीक एक बेहद ही अच्छा व्यापार हो सकता है।

वेडिंग बैंड बिजनेस कैसे शुरू करें  (How to Start Wedding Band Business)

भारतीय लोगों के लिए शादी का मतलब उनकी जिन्दगी का सबसे बड़ा जश्न होता है जिसे वे यादगार बनाने के लिए हर संभव कोशिश करते हैं। यहाँ तक की शादी विवाह में लोग बिना सोचे समझे, खुलकर खर्च करने से भी किंचित मात्र भी नहीं कतराते हैं। और बैंड बाजा तो हर बारात की शोभा होती है। हालांकि ग्रामीण इलाकों के बैंड बाजे एवं शहरों के बैंड बाजों में शामिल वाद्य यंत्रों में अंतर होता है। इसलिए जब भी Wedding Band Business शुरू करने का जिक्र कहीं पर आता है। तो लोगों को खासकर ग्रामीण भारत में निवासित लोगों को लगता है की यह बेहद आसान प्रक्रिया होगी। क्योंकि उनकी नज़रों में कुछ वाद्य यंत्र, लाउडस्पीकर, माइक, Audio power amplifier इत्यादि खरीद लेना ही इस बिजनेस की शुरुआत है। लेकिन इस तरह के बिजनेस को उचित एवं सहज ढंग से शुरू करने के लिए उद्यमी को अनेकों कदम उठाने की आवश्यकता होती है जिनमें से कुछ की लिस्ट निम्न है।        

1. बैंड पार्टनर ढूंढें (Search Your Wedding Band Partner)

Wedding Band का व्यापार अकेला व्यक्ति चाह कर भी नहीं कर सकता है क्योंकि बैंड के लिए एक नहीं बल्कि बहुत सारे लोगों की आवश्यकता होती है। एक साधारण बैंड बाजे में कम से कम लगभग 10-12 लोग तो होते ही होते हैं। और अधिक लोगों की आवश्यकता क्लाइंट की मांग पर निर्भर करती है की वह बैंड बाजे के साथ किस किस प्रकार के वाद्य यंत्रों या कौन सा पैकेज चुनता है।इसलिए हमारी राय में इस तरह के बिजनेस को शुरू करने के लिए उद्यमी को कम से कम एक ऐसा पार्टनर ढूंढना चाहिए जो जोखिम एवं लाभ दोनों का बराबर का हिस्सेदार हो।उसके बाद उद्यमी को अपने बैंड बाजे बिजनेस के लिए उन कर्मचारियों को भी ढूंढना होता है जिन्हें बैंड बजाना कुशलतापूर्वक आता हो । इसमें बैंड बजाने वाले, ढोल बजाने वाले, बीन बजाने वाले, गाना गाने वाले, लाइटिंग इत्यादि पकड़ने वाले बहुत सारे लोगों की आवश्यकता होती है। इसलिए उद्यमी को चाहिए की वह ऐसे लोगों को पहले से ही अपने साथ जोड़ कर रखे और ध्यान रहे चूँकि शुरूआती दौर में इन कर्मचारियों को स्थायी तौर पर काम पर नहीं रख सकता है। क्योंकि उद्यमी के पास लगातार काम तो नहीं रहेगा फिर इन्हें स्थायी तौर पर रखकर वेतन या इनका मेहनताना देना कठिन हो सकता है। इसलिए शुरूआती दौर में ऐसे लोगों को ढूंढें की जिनके पास Wedding Band के साथ काम करने का तो अनुभव हो ही, साथ में वे अपना कोई और भी काम करते हों।       

2. बजाने वाले उपकरण एवं ड्रेस खरीदें

Wedding Band Business के लिए उद्यमी को अनेकों म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट खरीदने की आवश्यकता होती है इनमें बैंड बाजों, ढोल, पियानो, बांसुरी, शहनाई, बीन बाजा इत्यादि के अलावा भी बहुत सारे अन्य म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट की आवश्यकता हो सकती हैं। उद्यमी को चाहिए की वह इन्हें खरीदने के लिए सबसे पहले उस एरिया में पहले से मौजूद बैंड बाजा वाले से मिले और उससे जानने की कोशिश करे की उसने बैंड बाजे एवं अन्य वाद्य यंत्र किससे और कितने में ख़रीदे थे। उसके बाद हो सके तो उससे वेंडर इत्यादि का नंबर लेकर उससे कोटेशन मंगवा लें। इसके अलावा उद्यमी ऑनलाइन भी इंडिया मार्ट, ट्रेड इंडिया इत्यादि के माध्यम से भी सप्लायर ढूंढकर उनसे अपनी आवश्यकता के मुताबिक बैंड एवं म्यूजिक इंस्ट्रूमेंट के लिए कोटेशन मंगा सकता है। और उसके बाद इन कोटेशन का तुलनात्मक विश्लेषण करके इस बात का निर्णय ले सकता है की उसे कौन से सप्लायर से बैंड बाजा एवं अन्य वाद्य यंत्र मंगाने चाहिए। और Wedding Band Business कर रहे उद्यमी को अपने कर्मचारियों के लिए ड्रेस इत्यादि का भी चयन करना होगा हालांकि ये रेडीमेड भी बाजार में आसानी से उपलब्ध होती हैं। इसकी जानकारी या आर्डर भी उद्यमी उस सप्लायर को दे सकता है जिसका उसने चुनाव किया हो। यदि वह ड्रेस देने में असमर्थ है तो उद्यमी किसी स्थानीय टेलर से संपर्क करके अपने मनमुताबिक डिजाईन एवं रंग की ड्रेस अपने कर्मचारियों के लिए बनवा सकता है।        

3. प्रैक्टिस इत्यादि के लिए जगह ढूंढें:

जैसा की हम पहले भी बता चुके हैं की Wedding Band का यह काम किसी अकेले आदमी के बस का बिलकुल भी नहीं है। बल्कि यह एक ऐसा काम है जिसमें पूरी टीम का समन्वय स्थापित करने की आवश्यकता होती है। और जहाँ तक काम के दौरान (वो भी तब जब मामला वाद्य यंत्रों से जुड़ा हुआ हो ) एक दुसरे से समन्वय स्थापित करने की बात है तो यह आसानी से तो होगा नहीं। इसलिए उद्यमी को चाहिए की सीजन एवं ऑफ सीजन दोनों में एक समय अन्तराल के बाद अपने बैंड से जुड़े सभी लोगों को बुलाकर प्रैक्टिस कराते रहें। वैसे उद्यमी चाहे तो किसी स्थानीय बाजार या फिर उससे हटकर भी कोई दुकान किराये पर ले सकता है जहाँ वह अपने बैंड बाजा एवं वाद्य यंत्रों को आराम से रख सके। और वहीँ पर वह अपना छोटा सा कार्यालय भी स्थापित कर सकता है जहाँ से वह इस व्यापार से जुड़े सभी कार्यों को निष्पादित करने में सक्षम हो सके।        

4. बैंड के नाम का चुनाव करें ( Select your Wedding Band Name)

उद्यमी को अपने बैंड को कोई न कोई नाम देना होगा यदि आप बाजार में अपने व्यापार का नाम कमाना चाहते हैं और आप नहीं चाहते की आपके बिजनेस के नाम को कोई और भी इस्तेमाल में लाये। तो उद्यमी अपने बिजनेस के नाम को मिनिस्ट्री ऑफ़ कॉर्पोरेट अफेयर्स में रजिस्टर करा सकता है। लेकिन स्थानीय एवं छोटे स्तर पर Wedding Band Business बिना रजिस्टर हुए भी चल रहे होते हैं। यदि आप भी ऐसा करते हैं तो आपके बिजनेस के नाम को कोई भी इस्तेमाल में ला सकता है अर्थात यदि आपने कड़ी मेहनत करके अपने बिजनेस का नाम कमा लिया और फिर उसी नाम से किसी और ने वही बिजनेस शुरू कर दिया तो वह नया उद्यमी आपके बिजनेस के नाम का लाभ उठा सकता है। यहाँ तक की यदि लोगों को उसके द्वारा दी गई बैंड सर्विस अच्छी नहीं लगती है तो उसके साथ साथ कंफ्यूजन में ही सही आपके बैंड का नाम भी ख़राब हो सकता है। इसलिए बेहतर यही होगा की उद्यमी अपने बैंड का नाम रजिस्टर कराये और स्थानीय प्राधिकरण इत्यादि से भी ट्रेड लाइसेंस लेकर ही इस तरह का बिजनेस शुरू करे। उद्यमी के ग्राहकों के तौर पर वे परिवार या लोग रहने वाले हैं जिनके घरों में शादी एवं अन्य आयोजन हो सकते हैं। चूँकि Wedding Band Business प्रमुख रूप से शादी से जुड़ा हुआ बिजनेस है इसलिए उद्यमी को चाहिए की वह इवेंट प्लानर, वेडिंग प्लानर, टेंट हाउस, कैटरिंग सर्विस इत्यादि प्रदान करने वाले लोगों के लगातार समपर्क में रहे और उनसे व्यवसायिक रिश्ते बना कर रखे। कहीं पर आप तो कहीं पर वो आपको काम दिलाने में प्रमुख भूमिका अदा कर सकते हैं। 

यह भी पढ़ें

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य बिज़नेस, लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, बैंकिंग, कैरियर और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *