हालांकि देश में प्राइवेटाइजेशन का विरोध होता आया है, लेकिन अक्सर देखा गया है की कई सरकारी स्वामित्व वाली कंपनियाँ घाटे में जाने के कारण बंद हो गई हैं। ऐसी ही कंपनीयों में से एक कंपनी का नाम नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड (NINL) है । जिसके प्लांट को घाटे के चलते पिछले दो सालों यानिकी 30 मार्च 2020 से बंद कर दिया गया है।

लेकिन अब खबर आई है की रतन टाटा की कंपनी टाटा स्टील की सब्सडायरी कंपनी टाटा स्टील लॉन्ग प्रोडक्ट्स ने इसकी बोली को जीतकर कंपनी की लगभग 93.71 हिस्सेदारी खरीद ली है। और अब रतन टाटा की कंपनी जल्द ही बंद हुए प्लांट में प्रोडक्शन शुरू करने जा रही है।  

tata will start production in NINL plant

दो साल से बंद प्लांट में फिर से होगा प्रोडक्शन

जानकारी के मुताबिक टाटा स्टील ने जब से इस कंपनी की बोली को जीता है। तब से वे लगातार इस प्लांट को जल्दी से जल्दी शुरू करने के लिए प्रयासरत हैं। और कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर टीवी नरेन्द्र का कहना है की वे कारखाने को शुरू करने के अंतिम दौर में पहुँच चुके हैं । और वे कंपनी के मौजूदा कर्मचारियों के साथ काम करते हुए ही इस कारखाने को फिर से शुरू करेंगे।

उनके मुताबिक नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड को अगले तीन महीनों के अन्दर फिर से शुरू किया जाएगा। और इस प्लांट में उत्पादन शुरू होने के बाद अगले एक वर्ष में हमारा लक्ष्य इस कंपनी की उत्पादन क्षमता को बढ़ाकर 50 लाख टन करने का है । टाटा स्टील द्वारा इस कंपनी को खरीद लेने के बाद तो यही लग रहा है की इस कंपनी की किस्मत बदलने वाली है।

कर्जा अधिक होने के कारण बंद करना पड़ा था कंपनी को

जानकारी के मुताबिक नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड का भारत के उड़ीसा राज्य के कलिंगनगर में 1.1 मीट्रिक टन कैपेसिटी वाला एकीकृत स्टील प्लांट है। लेकिन इस सरकारी कंपनी पर 31 मार्च 21 तक 6600 करोड़ रूपये से भी अधिक का कर्जा एवं देनदारियां थी। जिसमें 4,116 करोड़ रूपये प्रमोटरों के और 1741 करोड़ रूपये बैंकों एवं अन्य लेनदारों और कर्मचारियों का बताया जा रहा है।

कर्जा अधिक होने के कारण कंपनी भारी घाटे में चल रही थी, यही कारण है की कंपनी ने 30 मार्च 2020 से प्लांट को बंद कर दिया था।

12100 करोड़ में टाटा ने कंपनी की 93.71% हिस्सेदारी खरीदी  

नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड (NINL) भारी नुकसान में चले गई तो उसे बंद कर दिया गया। लेकिन उसके बाद कंपनी की नीलामी की प्रक्रिया को शुरू किया गया। जिसमें देश की कई विख्यात स्टील बनाने वाली कंपनियों ने हिस्सा लिया था । इसमें जिंदल स्टील, नलवा स्टील, जेएसडब्ल्यू स्टील और टाटा स्टील जैसी कंपनीयां शामिल थी।

लेकिन इसमें सफलता टाटा स्टील की एक यूनिट टाटा स्टील लॉन्ग प्रोडक्ट (TSLP) को मिली, जिसने इसी साल जनवरी में नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड की 93.71% हिस्सेदारी 12,100 करोड़ रूपये में खरीदी। तब से टाटा स्टील लगातार इस प्लांट को जल्दी से जल्दी शुरू कराने के लिए प्रयासरत है। लेकिन अब खबर आ रही है की अगले तीन महीनों में यहाँ प्रोडक्शन शुरू कर दिया जाएगा।  

क्या है आगे की योजना  

इस कंपनी के बारे में बात करते हुए मैनेजिंग डायरेक्टर टीवी नरेंद्र ने कहा है की, वे मौजूदा कर्मचारियों के साथ ही इस प्लांट में प्रोडक्शन करना जल्द ही शुरू करेंगे। लेकिन इसमें भी लगभग तीन महीने का समय लग सकता है।

और उसके बाद जब प्लांट में प्रोडक्शन शुरू हो जाएगा, तो हमारा लक्ष्य इस प्लांट की प्रोडक्शन क्षमता को बढ़ाना होगा। इसके लिए हम सम्बंधित अथॉरिटी से मंजूरी की प्रक्रिया को प्लांट में प्रोडक्शन शुरू होने के बाद ही प्रारम्भ करेंगे।

यह भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published