Tea Export Business Plan चाय निर्यात का व्यापार कैसे शुरू करें.

चाय एक ऐसा पेय है जिसे केवल इंडिया में ही नहीं अपितु बाहर देशों में भी पीने के उपयोग में लाया जाता है | यही कारण है की बाहरी देशों में भी इसकी मांग हमेशा विद्यमान रहती है बाहरी देशों में निवासित लोगों की यही मांग Tea Export Business को जन्म देती है | भारतवर्ष चाय का एक बहुत बड़ा उत्पादक देश है अर्थात कहने का आशय यह है की चाय उत्पादन में भारत का विश्व में दूसरा नंबर है | इसलिए देश भर में इसकी उपलब्धता आसानी से हो जाती है देश की पूर्ति के अलावा विदेशों में भी लोगों की मांग को देखते हुए भारतवर्ष से प्रति वर्ष लाखों टन चाय विदेशों को export की जाती है | जिससे Tea Export Business कर रहे उद्यमियों की अच्छी खासी कमाई होने के आसार होते हैं | इंडिया में निर्यात बिज़नेस शुरू करने की चाह रखने वाले व्यक्तियों को यह समझ लेना चाहिये की वह किसी ऐसे उत्पाद का चयन करें जो उन्हें आसानी से उपलब्ध हो जाय चूँकि भारत एक कृषि प्रधान देश है इसलिए एक्सपोर्ट बिज़नेस के लिए कृषि सम्बन्धी अन्य उत्पादों का भी चयन उद्यमी द्वारा किया जा सकता है | हालांकि आने वाले समय में हम कृषि सम्बन्धी अन्य उत्पादों के बारे में भी वार्तालाप करेंगे लेकिन आज का हमारा विषय Tea Export Business कैसे शुरू करें? का है इसलिए आइये जानते हैं की चाय के निर्यात का यह बिज़नेस होता क्या है |

tea export business plan in hindi

Tea Export Business क्या है

Tea export business को चाय निर्यात व्यापार से संबोधित कर सकते हैं इंडिया विश्व में चाय उत्पादकों में दूसरा सबसे बड़ा देश है इसलिए यहाँ से चाय निर्यात आसानी से किया जा सकता है | हम इसी लेख में पहले भी बता चुके हैं की चाय दुनियाभर में प्रचलित एक व्यापक पेय है जिसे सभी उम्र के लोगों द्वारा पसंद किया जाता है | चाय में एंटीओक्सिडेंट होने के कारण ये शरीर में रोगों को आने से रोकते हैं दुनिया भर में सबसे अधिक प्रति व्यक्ति चाय का उपभोग टर्की में किया जाता है | एक आंकड़े के मुताबिक 2016 में इंडिया से एक्सपोर्ट होने वाली चाय की मात्रा  216.79 million kg थी | जिसकी वर्ष 2019-20 तक 260 million Kg पहुँचने के आसार लगाये जा रहे हैं इसलिए tea export business में नए उद्यमीयों के लिए भी भरपूर अवसर विद्यमान हैं | बाहरी देशों की चाय की मांग को देखते हुए जब किसी उद्यमी द्वारा वैध तरीके से उन देशों के बाज़ारों तक इंडिया से चाय पहुंचाई जाती है तो उसके द्वारा किया जाने वाला यह व्यापार Tea Export Business कहलाता है |

How to start tea export business in India in Hindi.

इंडिया में Tea export Business शुरू करने के लिए उद्यमी को अनेकों कदम उठाने की आवश्यकता हो सकती है | लेकिन जो इस बिज़नेस को शुरू करने हेतु सबसे अहम सवाल अक्सर पूछा जाता है वह होता है की Tea Export Business के लिए कौन कौन से लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता होती है, इसलिए आगे हम इसी लेख में न केवल इस व्यापार के रजिस्ट्रेशन की बात करेंगे बल्कि क्रमश: उन सभी विषयों के बारे में जानने की कोशिश करेंगे जो चाय निर्यात बिज़नेस से सम्बंधित हों |

  1. सर्वप्रथम बिज़नेस की योजना बनायें

Tea Export Business शुरू करने से पहले उद्यमी को अपने बिज़नेस की सम्पूर्ण योजना तैयार कर लेनी चाहिए | चूँकि इंडिया में अनेकों प्रकार की चाय जैसे ब्लैक टी, रेगुलर टी, ग्रीन टी, हर्बल टी, मसाला टी, लेमन टी  green tea, organic tea इत्यादि का उत्पादन किया जाता है | इसलिए उद्यमी को यह निर्धारित करना होता है की वह किस प्रकार की चाय को एक्सपोर्ट करना चाहता है | उद्यमी को ऐसी स्ट्रेटेजी बनानी होती है जो उसके बिज़नेस को अन्य बिज़नेस से अलग करती हो | उद्यमी को यह भी तय करना होगा की वह कौन कौन से देशों की ओर चाय एक्सपोर्ट करेगा इसके लिए उद्यमी को देशों की एक लिस्ट बनानी चाहिए और विश्लेषण करना चाहिए की प्रत्येक देश में कितनी चाय बेचना उसकी कमाई की द्रष्टी से लाभकारी हो सकता है | उसके बाद सामने आये परिणामों की तुलना करके अधिक आशाजनक देशों को अपने tea export business के लिए चयनित करें | हालांकि उद्यमी द्वारा किया गया विश्लेषण यदि यह भी इंगित करता है की वह  अपने उत्पाद को एक से अधिक देशों में बेच पायेगा तब भी शुरूआती दौर में उद्यमी की कोशिस केवल एक देश में बिज़नेस करने की होनी चाहिए और जैसे जैसे बिज़नेस ग्रो करे वैसे वैसे उद्यमी उसे अन्य देशों की ओर विस्तारित करने की सोच सकता है | Tea Export Business की योजना बनाते समय उद्यमी को डिस्ट्रीब्यूशन चैनल का भी प्लान बनाना होता है | कहने का आशय यह है की वितरण चैनल इस बिज़नेस का एक महत्वपूर्ण कारक है, इसलिए जिन चैनलों के माध्यम से उद्यमी अपनी चाय बेचने का विचार बना रहा हो उन्हें निर्धारित करने के लिए बहुत अधिक सोच विचार की आवश्यकता होती है | उद्यमी अपनी चाय इन्टरनेट पर बेचना चाहता है या किसी अन्य प्लेटफार्म के माध्यम से, यदि उद्यमी चाहता है की उसे आर्डर इन्टरनेट के माध्यम से मिलें तो उसे पेमेंट प्रोसेसर के अलावा डिलीवरी पद्यति इत्यादि भी निर्धारित करनी होगी | अपने Tea Export business की योजना को विकसित करने के लिए उद्यमी को एक अच्छे बिज़नेस प्लान की आवश्यकता होती है |

  1. Tea Export Business के लिए लोकेशन का चुनाव:

यद्यपि tea export business कहीं से भी शुरू किया जा सकता है लेकिन निर्यात को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने देश भर में एग्री एक्सपोर्ट जोन निर्धारित किये हैं इसलिए उद्यमी चाहे तो एग्री एक्सपोर्ट जोन को अपनी बिज़नेस लोकेशन बना सकता है ताकि उसे चाय निर्यात करने में अधिक दिक्कतों का सामना न करने पड़े | एग्री एक्सपोर्ट जोन को सरकार ने एक्सपोर्ट बिज़नेस को करने में आने वाली दिक्कतों को ध्यान में रखते हुए विकसित किया हुआ होता है | इसलिए निर्यात करने में होने वाली जरुरी औपचारिकताओं में बहुत कम समय लगता है |

  1. अपनी कंपनी रजिस्टर करें:

अब यदि उद्यमी द्वारा Tea export business के लिए बिज़नेस लोकेशन का चुनाव कर लिया गया है तो अब उद्यमी का अगला कदम अपनी कंपनी रजिस्टर करने का होना चाहिए | अपनी कंपनी रजिस्टर करने के लिए उद्यमी विभिन्न बिज़नेस Entities में से किसी एक का चयन करके अपनी कंपनी को रजिस्टर करा सकता है | इंडिया में कंपनी खोलने की स्टेप बाई स्टेप प्रक्रिया के लिए पढ़ें |

  1. बिज़नेस के लिए बैंक अकाउंट खोलें:

उद्यमी द्वारा अपनी कंपनी रजिस्टर करा दी गई हो तो अब Tea Export Business शुरू करने के लिए उद्यमी को अपने बिज़नेस के नाम से बैंक अकाउंट खोलने की आवश्यकता होती है | चूँकि उद्यमी को अपने ग्राहकों को अपने बिज़नेस के नाम से ही इनवॉइस देने की आवश्यकता होती है इसलिए खरीदार द्वारा पेमेंट भी उसी नाम से दिया जाता है जिस नाम से बिल दिया गया हो यही कारण है की बिज़नेस के लिए बैंक अकाउंट खोलना जरुरी हो जाता है | इस बारे में विस्तृत जानकारी इस लेख में दी गई है, इंडिया में बिज़नेस के लिए बैंक अकाउंट कैसे खोलें? |

  1. बिज़नेस के नाम से पैन:

इंडिया में किसी भी आयातक एवं निर्यातक के पास पैन (Permanent Account Number) होना अति आवश्यक है | इसलिए उद्यमी का अगला कदम अपने बिज़नेस के लिए पैन अप्लाई करने का होना चाहिए | पैन के लिए कोई व्यक्तिगत व्यक्ति कैसे अप्लाई कर सकता है की जानकारी हमने इस लेख में दी हुई है | इस प्रक्रिया में फर्क इतना है की कंपनी हेतु पैन अप्लाई करने के लिए आवेदक को केटेगरी में कंपनी का चयन करना होगा |

  1. इम्पोर्ट एक्सपोर्ट कोड के लिए अप्लाई करें:

भारत में किसी भी प्रकार का आयात निर्यात बिज़नेस करने के लिए Import Export Code (IEC) का होना अनिवार्य है | इसलिए Tea export Business शुरू करने वाले उद्यमी को अब IEC के लिए आवेदन करना होगा जिसे डायरेक्टर जनरल ऑफ़ फॉरेन ट्रेड द्वारा जारी किया जाता है | एक पैन नंबर के अगेंस्ट केवल एक IEC ही प्रोवाइड किया जाता है | e IEC के लिए उद्यमी ऑनलाइन भी आवेदन कर सकता है इसकी सम्पूर्ण प्रकिया जानने के लिए इम्पोर्ट एक्सपोर्ट कोड के लिए कैसे आवेदन करें नामक यह लेख पढ़ें |

  1. टी बोर्ड से एक्सपोर्टर लाइसेंस लेना:

Tea export Business शुरू करने वाले उद्यमी को इंडिया के टी बोर्ड से एक्सपोर्टर लाइसेंस लेने की भी आवश्यकता हो सकती है | वर्तमान में इस लाइसेंस की फीस 1000 रूपये तय की गई है और यह लाइसेंस तीन सालों के लिए वैध होता है | जिसे तीन साल होने से पहले Renew किया जा सकता है | उद्यमी इस अधिकारिक पोर्टल के माध्यम से Sign Up अर्थात टी बोर्ड में अपने बिज़नेस को रजिस्टर भी करा सकता है |

  1. रजिस्ट्रेशन कम मेम्बरशिप सर्टिफिकेट (RCMC):

फॉरेन ट्रेड पालिसी के अंतर्गत रियायत पाने, ऑथोराइजेसन के लिए अप्लाई करने या अन्य लाभों को प्राप्त करने के लिए उद्यमी के पास Registration Cum Membership Certificate (RCMC) का होना नितांत आवश्यक है | वैसे तो यह प्रमाण पत्र एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल/कमोडिटी बोर्ड/ डेवलपमेंट अथॉरिटी इत्यादि द्वारा जारी किया जाता है लेकिन Tea Export Business में यह टी बोर्ड द्वारा भी जारी किया जा सकता है |

उपर्युक्त सब प्रक्रियाएं करने के पश्चात अब उद्यमी अपना Tea export Business करने के लिए तैयार है, लेकिन अब भी उद्यमी को यह  सुनिश्चित करना होगा की वह चाय सीधे तौर पर Tea Growers से खरीदेगा या किसी सप्लायर का चुनाव करके आर्डर मिलने के मुताबिक उससे चाय की खरीदारी करेगा या फिर अपने पास माल को भंडारित करके रखेगा और आर्डर मिलने पर उसे एक्सपोर्ट कर देगा | इसके अलावा उद्यमी को Tea Export Business करने के लिए Freight Forwarder एवं Custom Clearing Agent का भी चुनाव करना होगा अधिकांश स्थितियों में Custom Clearing का काम भी Freight Forwarder संभाल लेता है |

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य बिज़नेस, लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, बैंकिंग, कैरियर और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *