दस चीजें जो आपको अपना बिजनेस शुरू करने से पहले करनी चाहिए।

कहते हैं की नौकरी से केवल घर की दाल रोटी चल सकती है लेकिन सपने पूरे नहीं हो सकते। यदि व्यक्ति को अपने सपने पूरे करने हों तो उसे बिजनेस करना चाहिए। यद्यपि वर्तमान में यह कहावत कुछ हद तक ही सटीक बैठती है वह इसलिए क्योंकि वर्तमान में लोग नौकरी करके भी न सिर्फ पैसे कमा रहे हैं बल्कि अपने सपने भी पूरे कर रहे हैं। लेकिन इस प्रकार की ये नौकरीयाँ मुट्ठी भर लोगों के पास ही उपलब्ध रहती हैं बाकी लोगों पर उपर्युक्त दी गई कहावत सटीक बैठती है। यही कारण है की अपने सपनों को पूरा करने के लिए प्रत्येक वर्ष भारत में हजारों लोग बिजनेस करने की ओर अग्रसित होते हैं। और वे जानना चाहते हैं की उन्हें खुद,का बिजनेस शुरू करने से पहले ऐसी किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए जिनका अनुसरण करके वे अपने बिजनेस के असफल होने के जोखिम को कुछ हद तक कम कर सकें। क्योंकि एक आंकड़े के मुताबिक भारत में प्रत्येक दस नए बिजनेस में से केवल एक बिजनेस ही ऐसा है जो सफल होता है। बाकी नौ के नौ बिजनेस पांच सालों के भीतर भीतर असफल हो जाते हैं। यही कारण है की अकसर बिजनेस करने का इच्छुक उद्यमी यही जानने की ओर प्रयत्नशील रहता है की उसे बिजनेस करने से पहले किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए। या ऐसी कौन सी जरुरी चीजें हैं जो उद्यमी को खुद का बिजनेस शुरू करने से पहले करनी चाहिए।

Things-to-do-before-starting-a-business-in-India-

1. उत्पाद या सेवा का आकलन करें:

ध्यान रहे दुनिया में वही चीज या सेवा बिकती है जिसकी लोगों को आवश्यकता हो यानिकी वह किसी न किसी रूप में लोगों की कुछ न कुछ सहायता कर रही हो। इसलिए खुद का बिजनेस शुरू करने से पहले उद्यमी को उसके द्वारा उत्पादित किये जाने वाले उत्पाद या दी जाने वाली सर्विस का आकलन किया जाना अति आवश्यक है। इसमें उद्यमी को खुद से कुछ प्रश्न जैसे उसका उत्पाद या सेवा लोगों की किस तरह से मदद करेगा? और ऐसे कौन से लोग होंगे जो उसके उत्पाद या सेवा को खरीदेंगे? और वह अपने बिजनेस का परिचालन कैसे करेगा? ताकि उसका बिजनेस वित्तीय तौर पर मजबूत स्थिति में आ सके। क्योंकि उद्यमी द्वारा अपने ग्राहकों को प्रदान की जाने वाली उत्पाद या सेवा के बलबूते ही उद्यमी खुद की कमाई कर पाने में सक्षम हो पायेगा। इसलिए खुद का बिजनेस करने से पहले व्यक्ति को अपने द्वारा उत्पादित उत्पाद या सेवा का आकलन करना चाहिए।     

2. बाजार को पूर्ण रूप से समझें और ग्राहक पर ध्यान दें:

दुनिया में ऐसी कम्पनियों के अनेकों उदाहरण मिल जायेंगे जिनके पास सबसे अच्छा उत्पाद या सेवा नहीं है। या फिर वे बाजार में पहले नंबर पर नहीं हैं लेकिन इन सबके बावजूद वे बहुत सफल हैं। क्योंकि उन्हें अच्छी तरह से विदित है की ग्राहकों को दी जाने वाली सेवा या उत्पाद कितनी भी अच्छी हो, लेकिन यदि सेल्स एवं मार्केटिंग रणनीति बाजार एवं ग्राहकों के अनुरूप नहीं होगी तो उद्यमी को बिजनेस में अधिक सफलता मिलने की संभावना नहीं है। इसलिए बिजनेस शुरू करने से पहले उत्पाद की आंतरिक अवधारणा के प्रमाण प्राप्त करने के लिए आप बहुत से संभावित ग्राहकों से बात कर सकते हैं। लेकिन कभी कभी ग्राहक भी यह स्पष्ट नहीं करते हैं की वे चाहते क्या हैं? इसलिए इस विषय पर सोशल मीडिया के द्वारा प्रतिक्रियाएं लेने के लिए एक फेसबुक पेज बनाया जा सकता है। और बिजनेस करने से पहले आंशिक ग्राहक एवं बाजार को अच्छी तरह समझा जा सकता है।            

3. छोटे से शुरू करने का प्लान बनायें:

जैसा की इस लेख में हम पहले भी बता चुके हैं की नए बिजनेस में सफलता की दर केवल 10% ही है बाकी 90% बिजनेस ऐसे हैं जो पांच सालों के भीतर भीतर बंद होने की कगार पर पहुँच जाते हैं। इसलिए ध्यान रहे बिजनेस शुरू करने से पहले छोटे स्तर पर इसे शुरू करने की योजना बना लें। ताकि यदि बिजनेस में असफलता भी हाथ लगी तो उद्यमी को बहुत अधिक नुकसान न उठाना पड़े। कहने का अभिप्राय यह है की यदि संभव हो तो शुरूआती दौर में उद्यमी को केवल उतने ही पैसों से बिजनेस शुरू करने की सोचनी चाहिए जितने पैसे वह आसानी से निवेश कर सके। बैंक या वित्तीय संस्थानों से ऋण लेकर, या किसी फंडिंग स्रोत की मदद लेकर बिजनेस नहीं करना चाहिए। हाँ जब आपको बिजनेस चलाते हुए कुछ समय बीत जाता है और आपको लगता है की आप इसे आगे बढ़ा सकते हैं। तो तब आप किसी ऋण या फंडिंग स्रोत की मदद ले सकते हैं। इसलिए बिजनेस को छोटे से शुरू कर बड़ा करने की योजना बनायें।    

4. अपनी शक्ति, कौशल एवं उपलब्ध समय को समझें:

बिजनेस शुरू करने से पहले जिस प्रकार का आप बिजनेस शुरू करने जा रहे हैं क्या उसके लिए आप एकदम तैयार है। इस कसौटी पर खुद को तौलने के लिए अपनी शक्ति, कौशल एवं अपने पास उपलब्ध समय को समझें। शक्ति से हमारा आशय उद्यमी की उस बिजनेस के प्रति मजबूत इच्छाशक्ति से है ।   

5. एक उपदेशक पायें:

ध्यान रहे बिजनेस करने वाला व्यक्ति चाहे कितना भी सेल्फ मोटीवेटेड हो लेकिन बिजनेस में कई मौके ऐसे आते हैं जब उसका भी आत्मविश्वास खुद पर से डिग सकता है । और इस स्थिति में वह हारकर बिजनेस को बंद करने जैसा कदम उठा सकता है। इसलिए यदि आप चाहते हैं की आप बिजनेस में आने वाले कठिन से कठिन समय में भी आत्मविश्वास से ओत प्रोत रहें तो आपको खुद का बिजनेस शुरू करने से पहले किसी ऐसे उपदेशक की तलाश करनी होगी । जिन्हें स्टार्टअप से सम्बंधित उचित अनुभव हो और वह आपके अन्दर उठ रही चिंगारी को ज्वाला में तब्दील कर पाने में सक्षम हो। अक्सर लोग इस तरह के उपदेशको/गुरुओं के पास तब जाते हैं जब उनके बिजनेस में कोई ऊँच नीच हो जाती है जिस कारण वे इतने तनाव में रहते हैं की एक प्रभावी उपदेशक या बिजनेस मेंटर के लिए भी उन्हें दुबारा बिजनेस की ओर उत्साहित करना बड़ा कठिन हो जाता है। इसलिए उद्यमी को चाहिए की वह खुद का बिजनेस शूरू करने से पहले ही किसी अच्छे बिजनेस मेंटर से दीक्षा प्राप्त करे।   

6. बिजनेस प्लान बनायें:

जैसा की हम सबको विदित है की एक बिजनेस शुरू करना कठिन एवं जोखिम भरा होता है इसलिए चाहे बिजनेस कितना ही छोटा क्यों न हो, उसकी योजना लिखित में बना लेना बेहतर होता है। यह एक ऐसा दस्तावेज होता है जिसमें बिजनेस में आने वाली अनुमानित लागत एवं कमाई का उल्लेख तो होता ही होता है। साथ में अनुमानित परिणामों एवं लक्ष्यों का भी उल्लेख होता है जिससे समय समय पर उद्यमी को पता चलता रहता है की उसका बिजनेस ठीक दिशा में जा रहा है या नहीं। यही कारण है की एक बिजनेस प्लान उद्यमी के आईडिया को ठोस रूप से जमीन पर उतारने में मदद करेगा और जहाँ भी जरुरी हो उद्यमी समय के आधार पर इसमें बदलाव कर सकता है। इसलिए खुद का बिजनेस शुरू करने से पहले एक प्रभावी बिजनेस प्लान अवश्य बनायें ।

  7. अपने बिजनेस के प्रति जूनून रखें:

ध्यान रहे किसी भी उद्यमी को किसी की देखादेखी के चलते कोई भी बिजनेस शुरू नहीं करना चाहिए बल्कि आप वही बिजनेस शुरू करें जिसे आप हर हाल में शुरू करना चाहते हैं । यानिकी जिस काम के प्रति आपमें जूनून सवार हो। क्योंकि खुद का बिजनेस शुरू करने के बाद व्यक्ति के पास अपने परिवार इत्यादि को देने के लिए शायद वक्त की कमी पड़ सकती है इसलिए कभी कभी वह खुद को बेहद अकेला महसूस कर सकता है । इसलिए ध्यान रहे यदि आपका अपने बिजनेस के प्रति जूनून नहीं होगा तो आपका जीवन काफी कठिन बन सकता है। इसलिए बिजनेस शुरू करने से पहले यह अवश्य जान लें की आप जो करने जा रहे हैं उसके प्रति आपका जूनून है या नहीं।   

8. किसी बिजनेस पार्टनर को ढूंढें:

पार्टनरशिप में बिजनेस करने से जिम्मेदारियाँ एवं जोखिम दोनों बंट जाते हैं इसलिए खुद का नया बिजनेस शुरू करने से पहले कोई उपयुक्त पार्टनर अवश्य तलाशें। पार्टनरशिप से न केवल जिम्मेदारियाँ एवं जोखिम कम किये जा सकते हैं बल्कि नए नए विचारों के आवागमन को भी बढ़ावा मिलता है। इसलिए बिजनेस शुरू करने से पहले यदि कोई बेहतर पार्टनर मिल जाय तो बिजनेस की दृष्टि से अच्छा रहता है।  

9. कॉर्पोरेट लॉयर से सलाह लें:

कल्पना कीजिये की आपका बिजनेस अच्छा चलने लगा है और बीच में कोई अधिकृत व्यक्ति आपसे आकर कहता है की आपने यह काम नहीं किया, और आपको पेनल्टी या बिजनेस बंद करने की चेतावनी देकर चला जाता है । उस समय आप यही सोचेंगे की काश उस समय यह काम भी नियम कानूनों के मुताबिक कर दिया होता तो आज ऐसा नहीं होता। कहने का अभिप्राय यह है की भले ही पेनल्टी इत्यादि चुकता करके आप अपने बिजनेस को बचा लेते हैं लेकिन इस बात से आपकी मन: शान्ति डिस्टर्ब होती है जिसका सीधा असर आपके बिजनेस पर पड़ता है। इसलिए बेहतर यही है की बिजनेस शुरू करने से पहले किसी कॉर्पोरेट लॉयर से सलाह अवश्य लें । ताकि बिजनेस सम्बन्धी सभी लीगल कार्य जैसे लाइसेंस, रजिस्ट्रेशन, परमिशन सभी कुछ कानून एवं नियमों के मुताबिक हों।

10. अपने बिजनेस के लिए डोमेन नाम पहले ही बुक करा लें:

बिजनेस रजिस्ट्रेशन या बिजनेस शुरू करने से पहले अपने बिजनेस के लिए डोमेन नाम अवश्य बुक करा लें। क्योंकि बिजनेस स्टार्ट करने के बाद हो सकता है की आपको आपके बिजनेस के मुताबिक डोमेन न मिले । चूँकि वर्तमान में किसी भी तरह के बिजनेस की ऑनलाइन उपस्थिति बेहद जरुरी हो गई है इसलिए बिजनेस कर रहे उद्यमी को अपने बिजनेस की वेबसाइट बनानी ही बनानी होगी । और इसके लिए उसे उसके बिजनेस के नाम के मुताबिक डोमेन नाम की आवश्यकता होगी इसलिए बेहतर यही होता है की बिजनेस शुरू करने से पहले डोमेन नाम अवश्य बुक करा लें।

यह भी पढ़ें

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य बिज़नेस, लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, बैंकिंग, कैरियर और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *