Vegetable Business Sabji Ka Vyapar Kaise Shuru Kare.

Vegetable business को सब्जी का व्यापार या कारोबार भी कह सकते हैं, कम निवेश के साथ शुरू किये जा सकने वाले बिज़नेस की लिस्ट में यह भी सम्मिलित है | इंडिया में रिटेल में सब्जी की अधिकतर खरीदारी पटरी रेहड़ियों या सड़क किनारे उपलब्ध सब्जी की दुकानों से की जाती है | इसलिए जब भी कोई व्यक्ति सब्जी से समबन्धित बिज़नेस करने की सोचता है तो कम निवेश के साथ शुरू किये जाने वाले Vegetable Business ideas में सबसे पहले सड़क के किनारे सब्जी की दुकान खोलने का आईडिया ही उसके दिमाग में आता है | हालांकि यह तो हम सब जानते हैं की साग सब्जी दैनिक उपयोग में लायी जाने वाले ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जिनका उपयोग हर घर में हर दिन कई कई बार होता है | इसलिए हर वो जगह जहाँ मनुष्य निवासित है में Vegetable Business को स्टार्ट किया जा सकता है | कहने का आशय यह है की साग सब्जी की जरुरत हर एक मनुष्य प्राणी को है और अधिकतर सब्जियां उपयुक्त व्यवस्था न मिलने के कारण ट्रांसपोर्ट के दौरान खराब हो सकती हैं इसलिए सब्जी का व्यापार शुरूआती दौर में स्थानीय उत्पादन एवं स्थानीय मांग को देखकर ही किया जाना लाभकारी होता है | आज हम हमारे इस लेख Vegetable Business in Hindi के माध्यम से सब्जी का बिज़नेस या व्यापार शुरू करने की प्रक्रिया के बारे में समझने की कोशिश करेंगे |

vegetable business

Vegetable business in Hindi (सब्जी का व्यापार):

Vegetable business यानिकी सब्जी के व्यापार की बात करें इसमें केवल फूटकर विक्रेता के तौर पर सब्जी बेचना ही सम्मिलित नहीं है बल्कि थोक के रूप में सब्जी बेचना, किसानों से सब्जी खरीदना, सब्जी का उत्पादन करना इत्यादि भी सब्जी के बिज़नेस में सम्मिलित हैं | साग सब्जियों की मनुष्य के स्वास्थ्य को स्वस्थ रखने में बड़ी अहम भूमिका होती है इसलिए प्रतिदिन प्रत्येक व्यक्ति द्वारा किसी न किसी रूप में इनका सेवन अवश्य किया जाता है | चूँकि साग सब्जियों की मांग हर स्थानीय मार्केट में हर दिन रहती है इसलिए जब भी किसी व्यक्ति द्वारा अन्य लोगों की इस मांग की आपूर्ति के लिए उपर्युक्त में से कोई भी Vegetable business ideas जैसे फूटकर में बेचना, थोक में बेचना, किसानों से खरीदना या इनका उत्पादन करना अपनाया जाता है | तो उस व्यक्ति द्वारा किया जाने वाला यह बिज़नेस सब्जी का व्यापार या कारोबार कहलाता है |

Vegetable business कैसे शुरू करें?

Vegetable business शुरू करने से पहले व्यक्ति को इस व्यापार में आने वाली कठिनाइयों से कैसे निबटा जायेगा के बारे में सोचना नितांत आवश्यक है | जैसा की हम सबको विदित है की अधिकतर साग सब्जियां एक निश्चित समयावधि के बाद गलने सड़ने लगती हैं | इस परेशानी से निबटने के लिए उद्यमी क्या करेगा यह उद्यमी को पहले ही पता होना चाहिए, ताकि वह अपने इस बिज़नेस को सफलतापूर्वक चलाकर अपनी कमाई कर सकने में सक्षम हो | अपना Vegetable business शुरू करने के लिए उद्यमी को और भी प्रक्रियाएं करनी पड़ती हैं जिनका वर्णन हम निम्नवत करेंगे |

  1. वेजिटेबल बिज़नेस आइडियाज का चुनाव करें:

जैसा की हमने उपर्युक्त वाक्य में भी बताया हुआ है की फूटकर में सब्जी बेचना, थोक में सब्जी बेचना, किसानों से सब्जी खरीदना या फिर सब्जी का उत्पादन करना ये सभी बिज़नेस Vegetable Business ideas में सम्मिलित हैं | इसलिए सबसे पहले उद्यमी को यह तय करना होता है की वह सब्जी का कौन सा बिज़नेस करना चाहता है | हालांकि यदि उद्यमी को कृषि क्षेत्र या साग सब्जियों की अधिक जानकारी न हो तो उसे शुरूआती दौर में सब्जियों का फूटकर बिज़नेस करना चाहिए | क्योंकि सब्जियों का फूटकर बिज़नेस एक ऐसा बिज़नेस है जिसमे उद्यमी को शुरूआती दौर में पंजीकरण, लाइसेंस, परमिशन इत्यादि की आवश्यकता नहीं होती है और इसे शुरू करने में भी अन्य सब्जियों से समबन्धित बिज़नेस की तुलना में कम पैसे लगते हैं | और जब उद्यमी को Vegetable business समबन्धी पूर्ण जानकारी हो जाय तो वह अपने बिज़नेस को विस्तृत करते हुए थोक में सब्जियां बेचने का काम भी शुरू कर सकता है लेकिन इसके लिए उद्यमी को ट्रेड लाइसेंस, कर पंजीकरण इत्यादि की आवश्यकता हो सकती है | यद्यपि सब्जी से सम्बंधित अलग अलग बिज़नेस शुरू करने के लिए अलग अलग प्रक्रियाएं करनी पड़ सकती हैं लेकिन यहाँ पर हम फूटकर सब्जी बेचने का बिज़नेस शुरू करने की प्रक्रिया के बारे में जानने की कोशिश कर रहे हैं |

  1. बिज़नेस लोकेशन का चुनाव करें :

हालांकि कुछ उद्यमियों द्वारा फूटकर सब्जी बेचने का बिज़नेस रेहड़ी को, वाहन को गली गली घुमाकर भी किया जाता है जिसके लिए उद्यमी को एक निश्चित बिज़नेस लोकेशन की आवश्यकता नहीं होती है | लेकिन रेहड़ी या वाहन न लगाकर यदि उद्यमी किसी एक स्थान से Vegetable business करना चाहता हो तो उसे एक बेहद अच्छी बिज़नेस लोकेशन की आवश्यकता होती है | हर छोटे बड़े शहर में एक सब्जी मंडी अवश्य होती है जहाँ से उस शहर भर में सब्जी का वितरण किया जाता है इस बड़ी सब्जी मंडी में अधिकतर थोक विक्रेता सम्मिलित होते हैं और प्राय: यह देखा गया है की इस तरह की ये सब्जी मंडीयां सुबह सुबह कुछ ही घंटों के लिए खुली रहती हैं | सब्जी का थोक व्यापार शुरू करने के लिए ऐसी ही लोकेशन उपयुक्त मानी गई है लेकिन जब बात फूटकर सब्जी बेचने अर्थात रिटेल की आती है तो हर शहर के हर कॉलोनी में एक सब्जी मंडी होती है जहाँ से स्थानीय लोग अपनी दैनिक आवश्यकताओं के आधार पर सब्जी खरीदते हैं | इसलिए इस स्थिति में कॉलोनी की स्थानीय सब्जी मंडी भी Vegetable Business के लिए उपयुक्त लोकेशन मानी जा सकती है |

  1. बजट का प्रावधान करें:

अब चूँकि उद्यमी द्वारा सब्जी से जुड़े बिज़नेस में से बिज़नेस का चुनाव एवं लोकेशन का चयन कर लिया होगा, इसलिए अब उद्यमी का अगला कदम अपने Vegetable Business के लिए बजट का प्रावधान करके वित्त का प्रबंध करने का होना चाहिए | इस बिज़नेस को शुरू करने में मुख्य खर्चा दुकान का किराया एवं सब्जी खरीदने में आने वाली लागत है | अपने बिज़नेस के लिए बजट का प्रावधान करने से पहले उद्यमी चाहे तो चयनित बिज़नेस लोकेशन को कुछ दिन मॉनिटर करके यह अनुमान लगा सकता है की उस लोकेशन पर अधिक बिकने वाली सब्जियां कौन कौन सी हैं ताकि वह शुरूआती दौर में सिर्फ उन्हीं सब्जियों को अपने बिज़नेस का हिस्सा बना सके जो जल्दी जल्दी बिक जाएँ |

  1. सप्लायर के साथ डील करें:

Vegetable business शुरू करने की ओर उद्यमी का अब अगला कदम अपनी सब्जी की दुकान में सब्जी भरने का होना चाहिए | इसके लिए उद्यमी चाहे तो किसी सप्लायर के साथ डील कर सकता है जो उसे वाजिब कीमतों में सब्जियां उपलब्ध करा सके | इसके अलावा सही सप्लायर न मिलने की स्थिति में उद्यमी हर सुबह उस शहर की बड़ी मंडी से भी सब्जियां खरीदकर अपनी दुकान में भर सकता है और उन्हें स्थानीय लोगों को बेचकर फिर से यही प्रक्रिया दोहरा सकता है | वर्तमान में गली कुचों में उपलब्ध अधिकतर फूटकर सब्जी विक्रेता उस शहर की मंडी से ही सब्जियां खरीदते हैं और उन्हें उसी शहर के कॉलोनीवासियों को बेचकर लाभ कमाकर अपनी कमाई करते हैं | जहाँ तक सब्जी के थोक विक्रेताओं का सवाल है वो या तो देश की बड़ी मंडियों से माल मंगवाते हैं या फिर डायरेक्ट किसानों के साथ डील करके भी सब्जियां खरीदते हैं |

  1. स्टोर रूम की स्थापना या चुनाव :

शुरूआती दौर में Vegetable business कर रहे छोटे व्यापारियों को यह सब करने की आवश्यकता इसलिए नहीं होती क्योंकि वे नियमित रूप से शहर की सबसे बड़ी सब्जी मंडी से सब्जियां खरीदते हैं | लेकिन ऐसे उद्यमी जिनके एक शहर में एक से अधिक सब्जी की फूटकर दुकानें हों उन्हें सब्जी को भंडारित करने के लिए स्टोर रूम की भी आवश्यकता हो सकती है | ऐसे में उद्यमी को स्टोर रूम ऐसी जगह पर स्थापित करना होता है जहाँ से उसकी सभी सब्जी की दुकानों में सब्जियां आराम से पहुंचाई जा सकें | यह कदम उद्यमी को तब उठाना चाहिए जब उसे लगता हो की दुकान में उतनी सब्जियां रखने की जगह नहीं है जितनी उनकी मांग है या फिर उद्यमी के पास सब्जी की एक से अधिक दुकान उसी शहर में उपलब्ध हो | स्टोर रूम का तापमान सब्जियां ख़राब न हो की दृष्टी से प्रबंधित किया जाना बेहद जरुरी होता है ताकि उद्यमी अधिक लाभ अर्जित कर सके | इसके अलावा उद्यमी चाहे तो उस एरिया में स्थित कोल्ड स्टोरेज का पता लगाकर उनसे अपनी बिज़नेस सम्बन्धी डील करे कोल्ड स्टोरेज में सब्जियां अधिक समय तक सुरक्षित रखी जा सकती हैं | और जिस मौसम में उनका उत्पादन नहीं होता उस मौसम में उने बेचकर अधिक कमाई की जा सकती है | साग सब्जियों की डिमांड सर्वत्र है, इसलिए Vegetable business को तरीके से शुरू किया जाए तो इसमें कमाई करने की भरपूर संभावनाएं व्याप्त हैं |

Vegetable Business शुरू करने में आने वाला खर्चा एवं कमाई:

ध्यान रहे यह एक ऐसा बिज़नेस है जिसे शुरूआती दौर में शुरू करने के लिए कितने पैसे लगेंगे यह महत्वपूर्ण नहीं है | कहने का आशय यह है की यदि व्यक्ति चाहे तो इस बिज़नेस को रूपये 10000 से भी शुरू कर सकता है | रूपये दस हज़ार से Vegetable business शुरू करने के लिए उद्यमी को साधारण सा बिज़नेस मॉडल जिसमे उद्यमी एक जगह दो तीन हज़ार रूपये में दुकान लेकर हर सुबह शहर की सबसे बड़ी मंडी से 5-6 हज़ार की सब्जियां खरीदकर उन्हें बेच सकता है और इस तरह बेचीं गई सब्जियों के पैसों से और सब्जियां खरीदकर उन्हें फिर से बेच सकता है और यह प्रक्रिया बार बार दोहरा कर लाभ की कमाई कर सकता है | कमाई कितनी होगी यह व्यक्ति की होने वाली बिक्री पर निर्भर करेगी क्योंकि सब्जी का बिज़नेस ऐसा बिज़नेस है जितनी जल्दी बिक गया उतना ज्यादा लाभ |

सब्जी के बिज़नेस के लिए कुछ और टिप्स:

Vegetable business शुरू कर रहे उद्यमी को शुरूआती दौर में निम्न टिप्स का अनुसरण करना चाहिए जिससे वह अपने कारोबार को सफल बनाने में कामयाब हो सके |

  • उद्यमी को सब्जियों की जानकारी जैसे सब्जियों की वैरायटी, उनके खराब होने का समय, आकार, रंग की जानकारी होना नितांत आवश्यक है | ताकि उद्यमी अपने इस स्किल का उपयोग सब्जी खरीदने एवं बेचने दोनों स्थितियों में कर सके |
  • सब्जियों की गुणवत्ता की पहचान होना भी आवश्यक है यदि उस ग्राहक की जो उद्यमी की दुकान से सब्जी ले गया है सब्जी घर जाने के तुरंत बाद या एक दो दिन बाद भी ख़राब हो गई तो वह ग्राहक उसकी दुकान पर दुबारा कभी नहीं आएगा | इसलिए Vegetable Business करने वाले व्यक्ति को चाहिए की वह गुणवत्ता युक्त सब्जियां ही अपनी दुकान पर रखे जो चार पांच दिनों तक चल सकें |
  • आजकल हर ग्राहक कुछ न कुछ डिस्काउंट की अपेक्षा दुकानदार से रखता है इसलिए उद्यमी को कुछ ऐसी डिस्काउंट योजना बनानी चाहिए जिससे उसकी दुकान पर बार बार आने वाले ग्राहकों को फायदा हो |
  • शुरूआती दौर में ग्राहक बनाने के लिए उद्यमी को चाहिए की वह अपना प्रॉफिट निकाले लेकिन कम निकाले | क्योंकि जब ग्राहक पूर्ण रूप से संतुष्ट होते हैं तो वे बार बार उसी सब्जी की दुकान पर जाना पसंद करते हैं जिससे उद्यमी की कमाई पहले के मुकाबले अधिक होती है |
  • Vegetable business को शुरूआती दौर में बेहद कम निवेश के साथ शुरू करना चाहिए, इसलिए स्टोर रूम इत्यादि की स्थापना नहीं करनी चाहिए | यहाँ तक की उतनी ही सब्जियां सप्लायर या सब्जी मंडी से खरीदनी चाहिए जितनी एक दो दिन में बिकने की सम्भावना हो |

अन्य सम्बंधित लेख:

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य बिज़नेस, लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, बैंकिंग, कैरियर और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *