बिजनेस या स्टार्टअप के लिए पैसे जुटाने के 9 बढ़िया तरीके।

how to raise fund for business

किसी भी स्टार्टअप या बिजनेस आईडिया को साकार रूप प्रदान करने के लिए पैसे की आवश्यकता होती है। इसलिए यदि पैसे को बिजनेस की रक्त रेखा कहा जाय, तो इसमें कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी। हाल ही में हुए अध्यनों से पता चलता है की, जो स्टार्टअप शुरू किये जाते हैं, उनमें से लगभग 90% से … Read more

Difference between Angel Investors and Venture Capitalist in Hindi.

difference-between-angel-investor-and-venture-capital

Angel Investors और Venture Capitalist पर बात करना इसलिए जरुरी हो जाता है क्योंकि स्टार्टअप एवं नई नई इकाइयों को फण्ड प्रदान करने में इनकी अहम् भूमिका होती है | और इनके बारे में हम अपने पिछले लेखों के माध्यम से वार्तालाप कर भी चुके हैं लेकिन अक्सर होता क्या है की लोगों के बीच … Read more

वेंचर कैपिटल [Venture Capital] क्या है? और कैसे प्राप्त करें |

Venture-Capital-deal

Venture Capital का अर्थ हम इस बात से समझ सकते हैं की स्टार्ट अप कंपनियों या अन्य चालित कंपनियों को अपना बिज़नेस विस्तारित अर्थात बढ़ाने के लिए एक निश्चित मात्रा में फण्ड की आवश्यकता होती है | कंपनी के लाभ कमाने की क्षमता को देखते हुए संपन्न निवेशक अर्थात जिनके पास निवेश करने को पैसा … Read more

एंजेल इन्वेस्टर [Angel Investors] कौन होते हैं? और स्टार्टअप को कैसे मदद करते हैं|

Angel-Investors-information-in-hindi

शायद भारतवर्ष में बहुत कम लोग Angel Investors के बारे में जानते होंगे क्योंकि जब भी वह व्यक्ति जो उद्यमी बनने को आतुर अपने बिज़नेस के लिए वित्त का प्रबंध करने की सोचता है तो उसके अंतर्मन में सरकार द्वारा चलाई जाने वाली विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत ऋण, बैंकों से ऋण या फिर किसी अन्य … Read more

क्राउड फंडिंग क्या है? इससे पैसे कैसे जुटाएँ | What is Crowd funding in Hindi.

Crowd-Funding-information-in-hindi

Crowd funding जैसा की नाम से ही प्रतीत होता है की भीड़ द्वारा एकत्रित किया हुआ पैसा जी हाँ दोस्तों अंग्रेजी के शब्द Crowd का अर्थ हिन्दी में भीड़ एवं funding का अर्थ पैसे एकत्रित करने से लगाया जा सकता है | अक्सर आपने कभी न कभी अपने जीवनकाल में देखा होगा की कभी कभी … Read more

जिला उद्योग केंद्र की लोन योजनाएँ, लक्ष्य, कार्य पात्रता और आवेदन प्रक्रिया |

जिला उद्योग केंद्र के कार्य

जिला उद्योग केंद्र कार्यक्रम की शुरुआत सन 1978 में केंद्र सरकार द्वारा लघु, छोटे, कुटीर और ग्रामोद्योग को केंद्र बिंदु में रखकर की गई थी | इसका उद्देश्य इन उद्योगों को किसी विशिष्ट क्षेत्र के अंतर्गत प्रोत्साहन और इन उद्योगों की जरूरतों के अनुसार सेवाएं एवम मदद किसी एक जगह से देने का है | … Read more